Dussehra/Vijay Dashami/Ravan Dahan 2018 का शुभ मुहर्त तिथि और महत्व | विजयादशमी दशहरा पूजन का जीवन में क्या महत्व हैं

Dussehra/Vijay Dashami/Ravan Dahan 2018 का शुभ मुहर्त तिथि और महत्व | विजयादशमी दशहरा पूजन का जीवन में क्या महत्व हैं : दशहरा के त्योंहार को विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता हैं | दशहरा का त्यौहार विजय की ख़ुशी में मनाया जाता हैं | अथार्थ इस दिन आदमी अपने बुरे कर्मो को त्याग कर अच्छाई के मार्ग को अपना सकता हैं | इस दिन बुराई पर अच्छाई की जीत हुई थी | भगवान् राम ने विजयदशमी के दिन दुष्ट रावण को मारकर सीताजी को बरी किया था | रावण जो एक राक्षस था उसके विरुद्ध भगवान् राम ने सीता को छुड़ाने के लिए दस दिनों तक युद्ध किया था और अंत में दशमी के दिन उसका वध कर सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाया था | इसी पौराणिक धारणा के अनुसार लोग इस त्योंहार को मनाते आ रहे हैं | दशहरा को कैसे मनाये ? उसका मुहर्त,पूजा विधि और विजयदशमी के महत्व को हम निचे के पैराग्राफ में दर्शा रहे हैं |

Happy dussehra

Dussehra Vijay Dashami/Ravan Dahan 2018 : विजयदशमी का शुभ मुहर्त तिथि

इस साल दशहरा 19 अक्टूबर (शुक्रवार) को मनाया जाएगा | दशमी तिथि की शुरूआत 18 अक्टूबर शाम 03 बजकर 28 मिनट से शुरू होकर 19 अक्टूबर शाम 05 बजकर 57 मिनट तक रहेगी |

  • विजय मुहूर्त समय 2:05 बजे से दोपहर 2:51 बजे तक है
  • अपराह्न पूजा समय 1:20 से 3:37 बजे तक है

दशहरा का महत्व – Importance Of Vijay Dashami Ravan Dahan 2018

दशहरा दुर्गा पूजा के समारोह की समाप्ति का प्रतीक है, इस पर्व को भी बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में जाना जाता है. देवी दुर्गा ने लोगों की रक्षा के लिए महिषासुर नामक एक राक्षस का वध किया था, नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा और देवी चामुंडेश्वरी की पूजा की जाती है, जिन्होंने लोगों की रक्षा के लिए महिषासुर और असुरों की सेना को चामुंडा की पहाड़ियों में युद्ध कर पराजित किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.