Teej 2017 Sindhara Teej Vart Date Hariyali Teej Festival Shayari SMS Wishes

तीज 2017 सावणी तीज व्रत

Teej 2017 Sindhara Teej Vart Date Hariyali Teej Festival Shayari SMS Wishes तीज स्थानीय भाषा बरसात के मौसम में पैदा होने वाले लाल कीड़े को कहा जाता हैं , हिंदू त्यौहारों का आगमन तीज के त्यौहार के आने से ही होता हैं कहावत के अनुसार कहा जाता हैं की ” तीज त्यौहारा बावड़ी ले डूबी गणगोर ” तो जैसे ही सावन का महिना आता चारों और हरियाली छा जाती हैं इसी कारण इसे हरियाली तीज कहा जाता हैं

तीज त्यौहार दो प्रकार का होता हैं

1. आखातीज :- जो बैशाख शुक्ल तृतीया को मनाया जाता हैं इसे हिंदुओं के लिए एक शुभ दिन माना जाता है। भारत में इस दिन ज्यादातर बाल विवाह सम्पन्न करवाए जाते हैं

2. हरियाली तीज :- हरियाली तीज पुरे भारत में सावन माह शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता हैं | विशेष महत्व राजस्थान प्रदेश में हैं |
3. कजरी तीज : – कजरी तीज भाद्रपद कृष्ण पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज के 15 दिन बाद में राजस्थान राज्य के पूर्व क्षेत्र में मनाया जाता हैं

4 हरितिका तीज : हरितिका तीज हिंदी माह के अनुसार भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता हैं

तीज 2017 कब हैं :- Teej Date Time Teej Kab H

Teej Date Time Teej Kab H इस वर्ष तीज का त्यौहार 25 जुलाई 2017 श्रावण मास या सावन माह शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाएगा | यह हिदू धर्म का पर्व हैं , तीज पर्व के एक दिन पहले ही महिलाए व बालिकाए हाथो में मेहँदी लगाती हैं और तीज त्यौहार के दिन महिलाए अपने सौभाग्य के लिए व कुवांरी लडकियाँ अच्छे पति के लिए भगवान शिव व माता पार्वती का व्रत रखती हैं व्रत के लिए प्रात: काल में गृहणी कार्य से निवर्त होकर स्नान करके शिव मन्दिर में कथा सुनने के लिए जाती हैं और शाम को चन्द्रमा को अर्ध्य देकर भोजन करती हैं |

तीज त्यौहार कैसे मनाया जाता हैं :- Teej Poojan Vidhi Hariyali Teej Kaise Manaye

Teej Poojan Vidhi Hariyali Teej Kaise Manaye भारत देश में तीज त्यौहार से 15 दिन पूर्व से पेड़ो की डालियों पर झूले डाले जाते हैं और लोग आनंद से झुला झूलते हैं और तीज से एक दिन पूर्व सिंजारा स्थानीय भाषा में सिंधारा मनाया जाता हैं और इस दिन महिलाए हाथों पर मेहँदी लगाती हैं | तीज त्यौहार के दिन सभी नये वस्त्र पहनते अपने घरों पर मिठाई बनाते हैं और बाजरों से भी मिठाई लायी जाती हैं उसके बाद में सभी समूह के साथ में झुला झूलते हैं | राजस्थान प्रदेश में नव विवाहिता जब झुला झूलती हैं तो उससे उसके पति का नाम पूछा जाता हैं

तीज त्यौहार का महत्व :-

हिन्दू संस्कृति में तीज त्यौहार का बड़ा ही महत्व हैं और हिन्दू धर्म में हर त्यौहार व पर्व का बहुत ही महत्व होता हैं | इस दिन नव विवाहिता और कुवारी लडकियाँ व्रत करती हैं| तीज पर्व धार्मिक व संस्कृतिक के साथ मानसून का पर्व भी कहा जाता हैं क्योकिं इस समय मानसून पूर्ण रूप से सक्रिय रहता हैं जिससे चारो और धरती माता हरियाली की चादर ओढ़ लेती हैं | मौसम मन को मोहने वाला होता हैं | और जीवन को आनंद की अनुभूति होती हैं व सकुन मिलता हैं

सिंजारा /सिंधारा

सिंजारा / सिंधारा तीज त्यौहार के एक दिन पूर्व सावन शुक्ल द्वितीया को होता हैं इस दिन भारत देश में नव विवाहिता के लिए ससुराल पक्ष वालों के द्वारा नये वस्त्र आभूषण मिठाई आदि उसके पीहर ले जाया जाता हैं साथ में कोई भी एक बड़ा बर्तन जो उसकी शादी के समय तय किया जाता हैं वह भी ले जाते हैं | जिसके बदले में लडकी के पीहर वाले उनको भेंट के रूप वस्त्र और रुपए (जुहांरी ) देते हैं |

You Must Read

PM Modi Jhunjhunu Visit Modi Rally Bhashan Live Video प्रधान... PM Narendra Modi Jhunjhunu Visit Speech and Live V...
शारदीय नवरात्रा 2017 की कलश स्थापना, पूजा विधि, मंत्र और महू... वर्ष 2017 के शारदीय नवरात्रे 21 सितंबर 2017 शुरु ह...
MDSU University Ajmer महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविधालय की ... MDSU University Ajmer : महर्षि दयानन्द सरस्वती विश...
स्वतंत्रता दिवस पर देशभक्ति नारे और आजादी की शायरी... स्वतंत्रता दिवस 2017 : स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा...
Teachers Day 2017 : शिक्षक दिवस का महत्व भाषण और निबंध... शिक्षक दिवस डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस ...
Indira Ekadashi 2017 व्रत, पूजा विधि का महत्व और राजा इंद्रस... इन्दिरा एकादशी 2017 : आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की ...
मलयालम सिनेमा की मशहूर अभिनेत्री के यौन शोषण मामले में एक्‍ट... यौन शोषण के आरोपी एक्‍टर दिलीप कुमार : केरल के जान...
बकरीद कब है 2017 बकरीद क्यों मनाई जाती हैं बकरीद के इतिहास क... बकरीद कब है 2017 ? - इस साल बकरीद 1 सितम्बर शुक्रव...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *