कार्तिक छठ पूजा विधि 2017 शुभ मुहर्त व्रत विधि कथा और महत्व

छठ पूजा 2017 : हमारे देश में सूर्य की उपासना के लिए छठ की पूजा की जाती हैं । छठ पर्व दीपावली के छठे दिन मनाया जाता है। सूर्य के छ्टे व्रत में होने के कारण इसे छठ कहा गया है। यह पर्व साल में दो बार मनाया जाता है। पहली बार चैत्र में और दूसरी बार कार्तिक में। चैत्र शुक्ल पक्ष षष्ठी पर मनाए जाने वाले छठ पर्व को चैती छठ व कार्तिक शुक्ल पक्ष षष्ठी पर मनाए जाने वाले पर्व को कार्ति की छठ कहा जाता है। वेद पुराणों के अनुसार छठ देवी सूर्यदेव की बहन है । इसलिए छठ पर्व पर छठ देवी के साथ सूर्य देव को प्रसन्न करना अनिवार्य हो जाता है ।पारिवारिक सुख-स्मृद्धि तथा मनोवांछित फल प्राप्ति के लिए यह पर्व मनाया जाता है। इस पर्व को स्त्री और पुरुष समान रूप से मनाते हैं। पुत्र सुख पाने के लिए भी इस पर्व को मनाया जाता है।

chhath ki pooja

छठ पूजा 2017 मुहर्त 26 अक्टूबर को

  • सूर्योदय छठ पूजा सुबह = 06:13
  • सूर्यास्त छठ पूजा शाम का समय = 17:30
  • शाश्स्ती तिथि की शुरुआत = 09:37 on 25/Oct/2017
  • शाश्स्ती तिथि की पूर्णता = 12:15 on 26/Oct/2017

छठ पूजन की सामग्री । Chhath Pujan Samagri

  1. बॉस या पितल की सूप
  2. बॉस के फट्टे से बने दौरा व डलिया
  3. पानी वाला नारियल
  4. गन्ना पत्तो के साथ
  5. सुथनी
  6. शकरकंदी
  7. डगरा
  8. हल्दी और अदरक का पौधा
  9. नाशपाती
  10. नींबू बड़ा
  11. शहद की डिब्बी
  12. पान सुपारी
  13. कैराव
  14. सिंदूर
  15. कपूर
  16. कुमकुम
  17. चावल अक्षत के लिए
  18. चन्दन
  19. इसके अलावा घर पे बने हुवे पकवान जैसे खस्ता,पुवा,ठेकुवा जिसे कुछ क्षेत्रों में टिकरी भी कहते हैं, इसके अलावा चावल के लड्डू, जिसे लड़ुआ भी कहा जाता है, इत्यादि छठ पूजन के सामग्री में शामिल है ।

छठ पूजा व्रत की विधि : कैसे होती है छठ की पूजा ?

छठ पूजा चार दिवसीय उत्सव है। इसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को तथा समाप्ति कार्तिक शुक्ल सप्तमी को होती है। इस दौरान व्रत करने वाले लगातार 36 घंटे का व्रत रखते हैं। इस दौरान वे अन्न तो क्या पानी भी नहीं ग्रहण करते है।

छठ व्रत विधि (Chhath Vrat Vidhi in Hindi)

1. प्रथम पड़ाव खाए नहाय : छठ पूजा व्रत चार दिन तक किया जाता है। इसके पहले दिन नहाने खाने की विधि होती है। जिसमें व्यक्ति को घर की सफाई कर स्वयं शुद्ध होना चाहिए तथा केवल शुद्ध शाकाहारी भोजन ही करना चाहिए।

२. दूसरा पड़ाव खरना : इसके दूसरे दिन खरना की विधि की जाती है। खरना में व्यक्ति को पूरे दिन का उपवास रखकर, शाम के समय गन्ने का रस या गुड़ में बने हुए चावल की खीर को प्रसाद के रूप में खाना चाहिए। इस दिन बनी गुड़ की खीर बेहद पौष्टिक और स्वादिष्ठ होती है।

