Navratri Puja Vidhi Shubh Muhurat 2017 Kalas Sthapana Vrat Katha In Hindi

नवरात्र किन किन देवियों की पूजा होती हैं –

  • 21 सितंबर 2017 मां शैलपुत्री की पूजा 
  • 22 सितंबर मां ब्रह्मचारिणी की पूजा 
  • 23 सितंबर मां चन्द्रघंटा की पूजा 
  • 24 सितंबर मां कूष्मांडा की पूजा 
  • 25 सितंबर मां स्कंदमाता की पूजा 
  • 26 सितंबर मां कात्यायनी की पूजा 
  • 27 सितंबर मां कालरात्रि की पूजा 
  • 28 सितंबर मां महागौरी की पूजा 
  • 29 सितंबर मां सिद्धदात्री की पूजा
  • 30 सितंबर दशमी तिथि, दशहरा

नवरात्र पूजा विधि और पूजन सामग्री

सब से पहले आप सुबह जल्दी उठे अपना नित्य क्रम कर के स्नान करे और बाद में सारे घर या जहाँ आप नवरात्र स्थपाना करना चाहते हैं वहा साफ सफाई करे और और गंगाजल जल और गाय के गोत्र से पुरे घर में छिडकाव करे जिस से घर का शुद्धिकरण हो जाये | शुभ मुहूर्त देखकर लगाया जाता है. माता की चौकी लगाना के लिए भक्तों के पास 21 सितंबर को सुबह 06 बजकर 03 मिनट से लेकर 08 बजकर 22 मिनट तक का समय है. पूजन सामग्री  धूप बत्ती ।(अगरबत्ती),कपूर,केसर,चंदन,यज्ञोपवीत,कुंकु,चावल,अबीर,गुलाल, अभ्रक,हल्दी,आभूषण,नाड़ा,रुई,रोली, सिंदूर,सुपारी, पान के पत्ते,पुष्पमाला, कमलगट्टे,धनिया खड़ा,सप्तमृत्तिका,सप्तधान्य,कुशा व दूर्वा,पंच मेवा,गंगाजल,शहद (मधु),शकर,घृत (शुद्ध घी),दही,दूध,ऋतुफल,नैवेद्य या मिष्ठान्न,इलायची (छोटी),लौंग मौली,इत्र की शीशी,सिंहासन (चौकी, आसन),पंच पल्लव।

कलश को किस दिशा में रखे

एक मिट्टी या किसी धातु के कलश पर रोली से स्वस्तिक का चिन्ह बनाएं। कलश पर मौली लपेटें। फर्श पर अष्टदल कमल बनाएं। उस पर कलश स्थापित करें| कलश में  गंगाजल, चंदन, दूर्वा, पंचामृत, सुपारी, साबुत हल्दी, कुशा, रोली, तिल, चांदी डालें। कलश के मुंह पर 5 या 7 आम के पत्ते रखें। उस पर चावल या जौ से भरा कोई पात्र रख दें। एक पानी वाले नारियल पर लाल चुनरी या वस्त्र बांध कर लकड़ी की चौकी या मिट्टी की वेदी पर स्थापित कर दें। नारियल को ठीक दिशा में रखना बहुत आवश्यक है। इसका मुख सदा अपनी ओर अर्थात साधक की ओर होना चाहिए। नारियल का मुख उसे कहते हैं जिस तरफ वह टहनी से जुड़ा होता है। पूजा करते समय आप अपना मुंह सूर्योदय की ओर रखें।

नो दिनों तक कैसे करे उपवास

उपवास में आप को निर्धारित करना होता की आप किस समय पूजा करे और खाना कोनसे टाइम खायेंगे आप भोजन में क्या बनवाते हैं और जप कितने टाइम करेंगे ये आप पहले दिन जिस प्रकार करे फिर नो दिनों तक आप टाइम टो टाइम काम करना होता हैं।

