गोवर्धन पूजा पर कविता Govardhan Puja Poem Kavita 2020

गोवर्धन पूजा पर कविता Govardhan Puja Poem Kavita Annakut Puja 2020 Date Time : सभी भाई बहिनों को rkalert.in परिवार की तरफ से दीयों के त्यौहार दीपावली , गोवर्धन पूजा, भाई दूज की हार्दिक शुभकामनाये | हम आपके लिए लेकर आ रहे है गोवर्धन पूजा पर कुछ ऐसी कवीताओ का संग्रह जो आपको इस अंक में पसंद आयेगा | धन्यवाद |

गोवर्धन पूजा पर कविता Govardhan Puja Poem 2020

हे कृष्ण कान्हा
तेरी महिमा अपरम्पार
तूने किया है उद्दार हम सबका

घमंड तूने तोडा इन्द्र का
गोवर्धन पूजा का आधार बनाया

पाहड उठाकर तूने उंगली पर
सबका ध्यान भक्ति पर लगाया

अपने मन से कोई बड़ा नहीं होता
परोपकार ही सबसे बड़ा धन है

हम सबको गोवर्धन पूजा का महत्व बताया
आपने ही इन नदियों का पहाड़ों का सार बताया

Govardhan Puja Poem in Hindi गोवर्धन पूजा पर हिंदी में कविता

आओ गोवर्धन पूजा का पर्व मनाएँ।
शुभ रंगोली मधुर वचन की जग पावन कर जाए
कर्म ही पूजा और न दूजा सबको पाठ सिखाएँ
अपने शुभ संकल्पों से हम भारत स्वर्ग बनाएँ।।।।

हैप्पी गोवर्धन पूजा पर्व

Goverdhan Puja Hindi Kavita Poem गोवर्धन पूजा पर कविता हिंदी में

“गोवर्धन का त्यौहार मनाता है हर परिवार
दीवाली के अगले दिन आता है ये त्यौहार।
वर्षा के देवराज इंद्र थे अभिमानी।
उनकी पूजा करता था गोकुल का हर एक प्राणी।
अभिमान चूर करने की खातिर कृष्ण ने लीला रचाई।
गोवर्धन की पूजा करो,बात ये सबके मन में बैठाई।
गोवर्धन की पूजा की सबने मिलकर तैयारी
कुपित हुए तब इन्द्र देवता,घनघोर बारिश कर डाली।
घमासान बारिश से तब गोकुलवासी घबराये।
उनकी रक्षा की खातिर अंगुली पर कृष्ण गोवर्धन पर्वत उठाये।
ये देख सब गोकुलवासी गोवर्धन की शरण में आये।
इन्द्र का हुआ अभिमान चूर कृष्णा के पास वो आये।
माफ़ी मांगी इंद्र ने तब शत शत शीश नवाये।
सबके साथ फिर मिलजुलकर गोवर्धन पूजा में आये।
उसी दिन से मनाया जाने लगा गोवर्धन का त्यौहार।
जो करता गोवर्धन की पूजा उसको मिलता कृष्ण का प्यार।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.