श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2017 तिथि व मुहूर्त और मौर पंख बांसुरी वाले की बाल लीलाएँ

नन्द के लाल ,ब्रज के गोपाल,गायों के ग्वाल,गोपियों के गोपाल,मदन गोपाल ,कृष्ण कन्हेया,बाल गोपाल,यशोदा के लाला,देवकी के लाल, कृष्ण भगवान् आपको आपके जन्म दिन पर rkalert.in की टीम की तरफ से लाख लाख बधाई हो ,और आपका आशीर्वाद हमारे साथ हो,श्री कृष्ण जन्माष्टमी के इस पावन त्योंहार पर हम सभी यही कामना करते हैं की “हे मोर पंख धारी,बांसुरी वाले, तेरी बांसुरी को बजाते रहना,और इतनी जोर से बजाना की इसकी आवाज हर मनुष्य के कानों तक पहुंचे और उनका कल्याण हो,हे कृष्ण मुरारी,इस कलयुग मैं आज भी आपकी महिमा हैं निराली,सदा अपने भक्तों पर अपनी क्रपा बनाये रखना,और हर भक्त की,गरीब की,असहाय की,अपंग की रक्षा करना,यही आशा लेकर हम आपके दर पर आते हैं | कृष्ण जन्माष्टमी के दिन हमारे प्यारे प्रभु मोहन मुरारी हर आदमी की मनोकामनाएँ पूरी करते हैं | श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कई मान्यताएं हैं जिनका वर्णन हम निचे के आर्टिकल में लिख रहे हैं कृपा करके आप पूरा आर्टिकल पढ़े …|

krishn baal lila

श्री कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव 2017

नन्द के आनंद भयो जय कन्हैया लाल कि,कृष्ण का ये भजन सुनते ही हर भक्त का रोम-रोम कृष्ण के नाम पर नाच उठता है | कृष्ण भगवान् हिंदू धर्म के एक ऐसे देवता हैं, जिन्हें अलग-अलग रूपों में पूजा गया है. कभी उन्होंने बाल रूप में भक्तों का दिल मोह दिया, तो कभी गीता का उपदेश देकर जीवन को एक सार्थक दिशा दी | जन्माष्टमी के रूप में उनके भक्त भगवान श्री कृष्ण के जन्म का उत्सव मनाते हैं |

Janmashtami 2017: मान्यता है कि श्री कृष्ण का जन्म का भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में आधी रात में हुआ था | स्मार्त संप्रदाय के अनुसार इस साल जन्माष्टमी 14 अगस्त को मनाई जाएगी तो वहीं वैष्णव संप्रदाय के 15 अगस्त को जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाएगा|

कृष्ण जन्माष्टमी 2017: व्रत-पूजन से जुड़ी मान्यताएं

  1. कृष्ण जन्माष्टमी के दिन पूरा दिन भक्त खाली पेट उपवास रखते हैं | इसलिए यह व्रत रखना बड़ा ही कठिन हैं |
  2. जन्माष्टमी के दिन अगर आप व्रत रखने वाले हैं या नहीं भी रखने वाले, तो सुबह जल्दी उठकर स्नान करें. मन में ईश्वर के नाम का जाप करें |
  3. व्रत रखने के बाद पूरे दिन ईश्वर का नाम लेते हुए निर्जल व्रत का पालन करें | रात के समय सूर्य, सोम, यम, काल, ब्रह्मादि को
  4. प्रणाम करते हुए पूजा को शुरू करने की मान्यता है |
  5. पूजा के दौरान जल, फल और फूल वगैरह लेकर इस मंत्र का जाप शुभ माना जाता है-
  6. जन्माष्टमी के दिन पूजा के लिए भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति को भी स्थापित किया जाता है | इस दिन उनके बाल रूप के चित्र को स्थापित करने की मान्यता है |
  7. जन्माष्टमी के दिन बालगोपाल को झूला झुलाया जाता है |
  8. मान्यता है कि जन्माष्टमी के दिन बाल श्रीकृष्ण को स्तनपान कराती देवकी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करना शुभ होता है |
  9. जन्माष्टमी के दिन सभी मंदिर रात बारह बजे तक खुले होते हैं | बारह बजे के बाद कृष्ण जन्म होता है और इसी के साथ सब भक्त चरणामृत लेकर अपना व्रत खोलते हैं |

Janmashtami 2017 भगवान श्रीकृष्ण को ‘छप्पन भोग’

