भाई दूज पर कविता 2020 Bhai Dooj Poem Kavita Bhai Dooj Funny Comedy Kavita Photo Wallpaper

भैया दूज कविता 2020 Bhaiya Dooj Kavita Poem : भैया दूज की सभी भाई बहनों को शुभकामनाएँ ,दोस्तों भैया दूज के पावन त्योंहार पर हम आपको बहन और भाई की प्यार भरी कविता और Bhai Dooj Funny Joke Poem Bhaeya Dooj Kavita Wallpaper आदि शेयर करने जा रहे हैं | एक भाई अपनी बहना के बारे में अपने दिन की बात बताने जा रहा हैं जो इस प्रकार हैं |

bhai dooj wall paper

भैया दूज कविता : एक भाई की बहन के लिए- दिल की बात

बहुत याद आता है “दीदी” तुम्हारा मुझे “भाई” कहके बुलाना
वो मद्धम सा मुस्कुराना और वो झूठ-मूठ का गुस्सा दिखाना,
समझना मेरी हर बात को और मुझे हर बात समझाना,
वो लड़ना तेरा मुझसे और फिर प्यार जताना
बहुत याद आता है “दीदी” तुम्हारा मुझे “भाई” कहके बुलाना,

वो शाम ढले करना बातें मुझसे और अपनी हर बात मुझे बताना,
सुनके मेरी बेवकूफियां तुम्हारा ज़ोर से हंस जाना,
मेरी हर गलती पे लगाना डांट और फिर उस डांट के बाद मुझे प्यार से समझाना,
कोई और न होगा तुमसे प्यारा मुझे यह आज मैंने है जाना,

वो राखी और भाई-दूज पे तुम्हारा टीका लगाना,
कुमकुम मैं डूबी ऊँगली से मेरा माथा सजाना,
खिलाना मुझे मिठाई प्यार से और दिल से दुआ दे जाना,
बाँध के धागा कलाई पे मेरी अपने प्यार को जताना,

कभी बन जाना माँ मेरी और कभी दोस्त बन जाना,
देना नसीहतें मुझे और हिदायतें दोहराना,
जब छाये गम का अँधेरा तोः खुशी की किरण बनके आना,
हाँ तुम्ही से तोः सिखा है मैंने गम मैं मुस्कुराना,

कहता है मन मेरा रहके दूर तुमसे मुझे अब एक लम्हा भी नही बिताना,
अब बस “गुड्डू” को तोः है अपनी “परी दीदी” के पास है जाना,
हैं बहुत से एहसास दिल मैं समाये पता नही अब इन्हे कैसे है समझाना,
बस जान लो इतना “दीदी” बहुत याद आता है तुम्हारा “भाई” कहके बुलाना,

तेरी गुड़िया : bhai dooj Kavita

bhai dooj festival kavita

रूठकर तू क्यों बैठा है भाई, अब मुझसे बात कर
हो गई गलती मुझसे, अब अपनी बहन को माफ कर
बिन तुझसे बात किए कैसे कटेगा वक्त मेरा
देख फलक की ओर चांद की तन्हाई एहसास कर
आज मैं तेरे संग हूँ, कल तुझसे रुखसत हो जाऊंगी
फिर पछताना मत, क्यूंकि मैं लौटकर न फिर आऊंगी
वो रक्षाबंधन और भाई दूज की मस्तियाँ याद कर
और बचपन की शरारतों का फिर से आगाज कर
अब भी गर न बोला तू, तो तुमसे मैं भी रूठ जाऊंगी
एक बार तू मुस्कुरा दे, वरना मैं रोने लग जाऊंगी
नासमझ है तेरी गुड़िया, गुस्ताखी उसकी माफ कर
पड़ गई जो धूल स्नेह पर चल उसको अब साफ कर

भाई दूज फनी कविता : Bhai Dooj Funny Kavita

भाई दूज पर भालू ने,
हथनी को बहन बनाया।
उसके हाथों से माथे पर,
लाल तिलक लगवाया।
फिर बोला वह प्यारी बहना,
मीठा तो खिलवाओ।
हथनी बोली भैया पहले,
सौ का नोट दिखाओ।

Bhai Dooj Wallpapers Poem Kavita Photo

bhai dooj wall paper

Bhai Dooj Greeting wallpapers Free Download

bhai dooj greeting

Happy Bhai Dooj SMS Wallpapers

happy bhai dooj sms pic

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.