02 अक्टूबर गाँधी जयंती 2018 महात्मा गाँधी की महानता और जीवन परिचय

दोस्तों : भारत के राष्ट्रपिता मोहनदास कर्मचंद गांधी जिन्हें बापू या महात्मा गांधी के नाम से भी जाना जाता है | 2 अक्टूबर 2018 को गाँधी जयंती सम्पूर्ण भारत में एक राष्ट्रीय उत्सव के रूप में मनाई जाती है | 2 अक्टूबर के दिन महात्मा गाँधी का जन्म हुआ था | गाँधी जयंती का यह पर्व स्कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्थान, सरकारी कार्यालय, समुदाय, समाज, तथा अन्य जगहों पर मनाया जाता है | 2 अक्टूबर के दिन भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय अवकाश के रुप में घोषित किया गया है | गाँधी जयंती पर सम्पूर्ण भारत में सरकारी कार्यालय, स्कूल, कॉलेज, बैंक आदि कार्यालय बंद रहते हैं | भारत में ही दुनिया के हर कोने में महात्मा गाँधी को उनके सादे जीवन, सरल सभाव और समर्पण के लिए सर्वोत्तम आदर्श के रूप में माना जाता है। इस दिन महात्मा गाँधी के चित्रों और मूर्तियों पर फूल चढ़ाते हैं | गीत गाते हैं प्रार्थना करते हैं और मोमबत्तियां जलाकर उनका सम्मान करते है | इस दिन को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है |

 

महात्मा गांधी का जीवन परिचय Introduction of Mahatma Gandhi’s life

महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था | हम सब महात्मा गांधी या बापू के नाम से जानते है | बापू का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर, काठियावाड़, गुजरात में हुआ | जो तब ब्रिटिश साम्राज्य का एक अहम अंग था। महात्मा गांधी के पिता, करमचंद गांधी, पोरबंदर में एक मुख्यमंत्री और उनकी मां, पुतलीबाई, एक धार्मिक महिला थी। गांधी हिंदू भगवान विष्णु की पूजा करते हुए और जैन धर्म का पालन करते थे जो अहिंसा, उपवास, ध्यान और शाकाहार का समर्थन करते थे।13 वर्ष की उम्र में महात्मा गांधी का विवाह एक व्यापारी की बेटी कस्तूरबा मकानजी के साथ हुआ । 1885 में महात्मा गांधी के पिता का निधन हो गया | महात्मा गांधी का सपना डॉक्टर बनने का था परन्तु उनके पिता उन्हें एक सरकारी मंत्री या कानूनी पेशे में प्रवेश करने के लिए प्रेरित करते थे। गांधी जी कानून की पढ़ाई करने के लिए 1888 में इंग्लैंड चले गए । इस युवा भारतीय को पश्चिमी संस्कृति के साथ संघर्ष करना पड़ा, और लंदन में अपने तीन साल के प्रवास के दौरान, वह एक मांसहीन आहार के लिए और अधिक प्रतिबद्ध हो गया, लंदन शाकाहारी सोसाइटी की कार्यकारी समिति में शामिल हो गया और विभिन्न पवित्र ग्रंथों को पढ़ना शुरू कर दिया | 1891 में भारत लौटने पर गांधी को पता चला कि उनकी मां की मृत्यु सिर्फ कुछ हफ्ते पहले हुई थी।

Gandhi Jayanti HD Whatsapp Pics

 

गाँधी जी अपने अहिंसात्मक असहयोग आंदोलन के प्रयोग से स्वतंत्रता के लिए रैली निकालने के लिए भारतीय लोगों को प्रेरित करते थे। यही आंदोलनों और उनके तरीके तेजी से दुनिया भर के लिए प्रेरणा बन गए। राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता के रूप में उन्होंने हिंसा का प्रयोग किये बिना ब्रिटिश शासन से भारत को मुक्त कराने की दृढ़ रणनीति को जारी रखा। 1946 में, उन्होंने कैबिनेट मिशन से मुलाकात की जो नए संवैधानिक संरचना का सुझाव देने के लिए उत्तरदायी थे | और उनके साथ बातचीत की। इसके बाद जल्दी ही स्वतंत्रता प्राप्त हुई और 1947 में जब गाँधी जी की हत्या हुई तो वो हिन्दू-मुस्लिम दंगों को रोकने का प्रयास करने के लिए दिल्ली में थे।

महात्मा गाँधी एक महान व्यक्ति Mahatma Gandhi is a great man

कहा गया है की गाँधी जी दुनिया भर में एक महान व्यक्ति थे | उनके जीवन के सिद्धांत हर एक व्यक्ति को प्रेरित करते है | उनकी महत्वपूर्ण बाते जो उनके जीवन को सार्थक बनाती है वो निम्न प्रकार से है –
मेरा जीवन मेरा संदेश है,
कमजोर कभी क्षमा नहीं कर सकता है,
क्षमा करना मजबूत लोगों का गुण होता है,

इससे उन्होंने अपना दृढ़ निश्चय दिखाया और ब्रिटेन से भारत को स्वतंत्रता के शांतिपूर्ण विरोध को प्रभावशाली बनाये रखा | उनके अपने तरीकों, दृढ़ निश्चय, शांति और सभी लोगों के लिए अपने अच्छे उद्देश्यों के लिए याद किया जाता है। गाँधी जी को एक युद्ध-विरोधी कार्यकर्ता के रूप में भी जाना जाता है। वो कई तरीकों से शांति और अहिंसा के अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक माने जाते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.