Diwali Pujan Mantra and Vidhi

Diwali Pujan Mantra  : आज दीपावली हैं आज शाम 7.05 बजे से रात 9 बजे तक वृष लग्न में पूजा करना विशेष शुभप्रद माना जा रहा है। इसलिए ये समय दिवाली पूजा के लिए उपयुक्त सर्वश्रेष्ठ समय होगा | दिवाली का पूजन करते समय Diwali Pujan mantra का उचारण करना अति आवश्यक हैं | कहा जाता हैं की दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन करते समय लक्ष्मी पूजा मन्त्र पढने से ही दिवाली की पूजा सफल मानी जाती हैं और लक्ष्मी का आगमन होता हैं | इसलिए आप दीपावली की पूजा करने के बाद शांत भाव से एकांत चित होकर दिवाली पूजा मन्त्र और लक्ष्मी पूजा मन्त्रो को पढ़े,जिससे हमारे घर में फैली नकारात्मक उर्जा का नाश होगा और माँ लक्ष्मी का वास होगा और घर में शुख शांति और यश की प्राप्ति होगी | Diwali Mantra किस प्रकार बोले ? Laxmi मन्त्र की विधि और Diwali pooja Mantra MP3 व् MP4 मन्त्र आप निचे दिए गये आर्टिकल में देख सकते हैं और ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते हैं |

दिवाली पूजा मन्त्र विधि

दिवाली पूजा करते समय सबसे पहले पवित्रीकरण करें। आप हाथ में पूजा के जलपात्र से थोड़ा सा जल ले लें और अब उसे मूर्तियों के ऊपर छिड़कें। साथ में मंत्र पढ़ें। इस मंत्र और पानी को छिड़ककर आप अपने आपको पूजा की सामग्री को और अपने आसन को भी पवित्र कर लें।

ॐ पवित्रः अपवित्रो वा सर्वावस्थांगतोऽपिवा।
यः स्मरेत्‌ पुण्डरीकाक्षं स वाह्यभ्यन्तर शुचिः॥
पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग षिः सुतलं छन्दः
कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥

अब पृथ्वी पर जिस जगह आपने आसन बिछाया है, उस जगह को पवित्र कर लें और मां पृथ्वी को प्रणाम करके मंत्र बोलें-

ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता।
त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌॥
पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः

दिवाली पूजा मन्त्र (श्री गणेश विनायक मन्त्र )

1. लक्ष्मी विनायक मन्त्र

ॐ श्रीं गं सौम्याय गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा॥

2. लक्ष्मी गणेश ध्यान मन्त्र

दन्ताभये चक्रवरौ दधानं, कराग्रगं स्वर्णघटं त्रिनेत्रम्।
धृताब्जयालिङ्गितमाब्धि पुत्र्या-लक्ष्मी गणेशं कनकाभमीडे॥

3. ऋणहर्ता गणपति मन्त्र 

ॐ गणेश ऋणं छिन्धि वरेण्यं हुं नमः फट्॥

दिवाली लक्ष्मी पूजा मन्त्र

ॐ आद्यलक्ष्म्यै नम:,
ॐ विद्यालक्ष्म्यै नम:,
ॐ सौभाग्यलक्ष्म्यै नम:,
ॐ अमृतलक्ष्म्यै नम:,
ॐ कामलक्ष्म्यै नम:,
ॐ सत्यलक्ष्म्यै नम:,
ॐ भोगलक्ष्म्यै नम:,
ॐ योगलक्ष्म्यै नम:.

ऊं अपवित्र: पवित्रोवा सर्वावस्थां गतो पिवा ।
य: स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यन्तर:।।
ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै न

अब आचमन करें

पुष्प, चम्मच या अंजुलि से एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ केशवाय नमःऔर फिर एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ नारायणाय नमः

फिर एक तीसरी बूंद पानी की मुंह में छोड़िए और बोलिए-

ॐ वासुदेवाय नमः

फिर ॐ हृषिकेशाय नमः कहते हुए हाथों को खोलें और अंगूठे के मूल से होंठों को पोंछकर हाथों को धो लें। पुनः तिलक लगाने के बाद प्राणायाम व अंग न्यास आदि करें। आचमन करने से विद्या तत्व, आत्म तत्व और बुद्धि तत्व का शोधन हो जाता है तथा तिलक व अंग न्यास से मनुष्य पूजा के लिए पवित्र हो जाता है।
आचमन आदि के बाद आंखें बंद करके मन को स्थिर कीजिए और तीन बार गहरी सांस लीजिए। यानी प्राणायाम कीजिए क्योंकि भगवान के साकार रूप का ध्यान करने के लिए यह आवश्यक है फिर पूजा के प्रारंभ में स्वस्तिवाचन किया जाता है। उसके लिए हाथ में पुष्प, अक्षत और थोड़ा जल लेकर स्वतिनः इंद्र वेद मंत्रों का उच्चारण करते हुए परम पिता परमात्मा को प्रणाम किया जाता है। फिर पूजा का संकल्प किया जाता है।

Diwali Puja Mantra MP3 MP4 Video

 

You Must Read

Beautiful Diwali Wishes Shayari for Girlfriend Boyfriend Lov... Diwali Wishes Shayari for Girlfriend Boyfriend Lov...
दिवाली लक्ष्मी पूजन की विधि सामग्री और पूजा करने का सही तरीक... दीपावली 2017 : भारत देश त्योंहारो का देश कहा जाता ...
Top 10 Diwali Gift idea 2017 Online Gift Shopping for Husban... Diwali Gift idea 2017 : All Peoples and Children's...
दीपावली पर्व 2017 तिथि व लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त... दिवाली (दीपावली )पर्व 2017 : भारतभर में हिन्दुओ के...
Diwali Romantic Love Shayari SMS Quotes For Girlfriends Boyf... Deepawali Love Shayari 2017 : Happy Diwali is a Ve...
दीपावली पर लक्ष्मी जी की आरती डाउनलोड करे MP3 MP4... दीपावली पूजा की आरती 2017 : दोस्तों हमारे हिन्दू ध...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *