करवा चौथ कहानी 2018 पूजा विधी शुभ मुहर्त

Latest Update News for Karva Chauth Festival Moon Rising time : The Day of 27 october Karva Chauth Moonrise Time at 08 : 08 PM in Jaipur (Rajasthan) . So All Married and Unmarried Women are alert Look at Karva Chauth Chand . And Other Statewise Karva Chauth Moon Rising Time Detail Given Below Link Click on Get Karva Chauth Moon Rise Time for All State in india and Out of Countary .

यहाँ क्लिक करे - करवा चौथ के दिन चाँद उदय होने का सही समय भारत व् अन्य देश में |

करवा चौथ व्रत 2018 : करवा चौथ का व्रत महिलाओं का अत्यधिक खाश व्रत हैं | करवा चौथ व्रत 27 अक्टूबर 2017 शनिवार को हैं |करवा चौथ का व्रत कार्तिक हिन्दु माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दौरान किया जाता है। करवा चौथ के व्रत का सुहागिन (शादीशुदा ) महिलाओं के जीवन में बड़ा ही महत्व हैं | शादीशुदा महिलाएं शोभाग्यवती होने के लिए करवा चौथ का व्रत करती हैं | करवा चौथ के दिन महिलाऐं दिन भर भूखे रहकर यह व्रत करती हैं और अपने पति की लम्बी आयु की कामना करती हैं | रात्रि को चन्द्रमा दिखने के बाद, चन्द्रमा को अर्ग्य दिया जाता है और फिर अपने पति के हाथों से पानी पीकर करवा चौथ का व्रत खोला जाता हैं |


करवा चौथ पर्व तिथि व पूजा मुहूर्त 2018

Karva Chouth 2018

  • 27 अक्टूबर को करवा चौथ पूजा के लिए पूरी अवधि 1 घंटे और 18 मिनट है।
  • करवा चौथ पूजा का समय शाम 05:44 pm पर शुरू होगा।
  • शाम 7:01 pm पर करवा चौथ पूजा करने का समय खत्म होगा।

करवा चौथ पूजा विधि (Karwa Chauth Puja Vidhi)

karva-chouth-ki-thali-pooja

करवा चौथ की पूजा (Karwa Chauth Puja Vidhi) करने के लिए बालू या सफेद मिट्टी की एक वेदी बनाकर भगवान शिव- देवी पार्वती, स्वामी कार्तिकेय, चंद्रमा एवं गणेशजी को स्थापित कर उनकी विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए। पूजा के बाद करवा चौथ की कथा सुननी चाहिए तथा चंद्रमा को अर्घ्य देकर छलनी से अपने पति को देखना चाहिए। पति के हाथों से ही पानी पीकर व्रत खोलना चाहिए। इस प्रकार व्रत को सोलह या बारह वर्षों तक करके उद्यापन कर देना चाहिए। पूजा की कुछ अन्य रस्मों में सास को बायना देना, मां गौरी को श्रृंगार का सामान अर्पित करना आदि शामिल है।


करवा चौथ की कहानी | Karwa Chauth Story in hindi

karva chauth ki katha : एक नगर मे एक साहूकार रहता था। उसके सात लड़के और एक लड़की थी । कार्तिक महीने मे जब कृष्ण पक्ष की चतुर्थी आई, तो साहूकार के परिवार की महिलाओ ने भी करवा चौथ व्रत रखा। जब रात्री के समय साहूकार के बेटे भोजन ग्रहण करने बैठे, तो उन्होने साहूकार की बेटी (अपनी बहन) को भी साथ मे भोजन करने के लिए कहा। भाइयो के द्वारा भोजन करने का कहने पर उनकी बहन ने उत्तर दिया, कि आज मेरा व्रत है। मै चाँद के निकलने पर पूजा विधि सम्पन्न करके ही भोजन करूंगी। भाइयो के द्वारा बहन का भूख के कारण मुर्झाया हुआ चेहरा देखा नहीं गया| उन्होने अपनी बहन को भोजन कराने के लिए प्रयत्न किया। उन्होने घर के बाहर जाकर अग्नि जला दी।

उस अग्नि का प्रकाश अपनी बहन को दिखाते हुये कहा की देखो बहन चाँद निकाल आया है। तुम चाँद को अर्ध्य देकर और अपनी पूजा करके भोजन गृहण कर लो। अपने भाइयो द्वारा चाँद निकलने की बात सुनकर बहन ने अपनी भाभीयों के पास जाकर कहा। भाभी चाँद निकल आया है चलो पूजा कर ले। परंतु उसकी भाभी अपने पतियों द्वारा की गयी युक्ति को जानती थी। उन्होने अपनी नन्द को भी इस बारे मे बताया और कहा की आप भी इनकी बात पर विश्वास ना करे। परंतु बहन ने भाभीयों की बात पर ध्यान ना देते हुये पूजन संपन्न कर भोजन गृहण कर लिया। इस प्रकार उसका व्रत टूट गया और गणेश जी उससे नाराज हो गए।
इसके तुरंत बाद उसका पति बीमार हो गया और घर का सारा रुपया पैसा और धन उसकी बीमारी ने खर्च हो गया। अब जब साहूकार की बेटी को अपने द्वारा किए गए गलत vrat का पता चला तो उसे बहुत दुख हुआ। उसने अपनी गलती पर पश्चाताप किया । अब उसने पुनः पूरे विधि विधान से व्रत का पूजन किया तथा गणेश जी की आराधना की।
इस बार उसके व्रत तथा श्रध्दा भक्ति को देखते हुये भगवान गणेश उस पर प्रसन्न हो गए। उसके पति को जीवन दान दिया और उसके परिवार को धन तथा संपत्ति प्रदान की। इस प्रकार जो भी श्रध्दा भक्ति से इस करवा चौथ के व्रत को करता है, वो सारे सांसारिक क्लेशो से मुक्त होकर प्रसन्नता पूर्वक अपना जीवन यापन करता है ।