नवरात्र में कैसे लगाये माता के भोग

नवरात्रओ में हर दिन आप अलग अलग भोग लगा सकते कैसे लगाये भोग पहले आप पूजा करे और जब पूजा खत्म हो जाये तो आप अखंड दीपक जला कर माता का आवान करे और जब माँ की जोत आने के बाद आप भोग लगा सकते हैं गुड, शक्कर, मावा, मिश्री, हलवा, खीर, आदि।

अखंड ज्योति से क्या होता हैं

अखंड ज्योति जलाने से माँ आप के घर हमेशा कर्पा बनाये रखती हैं और आप की मनोकामना पूरी करती हैं | घर में ख़ुशी का माहोल बना रहता हैं अगर आप उनकी सच्ची श्रद्धा और ईमानदारी से पूजा करेंगे तो आपके सारे कष्ट वैसे ही दूर हो जाएंगे क्योंकि मां का सच्चा भोग भक्ति का प्रेम है और उसकी कृपा ही सच्चा प्रसाद।

कैसे करे नवरात्र समापन दुर्गा विसर्जन

कन्या पूजन के पश्चात एक पुष्प एवं चावल के कुछ दाने हथेली में लें और संकल्प लें|घट यानि कलश में स्थापित नारियल को प्रसाद स्वरूप स्वयं भी ग्रहण करें और परिजनों को भी दें|घट के पवित्र जल का पूरे घर में छिडकाव करें और फिर सम्पूर्ण परिवार इसे प्रसाद स्वरुप ग्रहण करें|घट में रखें सिक्कों को अपने गुल्लक में रख सकते हैं, बरकत होती है|सुपारी को भी परिवार में प्रसाद रूप में बांटें|माता की चौकी से सिंहासन को पुनः अपने घर के मंदिर में उनके स्थान पर ही रख दें|श्रृंगार सामग्री में से साड़ी और जेवरात आदि को घर की महिला सदस्याएं प्रयोग कर सकती हैं|श्री गणेश की प्रतिमा को भी पुनः घर के मंदिर में उनके स्थान पर रख दे|चढ़ावे के तौर पर सभी फल, मिष्ठान्न आदि को भी परिवार में बांटें चौकी और घट के ढक्कन पर रखें चावल एकत्रित कर पक्षियों को दें| माँ दुर्गे की प्रतिमा अथवा तस्वीर, घट में बोयें गए जौ एवं पूजा सामग्री, सब को प्रणाम करें और समुन्द्, नदी या सरोवर में विसर्जित कर दें|

You Must Read

REET Official Answer Key REETBSER Level 1st 2nd Subject Wise... REET Official Answer Key : Hello All REET Exam App...
Delhi Police Cut Off Marks Male Female Medical Test Exam Dat... Hello All Delhi Police Candidate Greeting You Delh...
Indian Army Jhunjhunu Churu Rally Bharti 2018 Online Registr... Indian Army Jhunjhunu Rally Bharti 2018 Date, झुंझ...
रणथम्भौर दुर्ग का मुख्य आकर्षण महल छतरी मंदिर दरगाह शासक की ... राजस्थान के महत्वपूर्ण किले और महलों को मुगलों की ...
बसंत पंचमी 2018 सरस्वती पूजा विधि शुभ मुहूर्त आरती व मंत्र... वर्ष 2018 में बसंतपंचमी Basant Panchami का त्यौहार...
बालदिवस पर हिंदी में भाषण Baldiwas Bhashan in Hindi... बालदिवस Baldiwas 2017 : बालदिवस children's day  पर...
पतंजली आयुर्वेदाचार्य आचार्य बालकृष्ण की बायोग्राफी आयुर्वेद... महान योग संत आचार्य बालकृष्ण पतंजलि योगपीठ के मार्...
Rajasthan Postman Mail Guard Answer Key 18 Feb 2018 DOP Raj ... Rajasthan Postmen Mail Guard Answer Key Is Now Ava...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *