FASTag फास्टैग क्या है ये कैसे काम करता है FASTag Pay Highway Toll Online

FASTag फास्टैग क्या है ये कैसे काम करता है [ What is Fastag How To Work Get Fastag Online ] FASTag Pay Highway Toll Online FASTag Bank List FASTag, a prepaid rechargeable tag for toll payment, on national Highway will become mandatory for all vehicles. The minister road transport and highways extended the earlier deadline of January 2020. FASTag In Hindi FASTag Latest News How To Apply online FASTag What is fastag and how does it work FASTag Pay Highway Toll Online Electronic Toll Collection FASTag Recharge Online FASTag Price Charges National Highways Authority of India introduced an electronic toll collection system to solve the problems of toll collection systems at toll plazas in 2014. This Electronic Toll Collection System is named FASTag. Which is gradually being applied to toll plazas across the country. You can Find Below Fastag bank List How To Working Fastag All About The Technology Of Fastag. And How Can You Get Fastag Online Here Is Answer.

FASTag फास्टैग क्या है ये कैसे काम करता है FASTag Pay Highway Toll Online

FASTag How To Get FASTag For Pay Highway Toll Online : Fastag system will help get rid of the troubles caused while paying toll tax in toll plazas. With the help of Fastag, you will be able to pay your toll tax at the toll plaza non-stop. Now many people are getting the question that what is fastag? How does fastag work FASTag kab se lagu hoga Where to fastag the vehicle FASTag kaise milega How to apply online fastag Where do you fill the fastag form How will the Fastag Highway Toll accumulate What is the last date to apply fastag How to use FASTag How To Recharge FASTag How To Activate FASTag etc. You will be happy to know here that you will get answers to all your questions and related details i.e FASTag details here. Read this article till the end to get the information of FASTag Buy Recharge & Pay Highway Toll Online.

FASTag Latest News Update : सरकार ने ये पार्शियल रोलबैक बाजार में फास्टैग की कमी की वजह से नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर लागू होने वाले FASTags को एक महीने के लिए आगे बढ़ा दिया गया है | नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने पहले FASTag 15 December से अनिवार्य किया था लेकिन अब इसकी अवधि एक माह तक बाढा दी है |

फास्टैग क्या है ( FASTag in Hindi )

FASTag Details In Hindi : Tool प्लाजाओं पर Toll Collection System से होने वाली समस्या के समाधान के लिए “National Highway Authority of India” ( भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ) ने “Electronic toll collection” (इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह) सिस्टम FASTag QR Code System शुरू किया है | जिसे इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम के नाम से जाना जाता है | फास्टैग एक उपकरण होता है जो वाहन के सामने वाले कांच पर लगाया जाता है | अर्थात फास्टैग टोल कार्ड है फास्टैग में रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन (RFID) / सेंसर लगा होता है | जो टोल प्लाजा के संपर्क में आते ही आपके अकाउंट ( FASTag Account ) से शुल्क काट लिया जाता है | फास्टैग सिस्टम की मदद से आप टोल प्लाजा में बिना रूके अपना टोल प्लाजा टैक्स दें सकेंगे | इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले 2014 में शुरू की गई जिसे धीरे धीरे पूरे देश के टोल प्लाजा के ऊपर लागू किया जा रहा है |

WHAT IS FASTag?

It is a prepaid radio frequency identification enabled tag that facilities automatic deduction of toll charges. The FASTag electronic toll collection do away with a stop over of vehicles and cash transactions at toll plazas. Projected as the AADHAAR card for vehicles, the FASTag electronic toll collection programme is being implemented by the INDIAN HIGHWAYS MANAGEMENT COMPANY LIMITED (IHMCL), a company incorporated by the National Highway Authority OF INDIA (NHAI), and the national payment corporation of INDIA in coordination with Toll Payments Corporation of India in coordination with TOLL Plaza Concessionaires, tag issuing agencies agencies and banks. Currently FASTag can be bought from 22 certified banks, through various online platforms, online applications and at select point of sale locations.

फास्टैग कैसे काम करता है ( How To Work Fastag or Electronic Toll Collection )

FASTag Kese Kam Karta Hai : वाहन के सामने वाले काँच पर फास्टैग स्टीकर / लोगो / कार्ड या चिप लगाई जाती है जिसमे रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) लगा होता है | जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा के संपर्क में आती है टोल प्लाजा पर लगे सेंसर FASTag QR Code / FASTag Bar Code मदद से टोल टैक्स आपके फास्टैक अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है | अर्थात आपके बिना रुके ही Automatically प्लाजा टैक्स का भुगतान FASTag Account से हो जाता है |

HOW DOES IT WORKS?

The tag which can be recharged through cheque or online payments payment, is fixed on the windshield of a vehicle, ideally on the glass just before the rear view mirror. It is scanned by the tag reader and the toll amount is deducted when the vehicle approaches a toll plaza. The user gets a Short Message Service (SMS) alert on the registered mobile phone about all transaction and the available balance.

फास्टैग के फायदे ( Benefits of FASTag )

FASRag Ke Kya Labh Hai : सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने टोल प्लाजा पर टोल टैक्स जमा करवाने के लिए लगने वाली गाड़ियों की लम्बी लाइन और खुले पैसे न होने की समस्या का हल करने के लिए फास्टैग सिस्टम को देश के सभी टोल प्लाजाओं पर शुरू किया जा रहा है | फास्टैग की मदद से आपका समय के साथ-साथ पेट्रोल या डीजल की भी बचत होती है | फास्टैग के माध्यम से टोल जमा करवाने पर भुगतान की गई राशी में से कैशबैक दिया जावेगा | वर्ष 2016-17 के बीच फास्टैग के माध्यम से टोल जमा करवाने वाले लोगों को सभी टोल भुगतानों पर 10% वर्ष 2017-2018 के बीच फास्टैग के माध्यम से टोल जमा करवाने वाले लोगों को 7.5 % वर्ष 2018-2019 के बीच फास्टैग के माध्यम से टोल जमा करवाने वाले लोगों को 5 % व 2019-2020 के बीच फास्टैग के माध्यम से टोल जमा करवाने वाले लोगों को 2.5 % कैश बैक मिलेगा | कैश बैक की राशी भुगतान के एक सप्ताह के भीतर आपके फास्टैग खाते में आ जाएगी | सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के आदेशानुसार फास्टैग की वैधता ( FASTag Validity ) 5 वर्ष तक की होगी यानि पांच वर्ष के बाद आपको नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना होगा |

WHAT are the benefits?

Apart from plugging revenue leakage and reducing the cost of delays and fuel consumption, which is also likely to cut down the nation’s GDP loss, according to the government, the tag helps remove bottlenecks, ensuring seamless movement of traffic and save time. The centralized system provided authentic and real time data to government agencies for better analysis and policy formulation. IT also helps reduce air pollution and the use of paper besides cutting the cost of managing toll plazas.

फास्टैग कहाँ से ले ?

FASTag Ka Kaha Se Le FASTag Kab Se Lagu Hoga : सड़क एवं परिवहन मंत्रालय द्वारा जब फास्टैग अनिवार्य किया गया तब आदेश जारी कर जानकारी दी की किसी भी पॉइंट ऑफ सेल (POS) के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर या टैग जारीकर्ता आधिकारिक या सहभागिता बैंक से फास्टैग स्टीकर ( FASTag Sticker / FASTag Card / FASTag Chip ) और फास्टैग अकाउंट ( FASTag Account ) खुलवा सकते हैं | केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हालही में सूचना दी है की अब से फास्टैग पेट्रोल पंपों पर उपलब्ध होंगे |

WHY does it matter?

A joint study in 2014-2015 by the transport corporation of India and the Indian Institute of management – Calcutta (launched by the minister of road transport and highways and shipping Nitin Gadkari in 2016) estimated the cost of delay on Indian roads at $6.6 BILLION per year. A study said : the average cost of delay, including the shipper’s expenses, was RS 151.38 an hour. The figure may seem insignificant .However, the effect of delay on the economy is not insignificant …..as per the ROAD TRANSPORT AND HIGHWAYS Website, there were about 7.6 million goods vehicles as on March 31,2012, increasing at 8-9% per annum in the last couple of years. If we consider a conservative 8%growth, the number of goods, the number of goods vehicles as on March 21,2015 is estimated at about 9.6 million, which means that the annual cost of delay to the Indian economy could be a whopping RS 432 billion or $6.6 billion.

फास्टैग लेने के लिए आवेदन फॉर्म व दस्तावेज

FASTag Application Form PDF & Apply Online FASTag : जो अपने वाहन के लिए फास्टैग स्टीकर और फास्टैग अकाउंट खुलवाना चाहते है वे टोल प्लाजा एजेंसी, टैग जारीकर्ता आधिकारिक की ऑफिस या सहभागिता बैंक में फास्टैग स्टीकर फॉर्म को ध्यानपूर्वक भरे | और यहाँ बताये गये दस्तावेज फास्टैग स्टीकर फॉर्म के साथ जमा करवा करवाकर फास्टैग स्टीकर और फास्टैग अकाउंट नंबर प्राप्त कर सकते है |

फास्टैग लेने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स ( FASTag Documents )
  • वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी)
  • वाहन मालिक के पासपोर्ट फोटो
  • वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ
  • वाहन मालिक का आधार कार्ड

HOW did it come about?

The electronic toll collection system was initially implemented as a pilot in 2014 on the Ahmedabad –Mumbai stretch of the golden quadrilateral. It was gradually extended to other parts of India. The tag is currently accepted at more than 500 national highway toll plaza. Till September, the total collection through FASTag was over RS. 12850 crore.

फास्टैग रिचार्ज कौनसी बैंको से होगा ? (Bank for Recharge Fastag or Electronic Toll Collection Account)

FASTag Account Recharge Bank List : फास्टैग अकाउंट में पैसे ( FASTag Account Balance ) या फास्टैग अकाउंट रिचार्ज ( FASTag Recharge ) क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, आरटीजीएस और नेट बैंकिंग के माध्यम से कर सकते हैं | फास्टैग खाते के नियमानुसार FASTag Account में कम से कम 100 रूपए और ज्यादा से ज्यादा एक लाख रुपये तक का रिचार्ज FASTag Account Recharge कर सकते है | आप पीओएस के अंदर आने वाली बैंक से ही फास्टैग अकाउंट में पैसे जमा या फास्टैग अकाउंट रिचार्ज करवा सकते है | वे बैंक जो फास्टैग अकाउंट रिचार्ज की सुविधा दे रही है उनकी लिस्ट यहाँ उपलब्ध है –

FASTag Bank List

  • FASTag State Bank of Indi ( SBI )
  • FASTag Industrial Credit and Investment Corporation of India ( icici Bank )
  • FASTag Airtel
  • FASTag Axis Bank
  • FASTag Bank of Baroda ( BOB )
  • FASTag HDFC Bank
  • FASTag Punjab National Bank ( PNB )
  • FASTag Syndicate Bank
  • FASTag Paytem

फास्टैग अकाउंट में एसएमएस की होगी सुविधा FASTag Account SMS Faculty

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के निर्देशानुसार जब भी फास्टैग लगे वाहन किसी टोल प्लाजा को पार करेगा तो फास्टैग अकाउंट से आपका शुल्क कटते ही आपके पास एक एसएमएस आएगा | इस एसएमएस के जरिए आपको फास्टैग अकाउंट से कितनी राशि काटी गई है इसके बारे में आपको जानकारी दी जाएगी |

WHAT lies ahead?

On October 14,2019,the IHMCL and GST network signed a memorandum of understanding for integrating FASTag with the e-way bill system. The arrangement has been made for a more efficient ‘track-and –trace’ mechanism involving goods vehicles. It will also check revenue leakage at toll plazas. The integration, which will become mandatory across the country from April 2020,will help actually headed to the specified destination. Suppliers and transponders will also be able to keep track of their vehicles through SMS alerts generated at each tag reader enabled toll plaza.The central government also plans to enable the use of FASTag for a range of other facilities such as fuel payments and parking charges. Several states have already signed memoranda of understanding to join the system.

भारत में फास्टैग सिस्टम कब शुरू हुआ (When Start FasTag in India)

FASTag Kab Se Lagu Hoga : भारत में फास्टैग सिस्टम सबसे पहले अहमदाबाद और मुंबई हाईवे के बीच 2014 में शुरू किया गया था | और बाद में जुलाई 2015 में चेन्नई से बेंगलुरु टोल प्लाजा पर शुरू किया गया | अभी तक देश के लगभग 332 टोल प्लाजाओं पर फास्टैग सुविधा लागु है | यानी इन टोल प्लाजाओं में फास्टैग के जरिए टोल टैक्स का भुगतान किया जाता है | सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 01 दिसंबर 2019 के बाद बिकने वाले सभी प्रकार के चार-पहियां वाहनों पर फास्टैग लगाना आवश्यक / अनुवार्य कर दिया है | मौजूदा समय में मंत्रालय ने सभी गाड़ी निर्माताओं कंपनी और वाहन डीलरों को यह आदेश दिया है कि एक दिसंबर से उनसे खरीदे जाने वाले वाहनों पर उसके मालिक द्वारा फास्टैग जरूर लगवाया जाए |

How To Apply Online FASTag ? फास्टैग लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करे

वाहन मालिक जो FASTag लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है | उसका किसी बैंक में अकाउंट होना जरुरी | वाहन मालिक जिनका बैंक में खाता है वे इस प्रक्रिया का फॉलो कर FASTag लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है |

  • जिस बैंक में आपका खाता उस बैंक की वेबसाइट ओपन करे |
  • यहाँ FASTag Online Application Form लिंक पर क्लिक करे |
  • अब अपना नाम, माता / पिता का नाम, आधार नंबर, पता व मोबाइल नंबर भरे |
  • केवाईसी दस्तावेज विवरण (ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, या आधार कार्ड) दर्ज करें |
  • वाहन पंजीकरण विवरण अर्थात वाहन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) नंबर इंटर करे |
  • अब आवश्यक दस्तावेज की स्कैन कॉपी व वाहन मालिक की फोटो अपलोड करें |
  • भरी गई सभी जानकारी ध्यानपूर्वक देखे और सबमिट बटन पर क्लिक करे |
  • FASTag Form सामने स्क्रीन पर दिखा देगा |
  • आप FASTag Application Form को प्रिंट व डाउनलोड कर सकते है |

All Person who are searching in this way to get FASTag News like FASTag Electronic Toll Collection – ETC FASTag Fees and Charges FASTag Apply online FASTag Application form FASTag FAQs FASTag Recharge FASTag Pay Highway Toll Online Active Toll Plazas – FASTag ETC Program How to Apply for fastag FASTag Toll plaza FASTag Scheme FASTag online Recharge FASTag FASTag Cashless Payment of Toll Fee FASTag Contact fastag online fastag app fastag news fastag last date fastag activation how a fastag works buy a fastag online fastag balance fastag bank list fastag benefits fastag barcode fastag online recharge fastag rules fastag sticker india etc.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.