कालाष्टमी कालभैरव जयंती 2017 कथा महत्व पूजा विधि

कालाष्टमी कालभैरव जयंती 2017 : कृष्ण पक्ष की प्रतेक अष्टमी काल भैरूजी महाराज़ को समर्पित है | कालाष्टमी के दिन भैरूजी महाराज का जन्म हुआ था | इसलिए इसे भैरू जयंती अथवा काल भैरूअष्टमी भी कहा जाता हैं | भैरूजी महाराज़ भगवान शिव का रूप माना गया हैं | इसे हम भैरव अष्टमी Bhairav ashtami, भैरव जयंती Bhairav jayanti, काला- भैरव अष्टमी Kala Bhairav Ashtami,महाकाल भैरूअष्टमी Mahakaal Bhairavashtamiऔर काल भैरव जयंती Kaal Bhairav jayanti के नाम से भी जानते है | यह जयंती भैरूजी महाराज के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाई जाती है | भैरू भगवान शिव का डरावना और प्रकोप वयक्त करने वाला स्वरूप है | यहाँ काल का अर्थ है समय व भैरू शिव का रूप है |

kala bhairava ashtami 2017

कालभैरू कालाष्टमी जयंती कब मनाई जाती है

kala bhairava

प्रतेक माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरू को समर्पित कर कालाष्टमी कहा गया है | पुराणों में बताया गया है की हर महीने की कालाष्टमी से ज्यादा महत्व कार्तिक मास की कालाष्टमी का होता है | यह कार्तिक मास की अष्टमी के दिन आता है | या इस पर्व को मनाया जाता है | यह जयंती वर्ष में एक बार आती है | इसलिए इसे कालाअष्टमी या कालभैरू जयंती कहते हैं | बताया जाता है की यह दिन पापियों को सजा देने वाला दिन होता है | इसलिए भैरू को दंडपानी भी कहा जाता है | भैरू की सवारी काले कुत्ते की है | इस लिए इसे स्वस्वा भी कहा जाता है | यह रूप जो इंसान और देवताओ में पापी होता है उसे दंड देता है | और जो उनके हाथ में डंडा होता है उससे वह सजा देता है |

कालाष्टमी भैरू जयंती 2017 में तिथि

वर्ष 2017 में काल भैरू जयंती 10 नवम्बर शुक्रवार को अष्टमी के दिन मनाई जाएगी |

कालभैरव जयंती पर महत्वपूर्ण समय

सूर्योदय 10 नवंबर 2017 06:41 पूर्वाह्न
सूर्यास्त 10 नवंबर 2017 17:40 अपराह्न
अष्टमी तिथी प्रारम्भ 10 नवम्बर 2017 14:50 अपराह्न
अष्टमी तिथी समाप्ति 11 नवंबर 2017 13:30 अपराह्न

काल भैरू जयंती कथा kala bhairava ashtami 2017 katha

Bhairu Puja Vidhi

एक बार की बात है की ब्रह्मा विष्णु ,महेश इन तीनो श्रेष्ठता की लड़ाई चली | इस बात पर बहस ज्यदा बढ़ गई तो सभी देवताओ को बुलाकर बैठक की गई | यहाँ सबसे यही पूछा गया की श्रेष्ठ कोंन है | सभी ने अपने अपने विचार व्यक्त किये और उतर खोजा | लेकिन उस बात का समर्थन शिवजी और विष्णु ने तो किया | परन्तु ब्रह्माजी ने शिवजी को अपशब्द कह दिए | इस बात पर शिवजी को क्रोध आगया | और शिवजी ने अपना अपमान समझा |

शिवजी ने उस क्रोध से अपने रूप से भैरू को जन्म दिया | इस भैरू का अवतार का वाहन काला कुत्ता है |जिसके एक हाथ में छड़ी है | इस अवतार को महाकालेश्वर के नाम से भी जाना जाता है | इसलिए ही इन्हें ‘ डंडाधिपति ‘कहा गया है | शिवजी के इस रूप को देख कर सभी देवता घबरा गए | भैरू के क्रोध में ब्रह्मा जी के पांच मुखों में से एक मुख को काट दिया | तब से ब्रह्मा के पास चार मुख है | इस प्रकार ब्रह्माजी के सर को काटने के कारण भैरू जी पर ब्रह्महत्या का पाप आ गया | ब्रह्माजी ने भैरव बाबा से माफ़ी मांगी तब जाकर शिवजी अपने असली रूप में आये |

भैरू बाबा को उनके पापो के कारण दंड मिला इसी लिए भैरू को कई दिनों तक भिखारी की तरह रहना पड़ा |इस प्रकार कई वर्षो बाद वाराणसी में इनका दंड समाप्त होता हैं | इसका एक नाम “दंडपानी “पड़ा था | इस प्रकार भैरू जयंती को पाप का दंड मिलने वाला दिवस भी माना जाता हैं |

भैरू जयंती पर पूजा कैसे करे Bhairu Puja Vidhi

kala bhairava ashtami pooja

काल भैरू जयंती पर भक्त भगवान शिव और पार्वती के साथ फल ,फुल व मिठाई के साथ काल भैरू की पूजा करते है | यह पूजा रात्रि में की जाती है |समपर्ण रात्रि शिव व पार्वती की पूजा की जाती है | पूजा पूरी होने के बाद काल भैरू की कथा सुनते है | कहा गया है की भैरू बाबा तांत्रिको के देवता है | इसी लिए यह पूजा रात्रि में होती है | दुसरे दिन सुबह जल्दी उठ कर पवित्र नदी में नहाकर तर्पण किया जता है |इसके बाद शिवजी के भैरू रूप को भस्म चढाई जाती है | इसी दिन काले कुत्ते की पूजा की जाती है | इन की पूजा करने वाले व्यक्ति को किसी चीज का डर नहीं रहता है व जीवन खुश रहता है | काल भैरू को पूजने वाले को परम वरदान देता है |उस के मन की सम्पूर्ण इच्छा पूरी होती है |

माता वैष्णव देवी की मानता

माता वैष्णव देवी

कश्मीर की ऊची पहाड़ी पर माता वैष्णव देवी का विशाल मंदिर है | माता वैष्णव देवी के मंदिर से लगभग 3 किलोमीटर उचाई पर काल भैरू का मंदिर है | इस मंदिर की मान्यता है की जब तक काल भैरू के दर्शन नहीं किये जाते है तब तक माता वैष्णव देवी के दर्शन का फल नहीं मिलता है | इसी प्रकार मध्यप्रदेश के उज्जैन में भी काल भैरू का मंदिर है |जहा प्रसाद के तोर पर देशी शराब चढाई जाती है |यह शराब काल भैरू का प्रसाद है | जो आज भी वहा पीते है |

You Must Read

जन्माष्ठमी 2017 पर निबन्ध कविता और देखिए कान्हा के जन्म की प... श्री कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण का जन्म उत्...
14 July Shift 1st Rajasthan Police Answer Key 2018 Utkarsh ... 14 July Shift 1st Rajasthan Police Answer Key 201...
Happy Diwali 2018 Wishes SMS Message Quotes Shayari in Hindi... Diwali SMS Message 2018 : Hello Friends Congratula...
कजरी तीज 2017 का दिन व्रत पूजा कहानी फल और महत्व... कजरी तीज का त्यौहार उत्तर भारत के राजस्थान, उत्तर ...
RSCIT Model Paper 2018 Important Question Paper Download RSC... RSCIT Model Paper 2018 The Rajasthan State Certifi...
Sapna Choudhary Live Stage Dance in Gudha Jhunjhunu Raj on 6... नमस्कार मित्रो : आपको यह जानकर बड़ा हर्ष होगा की आप...
Rajasthan Board 10th Class Result Name Wise Roll No School w... Rajasthan Board 10th Class Result 2018 Name Wise R...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *