Delta Plus Variant Kya Hai Delta Variant Lakshan Symptoms Bachne Ke Upay क्या है डेल्टा वेरिएंट? डेल्टा वेरिएंट के लक्षण, बचने के उपाय, कितना खतरनाक है? – देखे पूरी जानकारी

Delta Plus Variant Kya Hai Delta Variant Lakshan Symptoms Delta Variant Bachne Ke Upay Kaise Bache : कोविड-19 का नया वेरिएंट डेल्टा प्लस चिंता का विषय बन गया है | कोरोनावायरस की दूसरी लहर के मामलों की रफ्तार धीमी हुई तो अब डेल्टा वेरियंट के खौफ से लोग परेशान हैं | आइए जानते हैं की Kya Hai Delta Plus Variant क्या है डेल्टा वेरिएंट Delta Variant Lakshan Symptoms ​डेल्टा वेरिएंट के लक्षण Delta Variant Kitna Khatarnak Hai डेल्टा प्लस वैरिएंट कितना खतरनाक है? Delta Plus Variant Se Kaise Bache डेल्टा वैरिएंट के संक्रमण से कैसे बचें?.

वेरिएंट डेल्टा प्लस Delta Plus Variant News

वेरिएंट डेल्टा प्लस Delta Plus Variant News

कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वेरिएंट के उभार ने भारत से लेकर दुनियाभर कि सरकारों और विशेषज्ञों को चिंता में डाल दिया है | डेल्टा प्लस प्रकार, वायरस के डेल्टा या ‘बी1.617.2’ प्रकार में उत्परिवर्तन होने से बना है जिसकी पहचान पहली बार भारत में हुई थी | Delta Plus Variant के बढ़ते प्रभाव से लोग चिंतित है की Delta Variant Kitna Khatarnak Hai डेल्टा प्लस वैरिएंट कितना खतरनाक है? Delta Plus Variant Se Kaise Bache डेल्टा वैरिएंट के संक्रमण से कैसे बचें?. इस लेख में हम आपको एक्सपर्टो से मिली जानकारी के अनुसार जान पाएंगे की क्या है डेल्टा वेरिएंट? Delta Plus Variant Kya Hai डेल्टा वेरिएंट के लक्षण Delta Variant Lakshan Symptoms Kya Hai.

Kya Hai Delta Plus Variant क्या है डेल्टा वेरिएंट?

डेल्टा प्लस वेरिएंट डेल्टा का म्यूटेशन से आया है | वैज्ञानिकों का कहना है डेल्टा वैरिएंट (B.1.617.2) डेटा प्लस (AY.1) वैरिएंट में म्यूटेट हुआ है | डेल्टा वैरिएंट की स्पाइक में K417N म्यूटेशन जुड़ जाने का कारण डेल्टा प्लस वैरिएंट बना है और यह काफी तेजी से लोगों को अपना शिकार बनाता है | B.1.617 वैरिएंट में दो अलग-अलग वायरस वैरिएंट से म्यूटिड हुआ है | डेल्टा प्लस के म्यूटेशन को K417N का नाम दिया गया है और यह दक्षिण अफ्रीका में पाए गए बीटा वैरिएंट और ब्राजील में पाए गगए गामा वैरिएंट में मिला था |

Delta Variant Lakshan Symptoms ​डेल्टा वेरिएंट के लक्षण

डेल्टा वेरिएंट के कुछ नए लक्षण सामने आए हैं, जिनके बारे में हेल्थ एक्सपर्ट्स से जानकारी दी है | कोरोना वायरस के रूप बदलने के बाद लक्षणों में भी कुछ बदलाव देखे गए हैं | इसलिए इनके बारे में जानना ज़रूरी है | आइये देखते है Delta Plus Variant Lakshan Symptoms ​डेल्टा वेरिएंट के लक्षण क्या है?

  • सर्दी |
  • खांसी |
  • बुखार |
  • सीने में दर्द |
  • दस्त लगना |
  • नाक बहना |
  • गले में खराश |
  • त्वचा पर चकत्ते |
  • मांसपेशियों में दर्द |
  • बात करने में तकलीफ |
  • स्वाद और गंध की हानि |
  • फनी ऑफ फीलिंग का अहसास |
  • सांस फूलना या सांस लेने में तकलीफ |
  • पैर की उंगलियों के रंग में बदलाव होना |
  • लॉस ऑफ टेस्ट और लॉस ऑफ स्मेल जैसे लक्षण |
Delta Variant Kitna Khatarnak Hai डेल्टा प्लस वैरिएंट कितना खतरनाक है?

अभी तक जितने भी वेरिएंट आए हैं, डेल्टा उनमें सबसे तेजी से फैलता है | अल्फा वेरिएंट भी काफी संक्रामक है, लेकिन डेल्टा इससे 60 पर्सेंट अधिक संक्रामक है | डेल्टा के दो म्यूटेशन- 452R और 478K इम्युनिटी को चकमा दे सकते हैं | डेल्टा से मिलते-जुलते कप्पा वैरिएंट भी वैक्सीन को चकमा देने में कामयाब दिखता है, लेकिन फिर भी यह बहुत ज्यादा नहीं फैला जबकि डेल्टा वेरिएंट सुपर-स्प्रेडर निकला | कुछ एक्सपर्ट्स को आशंका है कि कहीं यह कोविड-19 महामारी की तीसरी वजह न बन जाए | कुछ विषाणु वैज्ञानिकों ने आशंका जताई है कि यह वेरिएंट अल्फा की तुलना में 35-60 फीसदी अधिक संक्रामक है |

Delta Plus Variant Se Kaise Bache डेल्टा वैरिएंट के संक्रमण से कैसे बचें?

हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, कोरोना का कोई भी वैरिएंट हो उससे फैलने से रोकने और बचाव का तरीका एक ही है | जैसे कोई भी वैरिएंट मास्क में नहीं घुस सकता | हेल्थ मिनिस्ट्री ने कहा कि वैक्सीन लेकर भी डेल्टा प्लस वैरियेंट का सामना किया जा सकता है | मंत्रालय ने कहा कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन, दोनों वैक्सीन डेल्टा वेरियंट के खिलाफ प्रभावी हैं |

डेल्टा वैरिएंट पर एक्सपर्ट चिकित्सको और वैज्ञानिको की राय

दिल्ली के CSIR – इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) के चिकित्सक और वैज्ञानिक विनोद स्कारिया ने हाल में अपने ट्विटर पर जानकारी देते हुए बताया था कि ‘म्यूटेशन सार्स सीओवी-2 के स्पाइक प्रोटीन में हुआ है जो वायरस को मानव कोशिकाओं के भीतर जाकर संक्रमित करने में सहायता करता है | स्कारिया ने ट्विटर पर लिखा, भारत में K417N से उपजा प्रकार अभी बहुत ज्यादा नहीं है |

Genomic Sequencing में विशेषज्ञता रखने वाली वैज्ञानिक बानी जॉली ने ट्वीट किया, GISAID पर स्पाइक म्यूटेशन K417N वाले डेल्टा (बी.1.617.2) के सीक्वेंस की एक छोटी संख्या को पाया जा सकता है |

सभी राज्यों की बोर्ड व यूनिवर्सिटी परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे – नई भर्ती, परीक्षा तिथि, प्रवेश पत्र, रिजल्ट की हर खबर के लिए फॉलो करें Rkalert.in के पेज को |

Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.