Holika Dahan 2018 Date and Time Shubh Muhurta Puja Vidhi and Holika Dahan Story

Holika Dahan 2018 Date and Time Shubh Muhurta Puja Vidhi and Holika Dahan Story : Holika Dahan festival is celebrated every year Phalgun Mass’s purnima .This year Holika Dahan festival will be celebrated on March 1, 2018.Holika Dahan auspicious time after 07:40 minutes of Indian time, which is called Pradosha period.On the second day of Holika Dhahan comes the colorful Holi ( Dhulandi ) .On this day we celebrate each other with color.More information like Date and Time Shubh Muhurta Puja Vidhi and Holika Dahan Story which is given below.

होली 2018

होली पूजा का महत्व Importants of Holi Puja 2018

होली Holi रंगों का और मेल-मिलाप एवं मौज-मस्ती और अच्छे -अच्छे कर पकवान खाने का त्यौहार है | यह त्यौहार Tyohar बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार भी कहा गया है महिलाएं इस दिन घर की सुख समृद्धि के लिए होली की पूजा करती है | इसके बाद होली का दहन किया जाता है | इस वर्ष 2018 में होली 2 मार्च ( रंगों वाली होली )की है | होली का त्यौहार फाल्गुन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है |

holi puja vidhi

होलिका दहन की पूजा विधि Holika Dahan Puja Vidhi

होलिका का दहन Holika Dahan करने से पहले होली की पूजा की जाती है। होलिका की पूजा सामग्री में एक लोटा और उसमे गंगाजल या ताजा जल लेते है | उस रोली, माला, रंगीन अक्षत, गंध के लिये धूप या अगरबत्ती, पुष्प, गुड़, कच्चे सूत का धागा, साबूत हल्दी, मूंग, बताशे, नारियल एवं नई फसल के अनाज गेंहू की बालियां, पके चने आदि ले | होली की पूजा सामग्री के साथ होलिका के पास गोबर से बनी ढाल भी रखी जाती है। होलिका दहन के शुभ मुहूर्त के समय चार मालाएं अलग से रख ली जाती हैं। जो मौली, फूल, गुलाल, ढाल और खिलौनों से बनाई जाती हैं। इसमें एक माला पितरों के नाम की, दूसरी श्री हनुमान जी के लिये, तीसरी शीतला माता, और चौथी घर परिवार के नाम की रखी जाती है। इसके पश्चात पूरी श्रद्धा से होली के चारों और परिक्रमा करते हुए कच्चे सूत के धागे को लपेटा जाता है। होलिका की परिक्रमा तीन या सात बार की जाती है। इसके बाद शुद्ध जल सहित अन्य पूजा सामग्रियों को एक एक कर होलिका को अर्पित किया जाता है। पंचोपचार विधि से होली का पूजन कर जल से अर्घ्य दिया जाता है।

होलिका दहन Holika Dahan 2018

होलिका दहन 2018 होली त्यौहार का पहला दिन फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसके अगले दिन (धुलण्डी ) रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे रंगों का त्यौहार ,धुलंडी और धूलि आदि नामों से जाना जाता है।

holika dahan

होली पर्व की तिथि व मुहूर्त 2018 Holi Date and Mhurt

होली 1 मार्च 2018
होलि के दहन का शुभ मुहूर्त- 18:16 से 20:47
भद्रा पूंछ- 15:54 से 16:58
भद्रा मुख- 16:58 से 18:45
रंगवाली होली (धुलण्डी)- 2 मार्च
पूर्णिमा तिथि आरंभ- 08:57 (1 मार्च)
पूर्णिमा तिथि समाप्त- 06:21 (2 मार्च)

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त 2018 Shubh Muhart of Holika Dahan

धुलण्डी Dhulandi (होली) से एक दिन पहले शाम को भारत में होलिका दहन Holika Dahan किया जाता है |वर्ष 2018 में होलिका दहन का शुभ मुहूर्त शाम 6.26 मिनट से लेकर 8.55 मिनट तक का है | होली से जुड़ी भारत में अलग-अलग परंपरा है |

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त 2018

होलिका दहन करने का समय Time of Holika Dahan

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त प्रदोष काल के दौरान होती है जब पूर्णिमासी तिथी चल रही होती है और भद्रा खत्म हो जाता है। भद्र खत्म हो जाने के बाद होलिका दहन किया जाना चाहिए । यदि भद्र आधी रात के बाद खत्म हो रहा है तो केवल होलिका दहन भद्र में किया जाना चाहिए और अधिमानतः भद्र पूंछ के दौरान किया जाना चाहिए। होलिका दहन को भद्र मुख में किया जाता है तो पूरे साल बुरा होता है । कई बार भद्र पूंछ प्रधान और आधी रात के बीच उपलब्ध नहीं होता हैं। ऐसी स्थितियों में प्रमोद के दौरान होलिका का दहन को करना चाहिए। दुर्लभ अवसरों में जब न तो प्रदोष न ही भद्र पूंछ उपलब्ध है तो प्रमोद के बाद होलिका दहन को करना चाहिए।

होलिका दहन

 

होलिका दहन की पौराणिक कथा Holi  Story in Hindi 

पौराणिक कथाओ के अनुसार भक्त प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप अपने बेटे से बहुत घर्णा करते थे | क्योकि प्रह्लाद भगवान विष्णु का भक्त था | हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र प्रह्लाद पर कई बार मारने की सोची लेकिन प्रह्लाद हर बार बच निकलता था | अंत में हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका को भेजा | कहा जाता है की होलिका को भगवान का वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी | हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को बोला कि वह प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ जाए | होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ गई | होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में गई वह जल गई और प्रह्लाद बच गए | प्रह्लाद अपने आराध्य विष्णु का नाम जपते हुए आग से बाहर आ गए | तब से होलिका दहन की परम्परा शुरू हो गई | होलिका दहन के अगले दिन रंगों का त्योहार मनाया जाता है |

You Must Read

Holi Wishes Quotes Slogans Geet Whatsapp Status in Hindi
दोस्तों Holi होली रंगों का त्यौहार कहलाता है | Hol...
Happy Holi Dhulandi HD Wallpaper Photo Image for Whatsapps F... Happy Holi Dhulandi HD Wallpaper Photo Image Pic :...
Holi dhamal shekhawati latest new dhamal holi dhamal rajasth... राजस्थान में फाल्गुन शुरू होते ही शेखावाटी क्षेत्र...
Happy Holi Wishes in Hindi Best Colorfull Holi Wishes Shayar... Happy Holi Wisesh in Hindi 2018 .Millions of peopl...
Holika Dahan Shubh Muhart 2018 Holi Pujan Vidhi Time Table य... Holika Dahan Shubh Muhart Pooja Vidhi 2018 : Holi ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *