भारत बांग्लादेश संबंध पर निबंध | essay on india bangladesh relation in hindi

essay on india bangladesh relation in hindi भारत बांग्लादेश संबंध पर निबंध: भारत के पड़ौसी देश बांग्लादेश में हाल ही में सम्पन्न हुए आम चुनावों में शेख हसीना वाजेद की पार्टी को बड़ी जीत हासिल हुई हैं. उनकी पार्टी ने सहयोगियों के साथ मिलकर 300 में से 266 सीटों पर कब्जा कर लिया. इससे शेख हसीना को चौथी बार प्रधानमंत्री बनने का मौका मिल गया हैं. india bangladesh relation के इस भारत बांग्लादेश संबंध निबंध में हम आने वाले समय पर दोनों देशों के बीच के रिलेशन पर स्टूडेंट्स के लिए india bangladesh relation essay उपलब्ध करवा रहे हैं.

भारत-बांग्लादेश संबंधों के नए आयाम पर निबंध | Essay on New Relationship Between India and Bangladesh in Hindi

भारत बांग्लादेश संबंध पर निबंध | ESSAY ON INDIA BANGLADESH RELATION IN HINDI

हसीना की इस जीत ने ढाका जेल में बंद अपने चिर प्रतिद्वंदी और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया का भविष्य अधर लटका दिया हैं. प्रथमद्रष्टया शेख हसीना की जीत भारत की कुटनीतिक डेविडेंड के रूप में देख सकता है कारण यह है कि शेख हसीना भारत के प्रति अधिक मैत्रीपूर्ण रवैया रहा हैं. और उनका यह झुकाव भारत के लिए पूर्वोत्तर में कई चुनौतियों को आसान करने वाला रहता हैं. आज के निबंध में आपकों भारत बांग्लादेश के सम्बन्ध की कुछ बाते बताते हैं.

Short essay on india bangladesh relation

भारत बांग्लादेश के बीस ट्रांस रीजनल सहयोग अर्थात बीबीआईएन बांग्लादेश भारत भूटान और बिम्सटेक में क्षेत्रीय साझेदारी से जुड़ा हुआ हैं. बिमस्टेक के जरिये भारत ने दक्षिण एशिया में न केवल पाकिस्तान को अलग थलग करने में सफलता अर्जित की हैं बल्कि दक्षिण एशिया में समानांतर क्षेत्रीय साझेदारी के विकल्पों का निर्माण भी किया हैं. इसके आलावा भारत ने बांग्लादेश के साथ लैंड बाउट्री एग्रीमेंट कर एक बड़ी समस्या को सुलझाने में सफलता अर्जित की हैं.

इंडिया एंड बांग्लादेश रिलेशन्स इन हिंदी

इस समझौते के जरिये भारत बांग्लादेश ने बस्तियों का आदान प्रदान कर न केवल अपनी सीमाओं को उचित आकार दिया हैं. बल्कि दोनों तरफ से आ रहे नागरिकों को पहचान भी दी हैं. भारत ने बांग्लादेश के साथ परमाणु समझौता कर उसे 4.5 बिलियन डॉलर का लाइन ऑफ क्रेडिट की सुविधा देकर सहयोग को और विस्तार दिया हैं. वहीं शेख हसीना सरकार ने 1971 में भारत की भूमिका के महत्व का मूल्यांकन कर भारत को उचित आदर दिया हैं.

भारत और बांग्लादेश के सम्बन्धों में एक बड़ा पेंच तीस्ता नदी जल विभाजन सम्बन्धी समझौता रहा हैं. तीस्ता, गंगा, ब्रह्मपुत्र और मेघना नदी तंत्र के बाद भारत बांग्लादेश के बीच बहने वाली चौथी सबसे बड़ी ट्रांसबाउंड्री नदी हैं. 414 किमी लम्बी यह नदी सिक्किम से निकलती हैं. जिसका 151 किमी हिस्सा सिक्किम में, 142 किमी हिस्सा पश्चिम बंगाल में और 121 किमी हिस्सा बांग्लादेश में हैं. हालांकि 1983 में एक तदर्थ समझौता हुआ था जिसके तहत बांग्लादेश को ३६ प्रतिशत और भारत को 39 प्रतिशत पानी मिलना था. जबकि शेष 25 प्रतिशत मुक्त बहाव के लिए रहना था.

नई डील को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्वीकार नहीं किया था जिसके तहत बांग्लादेश को तीस्ता का 48 प्रतिशत पानी मिलना था.

हमें बांग्लादेश के साथ अच्छे सम्बन्ध की आवश्यकता क्यों

बांग्लादेश वह राष्ट्र है जो संक्रमण की स्थिति से स्थायित्व की तरफ बढ़ रहा हैं. ऐसे हालातों में उसे आर्थिक, कुटनीतिक और रक्षा सम्बन्धी सहयोग की शख्त आवश्यकता हैं. सवाल यह हैं कि यह सहयोग उसे कहा से मिल सकता हैं. क्या पाकिस्तान से. सच तो यह स्वयं पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था ढहने के कगार पर पहुच चुकी हैं. इसलिए जाहिर हैं. बांग्लादेश को कोई आर्थिक मदद नहीं दे सकता हैं. इसलिए बांग्लादेश उस दिशा में तो नहीं मुड़ेगा लेकिन यहाँ खतरा चीन से हैं. चीन निरंतर इस कोशिश में लगा हुआ है कि बांग्लादेश भारतीय हितों का काउंटर किया जाए. इसलिए वह न केवल भारत के मुकाबले बांग्लादेश को अधिक ऋण प्रदान कर रहा हैं बल्कि चटगाँव बंदरगाह को ग्वादर की तरह स्ट्रिंग ऑफ प्लर्स का स्थायी मोती बनाना चाहता हैं.

ऐसे में हमें ध्यान रखने की महत्ती आवश्यकता हैं. कि पूर्वोत्तर में चलने वाली गतिविधियों का बांग्लादेश कंट्रोलिंग पॉइंट और पूर्वी एशिया के सम्बन्धों के गेटवे का काम कर सकता हैं. ऐसी स्थिति में बांग्लादेश में शेख हसीना की विजय भारत की कुटनीतिक उपलब्धी के रूप में हैं. लेकिन संभव है कि वे जनदवाब में भारत पर तीस्ता जल बंटवारे के लिए दवाब बनाएं. अतः भारत को इस दिशा में पहले ही उदार पहल कर देनी चाहिए.

उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपकों essay on india bangladesh relation in hindi का यह छोटा सा निबंध अच्छा लगा होगा. आप ( भारत अमेरिका सम्बन्ध पर निबंध, भारत पाकिस्तान सम्बन्ध पर निबंध, भारत चीन सम्बन्ध) पर भी यहाँ जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

You Must Read

One comment

  1. धन्यवाद सर, बहुत अच्छी जानकारी दी आपने मैं आपके सारे लेख पढ़ता है. आज बहुत खूबसूरत लिखते है. प्लीज ऐसे ही लिखते रहिये और हमें रोजाना नई नई जानकारियाँ उपलब्ध करवाते रहे. वाकई हिंदी को बढ़ावा देने में आपका बहुत बड़ा योगदान है.लाला लाजपत राय लेख मुझे पसंद आया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.