विश्व यूएफओ दिवस World UFO Day 2 July world unidentified flying objects

विश्व यूएफओ दिवस World UFO Day, World UFO Day celebrate 2 जुलाई 2019 को विश्व यूएफओ दिवस मनाया गया World UFO Day is celebrated as an awareness day. ‘World UFO Day’ is also being celebrated every year on 2 July. In such a situation, let us know how often UFOs were seen on earth and how those cases are especially prevalent among the people. Many people in the world believe in the existence of unidentified flying objects, also known as flying -flying or UFOs. This day is celebrated for them. So in July, if people are seen looking at the sky with telescopes on the roofs, do not be surprised. Thank you sadly the Alien Abduction Festival is now over & all good alien big kids are now tucked safe in their beds. In such a situation, let us know how often UFOs were seen on earth and how those cases are especially prevalent among the people. Many people in the world believe in the existence of unidentified flying objects, also known as flying -flying or UFOs. This day is celebrated for them. So in July, if people are seen looking at the sky with telescopes on the roofs, do not be surprised.

विश्व यूएफओ दिवस WORLD UFO DAY 2 JULY WORLD UNIDENTIFIED FLYING OBJECTS

World UFO Day’ is also being celebrated every year on 2 July.international alien abduction day 2 Alien Abduction Day History of alien abduction a claim describes assertions or claims that people have experienced alien abduction. Such claims came to international prominence in the 1950 and 1960, but some researchers argue abduction narratives can be traced to decades earlier. विश्व उफौ दिवस एक जागरूकता दिवस के रूप में मनाया जाता है 2 जुलाई को ‘विश्व यूएफओ दिवस’ भी काफी तेजी से मनाया जाने लगा है। ऐसे में आइए आज जानें कि धरती पर कब कब देखे गए यूएफओं और वे मामले लोगों के बीच में विशेष रूप से छाए रहे हैं | जो आम तौर पर संयुक्त राज्य अमेरिका में पहली बार व्यापक रूप से अज्ञात उड़ान वस्तु देखते हुए मनाया जाता है | जुलाई 2 का उद्घाटन लक्ष्य “यूएफओ के निस्संदेह अस्तित्व” के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए है और सरकारों को यूएफओ के दृश्यों पर अपनी फाइलों को अभिव्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं |In the United States, for the first time, things like the widely unknown flying posture were seen hovering in the sky. The goal of celebrating UFO Day on 2 July is undoubtedly to learn about their existence and to encourage governments to express their files on UFO sightings.

सबसे पहले अमेरिका में देखे गई थे एलियंस (उड़न तश्तरियां)

UAO seen in Texas in 1897: People noticed something big about the size of a cigar that allegedly hit a windmill. The Texas Historical Commission received an indication that an aircraft crashed here in 1897 from which the body of an alien was also removed from the wreckage and buried at an unknown location.

पहली बार यूएफओ देखने का मामला 1947 में अमेरिका में सामने आया। एविएटर केनेथ अर्नाल्ड ने 24 जून दावा किया था कि उन्‍होंने आसमान में उड़ती हुई किसी अज्ञात चीज को देखा है।

मैक्‍िसको में वर्ष 1947 देखा गया

कोलकाता में वर्ष 2007 देखा गया

जापान में वर्ष 1986 देखा गया

ब्राजील में वर्ष 1996 में 14 से 21 साल की तीन बहनों को यह यूएफओक दिखाई दिया था

इस दिवस का उद्देश्य लोगों को जागरूक करके यह बताना है कि वे आसमान में दिखने वाली अनजान चीजों के बारे में जानकारी दें। खासतौर से ऐसी चीजें, जिसे पहले कभी देखा नहीं गया एलियन्स के यान। अमेरिकी वायुसेना के रिकॉर्ड में यह दिन पहली बार यूएफओ देखे जाने के तौर पर दर्ज किया गया था | अक्‍सर ही एलियंस और यूएफओ देखने जैसी खबरें सुर्खियों में छाई रहती हैं, लेकिन हाल ही में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसका प्रमाण बतौर फोटो हो रहा है। रूस में एक फोटोग्राफर ने यूएफओ के लैंड होने से लेकर एलियंस के धरती पर उतरने की फिल्‍म कैप्‍चर करने का दावा किया है।

कब कब देखे गये एलियन 

  • अमेरिकी एविएटर केनेथ अर्नाल्ड 24 जून 1947 के दिन वॉशिंगटन में माउंट रेनियर के आसपास उड़ान पर थे। वहीं पहाड़ों के पास उन्होंने 9 अनचान चीजें उड़ते हुए देखी थीं। पहली बार में उन्हें कुछ समझ नहीं आया, लेकिन बाद में अध्ययन करने पर पता चला कि वे यूएफओ थे। एलियन्स के यान। अमेरिकी वायुसेना के रिकॉर्ड में यह दिन पहली बार यूएफओ देखे जाने के तौर पर दर्ज है।
  • 1951 में भारत, नई दिल्ली में 15 मार्च को तब खलबली मच गई जब एक फ्लाइिंग क्लब के 25 सदस्यों ने सिगार के आकार की कोई चीज देखी, जो करीब 100 फुट लंबी थी जो अचानक कुछ देर बाद आंखों से ओझल हो गई।
  • जुलाई 1952 में अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डी.सी. के ऊपर आसमान में भी लगातार कई अनजान चीजें उड़ती देखी गईं। हालांकि बाद में इस घटना को तापमान बढ़ने से जोड़ा गया। तर्क दिया गया कि गर्म हवा कभी-कभी ऐसी सीलिंग तैयार कर देती है जिससे रेडार प्रभावित हो जाते हैं। कहा गया कि ऐसे में जमीन पर चलती कारें, टेलिफोन के खंभे जैसी चीजें हवा में हजारों फुट ऊपर दिखने लगती हैं
  • वर्ष 2013
    चेन्नई में मोगाप्पियर के निवासियों ने 20 जून को रात 08.55 को आकाश में नारंगी रंग में चमकती चीज देखी. इसे 23 जून को स्थानीय अखबारों ने भी छापा.
    – लद्दाख में चीन से लगी सीमा पर वर्ष 2013 में चार अगस्त को सेना ने आसमान में उड़ती हुई गोल चीज देखी, जो पीली रोशनी के साथ थी. वो वहां पांच घंटे तक नजर आती रही.

    वर्ष 2014
    – चार साल पहले अहमदबाद के पास आसमान में 26,300 फुट की ऊंचाई पर जेट एयरवेज की महिला पायलट महिमा चौधरी ने एक चमकदार यूएफओ देखने का दावा किया. उसका दावा था कि ऑब्जेक्ट का रंग हरा और सफेद था. ये फ्लाइट पुणे से अहमदाबाद जा रही थी.
    – इसी साल लखनऊ के अमित त्रिपाठी ने जुलाई में बालकनी से सूरज के नजदीक एक चमकीला ऑब्जेक्ट देखा. जिसे उन्होंने सेलफोन में फोटो के तौर पर कैद भी किया. उनका दावा था कि ये ऑब्जेक्ट लगभग 40 मिनट तक चमकता रहा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.