मुहर्रम ताजिया 2017 ताजिया का महत्व और मोहर्रम का इतिहास

सिया मुस्लिम मुहर्रम को बड़े ही शोक से मानते है | मुहर्रम के दस दिन तक बड़े ही धूम धाम से शोक मनाया जाता है और रोज़ा रखा जाता है | ग्यारहवे दिन ताजिया निकाला जाता है | इस लोग अपने आप को पिट -पिट कर दुःख मानते है | इन दिनों में इस्लाम धर्म पैगंबर मोहम्मद साहब के नाती इमाम हुसैन और उनके साथियों की शहादत हुई थी |हजरत मुहम्मद ने इस मास को अल्लाह का मास कहा है |

muharram 2017

मुहर्रम ताजिया दिन व दिंनाक Muharram Tajiya Day and Date

मुहर्रम इस्लामिक पंचांग का दूसरा पवित्र महा है | मुहर्रम को दस दिन आशुरा के रूप में मनाया जाता है इस महीने को शाहदत के रूप में मनाया जाता है इन दिनों में रोज़े रखने का महत्व होता है |

वर्ष 2017 में मुहर्रम अक्‍टूबर 1 रविवार को मनाया जायेगा |

मोहर्रम का इतिहास History of Muharram

मुहर्रम

बताया जाता है की हिजरी सवत 60 में कर्बला सीरिया के गवर्नर याजिद ने खुद को मुल्क का खलीफा घोषित कर दिया था | इस के बारे में बतया जाता है की वह इस्लाम धर्म का शहंशाह बनाना चाहता था | उसने अपने लोगो को डराना धमकाना शुरू कर दिया | परन्तु हजरत मुहम्मद के वारिसो और कुछ साथियों ने यजीद के सामने अपने घुटने नहीं टेके | और उनका जमकर मुकाबल किया | एक बार की बात है की इमाम हुसैन मदीना से इराक की और जा रहे थे | तभी याजिद ने उन पर हमला कर दिया | तब उनके पास 72 आदमी थे और यजीद के पास 8000 से ज्यादा सैनिक थे | फिर भी उन्होंने मैदान नहीं छोड़ा उनमे से काफी लोग शहीद हो गए | जबकि इमाम हुसैन इस लड़ाई बच निकले और इमाम हुसैन ने अपने साथियों को कब्र में दफ़न किया | मुहर्रम के दसवें दिन जब इमाम हुसैन नमाज अदा कर रहे थे | तब यजीद ने उन्हें दोखे से मरवा दिया था | उसी दिन की याद में मुहर्रम ताजिया मनाया जाता है | क्यों की इमाम हुसैन और उनके साथियों की शहादत के रूप में मनाया जाता है |

मुहर्रम ताजिया क्या हैं Muharram what is Tajiya

मुहर्रम 2017

मुहर्रम के दिन ताजिया को बांस की लकड़ी से झाकिया सजाई जाती है | ताजिया को सजा कर मुहर्रम के दिन जुलस निकला जाता है | इस ताजिया को इमाम हुसैन की कब्र बनाकर उसमे दफनाते है | इसे शहीदों को श्रद्धाजली देना कहा गया है | इस दिन सिया मुसलिम मातम मानते है और फक्र से शहीदों को याद करते है | यह ताजिया मुहर्रम के दस दिन बाद
ग्यारहवे दिन निकला जाता है | इस दिन को पूर्वजो की कुर्बानी की गाथा ताजिये के द्वारा बताई जाती है |

मुहर्रम कैसे और क्यों मानते है How and why do Muharram

कुरान में बताया गया है की यह महिना बिल्कुल पाक है | इस दिन को इस्लाम धर्म के लोग बड़े ही धूम धाम से मानते है | इन दस दिनों में रोज़े रखे जाते है | जिन्हें इस्लाम धर्म में आशुरा कहते है | इस्लाम धर्म के अनुसार यह महिना इबादत का महिना होता है |हजरत मुहम्मद के अनुसार इन दिनों में रोजे रखने से बुरे कर्मो का अंत होता है | और उन पर अल्लहा की रहम होकर उनके किये गये गुनाहों को माफ़ कर दिया जाता है या गुनाह माफ़ होता है |

You Must Read

Arvind Kejriwal asked me to use abusive words against jethma... राम जेठमलानी ने दिया बड़ा झटका अरविन्द केजरीवाल को ...
WhatsApp Top 10 Security Tips To Avoid Fake Viral Message V... WhatsApp Top 10 Security Tips in Hindi To Avoid Fa...
MDSU Helpline Contact Number Head Office Address Official We... There are 24 Department of Education in Maharishi ...
गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी महाराज का जीवन चित्रण शिक्षा औ... नाम : श्री श्री रविशंकर जन्म : 13 मई 1956 माता क...
15 August Independence Day Quotes Deshabhakti Slogans in Hin... 15 August Independence Day Quotes Deshabhakti Slog...
WBPSC Recruitment 2018 West Bengal PSC 745 Fire Operator Vac... WBPSC Recruitment 2018 West Bengal PSC 745 Fire Op...
HPSC ADA Result 2018 Haryana Assistant District Attorney ADA... HPSC Assistant District Attorney Result 2018 :- Ha...
महात्मा गांधी जयंती पर कविता Gandhi Jayanti Poem Hindi 02 अ... महात्मा गांधी जयंती पर कविता Gandhi Jayanti Poem ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.