3. तीसरा पड़ाव शाम का अर्घ्य : तीसरे दिन सूर्य षष्ठी को पूरे दिन उपवास रखकर शाम के समय डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के लिए पूजा की सामग्रियों को लकड़ी के डाले में रखकर घाट पर ले जाना चाहिए। शाम को सूर्य को अर्घ्य देने के बाद घर आकर सारा सामान वैसी ही रखना चाहिए। इस दिन रात के समय छठी माता के गीत गाने चाहिए और व्रत कथा सुननी चाहिए।

४. चोथा पड़ाव सुबह का अर्घ्य : इसके बाद घर लौटकर अगले (चौथे) दिन सुबह-सुबह सूर्य निकलने से पहले ही घाट पर पहुंचना चाहिए। उगते हुए सूर्य की पहली किरण को अर्घ्य देना चाहिए। इसके बाद घाट पर छठ माता को प्रणाम कर उनसे संतान-रक्षा का वर मांगना चाहिए। अर्घ्य देने के बाद घर लौटकर सभी में प्रसाद वितरण करना चाहिए तथा स्वयं भी प्रसाद खाकर व्रत खोलना चाहिए।

छठ व्रत कथा (Chhath Vrat Katha)

छठ व्रत कथा के अनुसार प्रियव्रत नाम के एक राजा थे। उनकी पत्नी का नाम मालिनी था। परंतु दोनों की कोई संतान न थी। इस बात से राजा और उसकी पत्नी बहुत दुखी रहते थे। उन्होंने एक दिन संतान प्राप्ति की इच्छा से महर्षि कश्यप द्वारा पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया। इस यज्ञ के फल स्वरूप रानी गर्भवती हो गई।नौ महीने बाद संतान सुख को प्राप्त करने का समय आया तो रानी को मरा हुआ पुत्र प्राप्त हुआ। इस बात का पता चलने पर राजा को बहुत दुख हुआ। संतान शोक में वह आत्म हत्या का मन बना लिया। परंतु जैसे ही राजा ने आत्महत्या करने की कोशिश की उनके सामने एक सुंदर देवी प्रकट हुईं।

देवी ने राजा को कहा कि “मैं षष्टी देवी हूं”। मैं लोगों को पुत्र का सौभाग्य प्रदान करती हूं। इसके अलावा जो सच्चे भाव से मेरी पूजा करता है मैं उसके सभी प्रकार के मनोरथ को पूर्ण कर देती हूं। यदि तुम मेरी पूजा करोगे तो मैं तुम्हें पुत्र रत्न प्रदान करूंगी।” देवी की बातों से प्रभावित होकर राजा ने उनकी आज्ञा का पालन किया।राजा और उनकी पत्नी ने कार्तिक शुक्ल की षष्टी तिथि के दिन देवी षष्टी की पूरे विधि -विधान से पूजा की। इस पूजा के फलस्वरूप उन्हें एक सुंदर पुत्र की प्राप्ति हुई। तभी से छठ का पावन पर्व मनाया जाने लगा।

छठ व्रत के संदर्भ में एक अन्य कथा के अनुसार जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गए, तब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा। इस व्रत के प्रभाव से उसकी मनोकामनाएं पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिल गया।

 

 

You Must Read

प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की बायोग्राफी और जानें उनके बारे ... नरेन्द्र दामोदर दास मोदी गुजरात के एक चाय बेचने वा...
Anil Kumble resigned from the post of coach अनिल कुंबले ने कोच पद से इस्तीफा दिया जानिये क्या ...
02 अक्टूबर गाँधी जयंती 2017 महात्मा गाँधी की महानता और जीवन ... दोस्तों : भारत के राष्ट्रपिता मोहनदास कर्मचंद गांध...
Raksha Bandhan का शुभ मुहर्त जानिए रात में लग रहा है चंद्रग्... 12 वर्षो बाद फिर Raksha Bandhan के दिन यह योग बना ...
Pro Kabaddi League 2017 Gujarat VS Delhi live Update Gujarat Fortunegiants VS Dabang Delhi Pro Kabaddi ...
April Fool Funny Joke SMS Shayari Message Chutkale April Fool Funny Joke SMS Shayari : Happy April Fo...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *