Devshayani Ekadashi देवशयनी एकादशी व्रत कथा पूजा विधि और महत्व

The Name Devshayani Ekadashi suggests that Shri Hari falls asleep from this day. During this period Sri Hari the king of Bali, lives in Bali for four months. Lord Vishnu returns to his world from the Hades on the day of Kartik Shukla Ekadashi, also known as Devaprabodhini Ekadashi. The Chaturmasya rules also end on this day. Famous religious texts – Mahabharata etc. have told the glory of Chaturmas. Chaturmas is indeed a time for ascetics to guide the society. Even though the common man only tells the truth in these four months, he will see spiritual light inside him. The All Gays can check Devshayani Ekadashi Full Story and Puja vidhi and Shubh Muhart on this web page. Devshayani Ekadashi coming in the month of July. देवशयनी ग्यारस : देवशयनी एकादशी कल मंगलवार 04 जून को हैं | आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी कहते हैं। इस दिन से भगवान विष्णु चार महीने तक पाताल में सोने के लिए जाते हैं । ये चार महीने चातुर्मास कहलाते हैं। चातुर्मास को भगवान की भक्ति करने का समय बताया गया है। इस दौरान कोई मांगलिक कार्य भी नहीं किए जाते,और भूल क्र भी कोई सुभ कार्य नहीं करना चाहिए। भारतीय समाज और हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं लेकिन देवशयनी एकादशी की एक विशेष ग्यारस हैं । यह आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाई जाती हैं | इसे देवशयनी एकादशी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार सूर्य के मिथुन राशि में आने पर ये एकादशी आती है। इसी दिन से चातुर्मास का आरंभ माना जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि विष्णु क्षीरसागर में शयन करते हैं और फिर लगभग चार माह बाद तुला राशि में सूर्य के जाने पर उन्हें उठाया जाता है। उस दिन को देवोत्थानी एकादशी कहा जाता है। इस बीच के अंतराल को ही चातुर्मास कहा गया है।

Devshayani Ekadashi देवशयनी एकादशी व्रतविधि

Ashadha Shukla Paksha Ekadashi is known as Devshayani Ekadashi. Lord Vishnu goes to sleep on this day and wakes up after four months on Prabodhini Ekadashi. Devshayani Ekadashi comes just after famous Jagannath Rathyatra and currently falls in month of June or July on English calendar. Chaturmas, a holy period of four months in Hindu calendar, starts from this day.देवशयनी एकादशी व्रतविधि एकादशी को प्रातःकाल उठें। इसके बाद घर की साफ-सफाई करे और स्नान कर पवित्र जल का घर में छिड़काव करें। घर के पूजन स्थल अथवा किसी भी पवित्र स्थल पर प्रभु श्री हरि विष्णु की सोने, चाँदी, तांबे अथवा पीतल की मूर्ति की स्थापना करें। तत्पश्चात उसका षोड्शोपचार सहित पूजन करें। इसके बाद भगवान विष्णु को पीतांबर आदि से विभूषित करें। तत्पश्चात व्रत कथा सुननी चाहिए। इसके बाद आरती कर प्रसाद वितरण करें। अंत में सफेद चादर से ढँके गद्दे-तकिए वाले पलंग पर श्री विष्णु को शयन कराना चाहिए। व्यक्ति को इन चार महीनों के लिए अपनी रुचि अथवा अभीष्ट के अनुसार नित्य व्यवहार के पदार्थों का त्याग और ग्रहण करें।

Devshayani Ekadashi देवशयनी एकादशी व्रत कथा

एक बार देवर्षि नारद ने ब्रह्माजी से देवशयनी एकादशी का महत्व जानना चाहा। तब ब्रह्माजी ने उन्हें बताया कि सतयुग में मांधाता नामक एक चक्रवर्ती राजा थे। उनके राज्य में प्रजा बहुत सुखी थी। एक बार उनके राज्य में भयंकर अकाल पड़ा। इस अकाल से चारों ओर त्राहि-त्राहि मच गई। प्रजा ने राजा के पास जाकर अपनी व्यथा सुनाई। राजा मांधाता यह देखकर बहुत दु:खी हुए। इस समस्या का निदान जानने के उद्देश्य से राजा सेना को लेकर जंगल की ओर चल दिए। वहां वे एक दिन ब्रह्माजी के पुत्र अंगिरा ऋषि के आश्रम में पहुंचे। अंगिरा ऋषि ने उनके जंगल में घूमने का कारण पूछा तो राजा ने अपनी समस्या बताई। तब महर्षि अंगिरा ने कहा कि सब युगों से उत्तम यह सतयुग है। इसमें छोटे से पाप का भी बड़ा भयंकर दंड मिलता है। ब्राह्मण के अतिरिक्त किसी अन्य जाति को तप करने का अधिकार नहीं है, जबकि आपके राज्य में एक अन्य जाति का व्यक्ति तप कर रहा है। इसीलिए आपके राज्य में वर्षा नहीं हो रही है। जब तक उसका अंत नहीं होगा, तब तक यह अकाल समाप्त नहीं होगा।किंतु राजा का हृदय एक निरपराध तपस्वी को मारने को तैयार नहीं हुआ। तब महर्षि अंगिरा ने राजा को आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का व्रत करने के लिए कहा। राजा के साथ ही सभी नागरिकों ने भी देवशयनी एकादशी का व्रत विधिपूर्वक किया। व्रत के प्रभाव से उनके राज्य में मूसलाधार वर्षा हुई और पूरा राज्य धन-धान्य से परिपूर्ण हो गया।

Devshayani Ekadashi देवशयनी एकादशी व्रत का महत्त्व

पद्म पुराण के अनुसार आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी यानि देवशयनी एकादशी (Devshayani ekadashi Vrat ) के दिन भगवान विष्णु का कमल के फूलों से पूजन करने से तीनों लोकों के देवताओं का पूजन हो जाता है। इस व्रत को करने वाला व्यक्ति परम गति को प्राप्त करता है। जो व्यक्ति चातुर्मास के दौरान दीपदान एकादशी व्रत तथा पलाश के पत्तों पर भोजन करते हैं वे भगवान विष्णु के बहुत प्रिय होते है तथा मृत्यु के बाद मोक्ष प्राप्त कर स्वर्ग में जाते हैं। पद्म पुराण के अनुसार चातुर्मास यानि चौमास में कुछ चीजों का परहेज बताया गया है: सावन में साग, भादों में दही, क्वार में दूध, और कार्तिक में दाल का त्याग करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.