भगवान श्रीकृष्ण को भोग लगाने के लिए उनके भक्त 56 तरह के पकवान बनाते हैं जिसे छप्पन भोग कहते है।

janmasthami chhapn bhog

श्रीकृष्ण को भोग में 56 तरह के पकवान क्यों चढ़ाए जाते हैं? – इसके पीछे एक कहानी है, एक बार अपने गांव और वहां रहने वाले लोगों को भारी बारिश (भगवान इंद्र) के प्रकोप से बचाने के लिए श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा अंगुली पर उठा लिया और सभी गांव वालों ने गोवर्धन पर्वत के नीचे शरण ली। श्रीकृष्ण लगातार सात दिनों तक गोवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठाए खड़े रहें, अंत में भगवान इंद्र को अपनी गलती का एहसास हुआ। भगवान श्रीकृष्ण हर रोज भोजन में आठ तरह की चीजें खाते थे, लेकिन सात दिनों से उन्होंने कुछ भी नहीं खाया था। इसलिए सात दिनों के बाद गांव का हर निवासी अभार प्रकट करने के लिए उनके लिए 56 तरह (आठ गुणा सात) के पकवान बनाकर लेकर आया।

Janmashtami 2017: तिथि व मुहूर्त

जन्माष्टमी 2017 : 14 अगस्त
पूजा : 12:03 से 12:47
निशिथ चरण के मध्यरात्रि के क्षण है : 12:25 बजे
15 अगस्त पराण : शाम 5:39 के बाद
अष्टमी तिथि समाप्त : 5:39

कृष्ण की क्रीड़ाएँ और बाल लीलाएँ

janmasthami

मैया कबहुँ बढ़ैगी चोटी।

किती बेर मोहि दूध पियत भइ यह अजहूँ है छोटी।’

माता देवकी का नन्दलाल बाल कृष्णा बहुत ज्यादा शरार्थी था |अपने पड़ोस से दही और माखन की चोरी करता था इसलिय कान्हा को माखन चोर कहाँ गया हैं | ब्रज की बालाओं से अठखेलियाँ करता था ,गोपियों के साथ रास रचाता था | नन्द बनकर गायों की ग्वाली करता था | इतना ही नहीं क्रष्ण ने एसे कार्य किये जिनको इतिहाश में जन्म जन्मान्तर याद किया जायेगा | जैसे – गोकुल गाँव को बारिश से बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा अंगुली पर उठा लिया,महाभारत मैं द्रोपदी का चीर हरण होने से बचा लिया | बड़े बड़े राकक्षसो का संहार किया ,इस प्रकार कृष्ण का पूरा जीवन अनेक लीलाओं से भरा हुआ हैं |
यहाँ तक कि मुख में पूरी पृथ्वी दिखा देने, न जाने कितने मायावियों, राक्षसों का संहार कर देने के बाद भी माँ यशोदा के लिए तो वे घुटने टेक क र चलते वाले लल्ला ही थे जिनका कभी किसी काम में कोई दोष नहीं होता। सूर के पदों में अनोखी कृष्ण बाल लीलाओं का वर्णन है।

भगवान श्रीकृष्ण की माखनचोरी लीला

krishna janmasthami

ब्रज घर-घर प्रगटी यह बात।
दधि माखन चोरी करि लै हरि, ग्वाल सखा सँग खात।।

ब्रज-बनिता यह सुनि मन हरषित, सदन हमारैं आवैं।
माखन खात अचानक पावैं, भुज भरि उरहिं छुपावैं।।

श्रीकृष्ण की माखनचोरी की कहानी – एक दिन श्रीकृष्ण अपने सूने घर में ही माखनचोरी कर रहे थे। इतने में ही यशोदा आयीं तो वे डर गये और माता से बोले–’मैया ! यह जो तुमने मेरे कंगण में पद्मराग जड़ा दिया है, इसकी लपट से मेरा हाथ जल रहा था। इसी से मैंने इसे माखन के मटके में डालकर बुझाया था।’ यशोदामाता कन्हैया की मीठी-मीठी बातों से मुग्ध हो गयीं और सोचने लगीं कि देखो, मेरा नन्हा लाला कितना होशियार हो गया है।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कान्हा को झुला झूलाया

krisnna jhula

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कान्हा को झुला झूलाया जाता हैं पूरे दिन महिलाएं और पुरुष जन्माष्टमी का व्रत करते हैं और कृष्ण जन्म के बाद कृष्ण को झुला झुलाया जाता हैं |श्रद्धालुओं द्वारा कान्हा के बाल स्वरूप को झूला झुलाया जाता हैं इस प्रकार जन्माष्टमी की ये परम्परा हैं |

कृष्ण गोपी संवाद : गोपी-उद्धव – भ्रमरगीत

ऊधौ मन ना भये दस-बीस
एक हुतो सो गयौ स्याम संग, कौ आराधे ईस॥

krishna gopi sanvad

भ्रमर गीत में सूरदास ने उन पदों को समाहित किया है जिनमें मथुरा से कृष्ण द्वारा उद्धव को ब्रज संदेस लेकर भेजा जाता है और उद्धव जो हैं योग और ब्रह्म के ज्ञाता हैं उनका प्रेम से दूर दूर का कोई सरोकार नहीं है। जब गोपियाँ व्याकुल होकर उद्धव से कृष्ण के बारे में बात करती हैं और उनके बारे में जानने को उत्सुक होती हैं तो वे निराकार ब्रह्म और योग की बातें करने लगते हैं तो खीजी हुई गोपियाँ उन्हें काले भँवरे की सोगन्ध देती हैं। इस प्रकार इसे भ्रमरगीत या उद्धव-संदेश कहलाया जाता है।

कृष्ण ने द्रोपदी को चीर हरण से बचाया

dropati chir haran

महाभारत के कोरवों और पांड्वो के युद्ध में जब पांडव कोरवों से जुवा मैं हार जाते हैं तो पांडव आखिर मैं द्रोपदी को भी जुए मैं लगा देते हैं | जुए मैं लगी द्रोपदी का दुःशासन चीर हरण करते हैं | दुःशासन द्रौपदी के वस्त्र को खींचना चालू किया । द्रौपदी ने जब वहाँ उपस्थित सभासदों को मौन देखा तो वह द्वारिकावासी श्री कृष्ण को टेरती हुई बोली, “हे गोविन्द! हे मुरारे! हे कृष्ण! मुझे इस संसार में अब तुम्हारे अतिरिक्त और कोई मेरी लाज बचाने वाला नहीं है। अब तुम्हीं इस अबला की लाज रखो।”भक्तवत्सल श्री कृष्ण ने द्रौपदी की पुकार सुन ली। वे समस्त कार्य त्याग कर तत्काल अदृश्यरूप में वहाँ पधारे और आकाश में स्थिर होकर द्रौपदी की साड़ी को बढ़ाने लगे। दुःशासन द्रौपदी की साड़ी को खींचते जाता था और साड़ी थी कि समाप्त होने का नाम ही नहीं लेती थी। साड़ी को खींचते-खीचते दुःशासन पसीने-पसीने हो गया किन्तु अपने कार्य में सफल न हो सका। अन्त में लज्जित होकर चुपचाप बैठ जाना पड़ा। अब साड़ी के उस पर्वत के समान ऊँचे ढेर को देख कर वहाँ बैठे समस्त सभाजन द्रौपदी के पातिव्रत की मुक्त कण्ठ से प्रशंसा करने लगे और दुःशासन को धिक्कारने लगे। द्रौपदी के इस अपमान को देख कर भीमसेन का सारा शरीर क्रोध से जला जा रहा था। उन्होंने घोषणा की, “जिस दुष्ट के हाथों ने द्रौपदी के केश खींचे हैं, यदि मैं उन हाथों को अपनी गदा से नष्ट न कर दूँ तो मुझे सद्गति ही न मिले। यदि मैं उसकी छाती को चीर कर उसका रक्तपान न कर सकूँ तो मैं कोटि जन्मों तक नरक की वेदना भुगतता रहूँ। मैं अपने भ्राता धर्मराज युधिष्ठिर के वश में हूँ अन्यथा इस समस्त कौरवों को मच्छर की भाँति मसल कर नष्ट कर दूँ। यदि आज मै स्वामी होता तो द्रौपदी को स्पर्श करने वाले को तत्काल यमलोक पहुँचा देता।”

Krishna Janmashtami पर कन्हैया की बांसुरी की धुन 

You Must Read

गणेश चतुर्थी 2017 पूजा विधि मुहूर्त और गणपति बप्पा का 1970 क... गणेश चतुर्थी पर गणपति बप्पा को भक्तों ने चढ़ाया ...
RPSC द्वारा आयोजित परीक्षाओ का रिजल्ट देखने का परफेक्ट तरीका... प्रिय दोस्तों ऑनलाइन परीक्षा परिणाम जांचना एक कठिन...
धनतेरस 2017 पर धनवन्तरी कुबेर की पूजा विधि व यमराज का दीपदान... धनतेरस 2017 : हिन्दुओ का एक महत्वपर्ण त्यौहार हैं ...
बालदिवस पर हिंदी में भाषण Baldiwas Bhashan in Hindi... बालदिवस Baldiwas 2017 : बालदिवस children's day  पर...
एड्स से निपटने के लिय अमेरिका ने गाय से किया वैक्सीन तैयार... HIV से बचाएगी गाय माता  : भारत में हिन्दू धर्म मैं...
नाग पंचमी की पूजा विधि व्रत कथा और महत्व... नागपंचमी : नाग पंचमी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योंहा...
महर्षि वाल्मीकि जयंती महोत्सव पवित्र ग्रंथ रामायण के रचियता... महर्षि वाल्मीकि वैदिक काल के ऋषियों में से एक महान...
भैया दूज 2017 शुभ मुहूर्त कथा मेसेज और बधाई शायरी... Bhai Dooj 2017 : भैया दूज का त्योंहार भाई और बहन क...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *