Bhavinaben Patel Biography Hindi Tokyo Paralampics 2021 Table Tennis Player Bhavinaben Life Story Wikipedia टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल की जीवन कहानी

Bhavinaben Patel Biography Hindi Bhavinaben Patel Life Story Wikipedia in Hindi Tokyo Paralampics 2021 Table Tennis Player Bhavinaben Ki Jivan Kahani Jivan Parichya Jivani टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल के जीवन से जुड़े रोचक तथ्य जीवन कहानी : भारत में इतिहास रचने वाली टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल आज देश की हर महिलाओ, लडकियों व युवाओ के लिए एक प्रेरणा का स्रोत है |

आपको बतादे की Bhavinaben Patel का पैरालंपिक तक का सफर आसान नहीं रहा है | उन्होंने पोलियो को मात देते हुए इस मुकाम को तय किया है | हमने यहाँ Bhavinaben Patel Biography Hindi Tokyo Paralampics 2021 Table Tennis Player Bhavinaben Life Story Wikipedia टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल के जीवन से जुड़े रोचक तथ्य जीवन कहानी के बारे में जानकारी दी है |

Bhavinaben Patel Biography Hindi Tokyo Paralampics 2021 Table Tennis Player Bhavinaben Life Story Wikipedia

Contents

गुजरात के मैहसाणा जिले में एक छोटी परचून की दुकान चलाने वाले हंसमुखभाई पटेल की बेटी भाविना को पदक का दावेदार भी नहीं माना जा रहा था लेकिन उन्होंने अपने प्रदर्शन से इतिहास रच दिया | भारत की भाविनाबेन पटेल पैरालम्पिक टेबल टेनिस स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय बन गईं | अगर आप टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल के जीवन से जुडी जानकारी जैसे Bhavinaben Patel Birth Date / Birthday, Bhavinaben Patel Father Mother Sister Brother Husband Daughter & Son Name, Bhavinaben Patel Village District Address, Bhavinaben Patel Education Qualification, When and how did Bhavnaben Patel start his career? etc.

टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल के जीवन से जुड़े रोचक तथ्य व जानकारी के लिए इस पेज को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़कर भाविनाबेन पटेल की जन्म दिनांक , माता पिता का नाम, भाई बहन का नाम, पत्नी व बच्चो के नाम, भाविनाबेन पटेल ने टेबल टेनिस की शुरुआत कब, कहाँ और कैसे की इत्यादि के बारे में विस्तारपुर्वक जानकारी प्राप्त कर सकते है |

टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल के जीवन से जुड़े रोचक तथ्य जीवन कहानी

भारत की भाविनाबेन पटेल लगातार इतिहास रचते हुए पैरालम्पिक टेबल टेनिस स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय बन गईं | ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों में अब तक कोई भी भारतीय महिला गोल्ड नहीं जीत सकी है और अब भाविना के पास सुनहरा अवसर है | गुजरात के वडनगर में जन्मीं भाविना को पैरालंपिक तक का सफर आसान नहीं रहा है | उन्होंने पोलियो को मात देते हुए इस मुकाम को तय किया है |

Bhavinaben Patel Date of Birth, Parents Name, Address Details

भाविनाबेन पटेल का जन्म 6 नवंबर 1986 (Bhavinaben Patel Date of Birth) को गुजरात के मेहसाणा जिले के वडनगर गांव (Bhavinaben Patel Village District Address Details) में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ | इनके पिता हंसमुखभाई पटेल (Bhavinaben Patel Fathers Name) गाँव में ही एक छोटी परचून की दुकान चलाते है | भाविना जब 12 माह की थीं तब वह पोलिया ग्रसित हो गईं |

मध्यमवर्गीय परिवार होने की वजह से उनके पिता के पास इतने पैसे नहीं थे की वह भाविनाबेन का ईलाज करवा सके | भाविनाबेन पटेल समेत पांच सदस्यों का उनका परिवार है | जब भाविना चौथी क्लास में पहुंची तो उनके माता-पिता सर्जरी के लिए आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम ले गए | भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के अनुसार शुरुआत में भाविना ने पोलियो रोग की गंभीरता को अनदेखा किया और उचित देखभाल नहीं की | इससे उनकी बीमारी और बदतर हो गई |

Bhavinaben Patel Education Qualification

भाविना ने अपने गांव में ही कक्षा 12 तक पढ़ाई की और उसके बाद उनके पिता ने साल 2004 में ब्लाइंड पीपुल्स एसोसिएशन, अहमदाबाद में दाखिला करा दिया | यहां पर भाविना ने तेजलबेन लाखिया की देखरेख में एक कंप्यूटर कोर्स किया और गुजरात विश्वविद्यालय से पत्राचार के माध्यम से स्नातक की पढ़ाई की |

Beginning of Bhavnaben Patel’s Career भाविनाबेन पटेल ने टेबल टेनिस की शुरुआत कब और कैसे की

2004 में ब्लाइंड पीपुल्स एसोसिएशन, अहमदाबाद में दाखिला लेने के बाद जब भाविना को यह पता चला उनके संगठन में खेल की गतिविधियां भी होती है | अहमदाबाद के वस्त्रापुर इलाके में नेत्रहीन संघ में खेलना शुरू किया जहां वह दिव्यांगों के लिये आईटीआई की छात्रा थी | बाद में उन्होंने दृष्टिदोष वाले बच्चों को टेबल टेनिस खेलते देखा और इसी खेल को अपनाने का फैसला किया | इसके बाद भाविना अपने कोच ललन दोषी से फिटनेस ट्रेनिंग लेनी शुरू की और धीरे-धीरे टेबल टेनिस खेल उनका जुनून बन गया |

तीन साल बाद ही 2007 में भाविना ने बेंगलुरू में पैरा टेबल टेनिस नेशनल में अपना पहला गोल्ड मेडल जीता | उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत जॉर्डन से की थी लेकिन पहला पदक जीतने में थोड़ा समय लगा | पटेल ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2010 में भाग लिया था लेकिन वह क्वार्टर फाइनल में हार गईं | भाविना का पहला अंतरराष्ट्रीय मेडल साल 2011 में थाईलैंड ओपन में आया जहां उन्होंने सिल्वर जीता. इसके बाद उन्होंने 2013 में पहली बार एशियाई क्षेत्रीय चैंपियनशिप में भी सिल्वर मेडल जीता |

सिंगल्स में जीत हासिल करने के बाद भाविना डबल्स में भी हाथ आजमाने लगी | डबल्स में उन्होंने सोनलबेन पटेल को अपना जोड़ीदार बनाया | भाविना ने आखिरकार 2019 में बैंकॉक में सिंगल्स में अपना पहला गोल्ड जीता | डबल्स में भी उन्हें गोल्ड मेडल मिला | भाविना ने एशियन पैरा गेम्स 2018 में भी मेडल जीता है | पटेल को रियो 2016 पैरालंपिक खेलों के लिए भी चुना गया था, लेकिन साई के अनुसार तकनीकी कारणों से खेलने में सक्षम नहीं थे | लेकिन उन्होंने टोक्यो पैरालिंपिक 2020 के लिए क्वालीफाई किया और ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं |

Tokyo Paralampics 2021 Table Tennis Player Bhavinaben Patel Status हार के साथ मैच में की शुरुआत, फिर की शानदार वापसी

व्हीलचेयर पर खेलने वाली पटेल ने पहला गेम गंवा दिया लेकिन बाद में दोनों गेम जीतकर शानदार वापसी की | तीसरा गेम जीतने में उन्हें चार मिनट ही लगे। चौथे गेम में चीनी खिलाड़ी ने फिर वापसी की लेकिन निर्णायक पांचवें गेम में पटेल ने रोमांचक जीत दर्ज करके फाइनल में प्रवेश किया |

बारह वर्ष की उम्र में पोलियो की शिकार हुई पटेल ने कहा, जब मैं यहां आई तो मैने सिर्फ अपना शत प्रतिशत देने के बारे में सोचा था। अगर ऐसा कर सकी तो पदक अपने आप मिलेगा। मैंने यही सोचा था।’

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल टोक्यो पैरालंपिक Tokyo Paralympics के फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया है | भाविना पहली भारतीय महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं जिन्होंने पैरालिंपिक खेलों के फाइनल में जगह बनाई है | भारत की भाविना पटेल ने पैरालिंपिक खेलों में महिला टेबल टेनिस एकल क्लास 4 के सेमीफाइनल में पहुंचने के साथ ही देश के लिए पदक सुनिश्चित कर लिया। | भाविना पटेल गोल्ड जीतने से एक कदम दूर है |

भाविनाबेन ने स्वर्ण पदक विजेता सर्बिया की बोरिसलावा पेरिच रांकोविच को मात देकर पहुँची सेमीफाइनल

गुजरात के मेहसाणा जिले की 34 वर्षीय भाविना ने 2016 रियो पैरालिंपिक की स्वर्ण पदक विजेता सर्बिया की बोरिसलावा पेरिच रांकोविच को सीधे गेमों में 3-0 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया | भाविना ने 19 मिनट तक चले क्वार्टर फाइनल मुकाबले में रांकोविच को 11-5,11-6, 11-7 से हराया |

आज की सरकारी नौकरीGet Today Latest Jobs Alert / News – Click Here

सेमीफाइनल में चीन की मियाओ झांग को क्लास 4 वर्ग के कड़े मुकाबले में 3-2 से हराकर भाविनाबेन ने बनाई फाइनल में जगह

28 अगस्त 2021 को सेमीफाइनल में चीन की मियाओ झांग को क्लास 4 वर्ग के कड़े मुकाबले में 3-2 से हराकर फाइनल में जगह बना ली है | पटेल ने दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी को 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से हराकर भारतीय खेमे में भी सभी को चौंका दिया | यह मुकाबला 34 मिनट तक चला | अब फाइनल में उनका मुकाबला दुनिया की नंबर पैडलर चीन की यिंग झुओऊ से 29 अगस्त 2021 रविवार को होगा

सेमीफाइनल जीतने के बाद पटेल के कहाँ : स्वर्ण पदक जीतने को हूं तैयार

उन्होंने कहा, ‘अगर मैं इसी आत्मविश्वास से अपने देशवासियों के आशीर्वाद के साथ खेलती रही तो कल स्वर्ण जरूर मिलेगा। मैं फाइनल के लिये तैयार हूं और अपना शत प्रतिशत दूंगी।’

एक वक्त वर्ल्ड नंबर दो थी रैंकिंग

34 वर्षीय भाविना की मौजूदा वर्ल्ड रैंकिंग 12 है | व्हीलचेयर पर मनोरंजन के लिए टेबल टेनिस खेलना शुरू करने वाली भाविना की वर्ल्ड रैंकिंग एक वक्त नंबर दो थी | 2011 पीटीटी थाईलैंड टेबल टेनिस चैंपियनशिप जीतने के बाद उन्होंने यह कमाल किया था | अक्टूबर 2013 में बिजिंग एशियन पैरा टेबल टेनिस चैंपियनशिप में उन्होंने महिलाओं के सिंगल क्लास 4 इवेंट में सिल्वर मेडल जीता था |

Table Tennis Player Bhavinaben Patel Married Life

टेबल टेनिस प्लेयर भाविनाबेन पटेल का विवाह निकुंज पटेल (Bhavinaben Patel Husband Name) से हुआ | विवाह निकुंज पटेल गुजरात के लिये जूनियर क्रिकेट खेल चुके हैं |

Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.