करवा चौथ 2018 चाँद के उदय होने का समय | Karva Chauth Moon Rising time

Karva Chauth Moon Rising time

करवा चौथ के दिन चंद्रोदय का समय शाम 08 :08 pm होगा। करवा चौथ के दिन चंद्रमा उदय होने का समय सभी महिलाओं के लिए बहुत महत्व का है | जब तक चाँद नहीं उगता हैं सभी महिलाओं की चाँद के उपर ही निगाहे रहती हैं | क्योंकि वे अपने पति की लम्बी उम्र के लिये पूरे दिन (बिना पानी के) व्रत रखती हैं। वे केवल उगते हुये पूरे चाँद को देखने के बाद ही पानी पी सकती हैं। ये माना जाता है कि, चाँद देखे बिना व्रत अधूरा है और कोई महिला न कुछ भी खा सकती हैं और न पानी पी सकती हैं। करवा चौथ व्रत तभी पूरा माना जाता है जब महिला उगते हुये पूरे चाँद को छलनी में घी का दिया रखकर देखती है और चन्द्रमा को अर्घ्य देकर अपने पति के हाथों से पानी पीती है |


करवा चौथ की थाली को सजाने के टिप्स | Karva Chauth Thali

karva-chouth-ki-thali

  1. एक स्‍टील या ब्रास की थाली लीजिये। यदि आप उसे कलर कर सकती हैं तो बहुत अच्छा है नहीं तो लाल रंग के पेपर को चिपका दें। औरइसमें स्‍वास्‍तिक बना दें।
  2. अब थाली को किनारे की ओर रंग-बिरंगे नेट के कपडे़ से सजाएं। कपडे़ पर कुछ स्‍टोन और चमकते हुए सितारे भी लगा सकती हैं और फिर उसे थाली के किनारे चिपका सकती हैं।
  3. थाली में कुमकुम और चावल को अलग-अलग छोटी कटोरी में रखें। थाली में दीया, अगरबत्‍ती, मिठाई और पानी भी रखें।
  4. करवा, जो कि मिट्टी का मटका होता है, उसमें औरते पानी भर के चांद की पूजा करती हैं, तो ऐसे में आप उस पर पेन्‍ट से
  5. सुंदर डिजाइन बना सकती हैं। लाल रंग का पिषेश रूप से इस्‍तमाल करें तो अच्‍छा रहेगा।
  6. चांद को देखने के लिये छलनी का प्रयोग होता है, यदि आपको इसे पहले इस्‍तमाल करना है तो इसे थाली के ऊपर ही रखें।
  7. थाली को कवर करने के लिये आपको एक कपडे़ के टुकडे़ की आवश्‍यकता होगी। कपडे़ के लिये आप लाल रंग की चुनरी प्रिटं या फिर कॉटन का कपडा़ इस्‍तमाल कर सकती हैं।

सुहागिन महिलाओं का चाँद को अर्घ्य 

suhagin-Women-karva-chauth-vrat

महिलाऍ चंद्रोदय समारोह की रस्म के लिए अपनी पूजा थाली को तैयार करती है। पूजा थाली में घी का दीया, चावल के दाने, पानी भरे बर्तन, माचिस, मिठाई, पानी का एक गिलास और एक छलनी शामिल है। एक बार आकाश में चंद्रमा उगने के बाद, महिलाऍ चाँद देखने के लिए अपने घरों से बाहर आती है। सब से पहले वे चन्द्रमा को अर्घ्य देती है, चाँद की ओर चावल के दाने डालती है, छलनी के अन्दर घी का दिया रखकर चॉद को देखती है। वे अपने पतियों की समृद्धि, सुरक्षा और लंबे जीवन के लिए चंद्रमा से प्रार्थना करती हैं। चाँद की रस्म पूरी करने के बाद, वे अपने पति,सासु मॉ और परिवार अन्य बडों के पैर छू कर सदा सुहागन और खुशहाल जीवन का आशीर्वाद लेती हैं। कहीं कहीं चाँद को सीधे देखने के स्थान पर उसकी परछाई को पानी में देखने का रिवाज है। पैर छूने के बाद, पति अपने हाथों से अपनी पत्नी को मिठाई खिलाकर पानी पिलाता है।

You Must Read

Happy Karva Chouth 2018 Quotes Greeting Best Wishes Top 10 क... Happy Karva Chouth 2018 Quotes Greeting Best Wishe...
करवा चौथ 2018 की हार्दिक शुभकामनाएं मेसेज हिंदी Karwa Chauth... करवा चौथ 2018 की हार्दिक शुभकामनाएं मेसेज हिंदी Ka...
Karwa Chauth 2018 Puja Vrat Vidhi katha Pooja Samgari Moonri... karwa chauth kaise manate hai : हिंदू सनातन धर्म म...
करवा चौथ कथा विडियो और गीत मेरे सजना तेरी जिंदगानी रहे डाउनल... करवा चौथ कथा विडियो : करवा चौथ का व्रत इस साल 27 अ...
Best 15 Karwa Chauth Wishes Shayari Message Wallpaper karwa ... Karwa Chauth Wishes SMS Shayari Message 2018 Best ...
करवा चौथ व्रत कथा 2018 Karwa Chauth Vart Katha चौथ के गीत और... करवा चौथ व्रत 2018 Karwa Chauth Vart Katha Vidhi A...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *