Kalashtami Vrat Katha, Puja Vidhi, Aarti Lyrics, Vrat Benefits, Upay कालाष्टमी व्रत के दिन क्या करे क्या नहीं करे देखे पूरी जानकारी

Kalashtami Vrat Katha Kalashtami Puja Vidhi Kalashtami Aarti Lyrics Kalashtami Benefits Kalashtami Ke Upay Kalashtami Ke Din Kya Karna Chahiye Kya Nahi कालाष्टमी व्रत की कथा पूजा विधि आरती कालाष्टमी व्रत के लाभ फायदे उपाय क्या करे क्या नहीं : अगर आप कालाष्टमी व्रत व्रत से सम्बंधित जानकारी जैसे Kalashtami Vrat Katha, Puja Vidhi, Aarti Lyrics, Vrat Benefits, Upay, Kya Karna Chahiye Kya Nahi तो आप इस पेज को स्क्रॉल कर कालाष्टमी व्रत की कथा पूजा विधि आरती,लाभ फायदे उपाय क्या करे क्या नहीं इत्यादि के बारे में जान सकते है |

Kalashtami Vrat Katha Puja Vidhi Aarti Benefits Upay Fayde

Kalashtami Vrat Katha Puja Vidhi Aarti Benefits Upay Kalashtami Ke Din Kya Karna Chahiye Kya Nahi

हर माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी मनाई जाती है | इस महीने 27 नवंबर 2021 को कालाष्टमी मनाई जाएगी | कालाष्टमी को काला अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है | इस दिन कालभैरव के भक्त इन्हें प्रसन्न करने के लिए पूजा और उपवास करते हैं | अगर आप भी भगवन शिव के अवतार कालभैरव को प्रसन्न करने के लिए व्रत रख रहे है तो आपको Kalashtami Vrat Katha Kalashtami Ki Aarti जरुर सुननी व सुनानी चाहिए और पूरी विधि विधान से Kalashtami Puja करनी चाहिए है | इसके अलावा काल भैरव बाबा से जुड़े कुछ उपाय कर लें तो आपके रोग, संकट और बाधांए दूर हो सकते हैं |

आइये जानते है Kalashtami Ke Din Kya Karna Chahiye Kya Nahi कालाष्टमी व्रत के दिन क्या करे क्या नहीं करे Kalashtami Benefits Labh Fayade Kalashtami Ke Upay Kalashtami Vrat Katha, Puja Vidhi, Aarti Lyrics कालाष्टमी व्रत के लाभ फायदे उपाय के बारे में |

Kalashtami Puja Vidhi कालाष्टमी व्रत पूजा विधि

  • कालाष्टमी के दिन ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नाना आदि नित्य-क्रम से स्वच्छ हो जाए |
  • फिर लकड़ी के पाट पर भगवान शिव और माता पार्वती के साथ कालभैरव की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें |
  • इसके बाद चारों तरह गंगाजल का छिड़काव करें और सभी फूलों की माला या फूल अर्पित करें |
  • इसके साथ ही नारियल, इमरती, पान, मदिरा, गेरुआ आदि चीजें अर्पित करें |
  • अब चौमुखी दीपक जलाएं और धूप-दीप करें और कुमकुम या हल्दी से सभी को तिलक लगाएं और सभी की एक-एक करके आरती उतारें |
  • इसके बाद शिव चालिसा और भैरव चालिसा का पाठ करें| व भैरव मंत्रों की 108 बार जप करें |
  • व्रत के पूर्ण हो जाने के बाद काले कुत्ते को मीठी रोटी या फिर कच्चा दूध पीलाएं और दिन के अंत में कुत्ते की भी पूजा करें |
  • इसके बाद रात्रि के समय काल भैरव की सरसों के तेल, उड़द, दीपक, काले तिल आदि से पूजा-अर्चना करें और रात्रि जागरण करें |

काल भैरव अष्टमी शिव पूजा विधि Kalashtami 2021 Puja Vidhi काल भैरव की पूजा ऐसे करें पूजन सामग्री

Kalashtami Vrat Katha कालाष्टमी व्रत की कथा कहानी

कालाष्टमी की एक पौराणिक कथा के अनुसार एक बार की बात है कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश इन तीनों में श्रेष्ठता की लड़ाई चली | इस बात पर बहस बढ़ गई, तो सभी देवताओं को बुलाकर बैठक की गई |सबसे यही पूछा गया कि श्रेष्ठ कौन है? सभी ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए और उत्तर खोजा लेकिन उस बात का समर्थन शिवजी और विष्णु ने तो किया, परंतु ब्रह्माजी ने शिवजी को अपशब्द कह दिए | इस बात पर शिवजी को क्रोध आ गया और शिवजी ने अपना अपमान समझा |

शिवजी ने उस क्रोध में अपने रूप से भैरव को जन्म दिया | इस भैरव अवतार का वाहन काला कुत्ता है | इनके एक हाथ में छड़ी है | इस अवतार को ‘महाकालेश्वर’ के नाम से भी जाना जाता है इसलिए ही इन्हें दंडाधिपति कहा गया है | शिवजी के इस रूप को देखकर सभी देवता घबरा गए | भैरव ने क्रोध में ब्रह्माजी के 5 मुखों में से 1 मुख को काट दिया, तब से ब्रह्माजी के पास 4 मुख ही हैं | इस प्रकार ब्रह्माजी के सिर को काटने के कारण भैरवजी पर ब्रह्महत्या का पाप आ गया |

ब्रह्माजी ने भैरव बाबा से माफी मांगी तब जाकर शिवजी अपने असली रूप में आए | भैरव बाबा को उनके पापों के कारण दंड मिला इसीलिए भैरव को कई दिनों तक भिखारी की तरह रहना पड़ा | इस प्रकार कई वर्षों बाद वाराणसी में इनका दंड समाप्त होता है | इसका एक नाम ‘दंडपाणी’ पड़ा था |

कालाष्टमी व्रत कथा Kalashtami Vrat Katha Kalashtami Katha Ka Video

Kalashtami Aarti Lyrics ( कालाष्टमी आरती ) आरती श्री भैरव बाबा की

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा
जय काली और गौरा देवी कृत सेवा

तुम्हीं पाप उद्धारक दुख सिंधु तारक
भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक

वाहन शवन विराजत कर त्रिशूल धारी
महिमा अमिट तुम्हारी जय जय भयकारी

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होंवे
चौमुख दीपक दर्शन दुख सगरे खोंवे

तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी
कृपा करिए भैरव करिए नहीं देरी

पांव घुंघरू बाजत अरु डमरू डमकावत
बटुकनाथ बन बालक जन मन हर्षावत

बटुकनाथ जी की आरती जो कोई नर गावें
कहें धरणीधर नर मनवांछित फल पावें

Kalashtami Aarti Kal Bhairav Aarti कालाष्टमी आरती काल भैरव आरती

Kalashtami Stuti श्री भैरव बाबा स्तुति

ॐ जै-जै भैरवबाबा स्वामी जै भैरवबाबा

नमो विश्व भूतेश भुजंगी मंजुल कहलावा
उमानंद अमरेश विमोचन जनपद सिरनावा

काशी के कृतवाल आपको सकल जगत ध्यावा
स्वान सवारी बटुकनाथ प्रभु पी मद हर्षावा ॐ

रवि के दिन जग भोग लगावे मोदक मन भावा
भीषण भीम कृपालु त्रिलोचन खप्पर भर खावा

शेखरचंद्र कृपालु शशि प्रभु मस्तक चमकावा
गल मुण्डन की माला सुशोभित सुन्दर दरसावा ॐ

नमो-नमो आनंद कंद प्रभु लट गत मठ झावा
कर्ष तुण्ड शिव कपिल त्रयम्बक यश जग में छावा

जो जन तुमसे लगावत संकट नहिं पावा
छीतरमल जब शरण तुम्हारी आरती प्रभु गावा

ॐ जै-जै भैरवबाबा स्वामी जै भैरवबाबा

Bheru Ji Ki Stuti (Lyrics) भैरव स्तुति

Kalashtami Ke Din Kya Dan Kare कालाष्टमी के दिन इन चीजों का करें दान

पुराणों के अनुसार, काल भैरव शक्तिपीठों के अंगरक्षक के रूप में सदा उनके साथ रहते हैं | इसलिए हर शक्तिपीठ के पास एक कालभैरव मंदिर जरूर पाया जाता है | कालभैरव को खिचड़ी, चावल, गुड़, तेल आदि का भोग लगाया जाता है | कालाष्टमी का यह व्रत रोग, दुख और शत्रु पीड़ा निवारण में सहायक होता है | इस दिन आप कालभैरव की प्रिय वस्तुओं को दान में दे सकते हैं, जैसे – नींबू, अकौन के फूल, काले तिल, मदिरा, धूप दान, मदिरा, सरसों का तेल, उड़द की दाल, पुए आदि चीजें |

Kaal Bhairav Ashtami Wishes Message Shayari Status Images

Kalbhairav Jayanti Shayari Status images काल भैरव जयंती की हार्दिक शुभकामना बधाई सन्देश

Kalashtami Vrat Benefits Labh Fayde कालाष्टमी व्रत के लाभ फायदे महत्व
  • कालभैरव की पूजा-अर्चना करने से नकारात्मक शक्तियां, शत्रु और सभी पापों से मुक्ति मिलती है | साथ ही मनोवांछित फल की भी प्राप्ति होती है |
  • अगर कोई ग्रह अशुभ प्रभाव दे रहा हो तो कालभैरव का व्रत करने से क्रूर ग्रहों का प्रभाव भी खत्म हो जाता है और शुभ फल देना शुरू कर देते हैं |
  • इनकी पूजा-पाठ से किसी भी प्रकार का जादू-टोना खत्म हो जाता है, भूत-प्रेत से मुक्ति मिलती है और भय आदि भी खत्म हो जाता है |
  • काल भैरव को शनि का अधिपति देव बताया गया है और इनकी पूजा से शनि दोष, राहु-केतु से प्राप्त हुई पीड़ा से मुक्ति मिलती है |
Kalashtami Ke Din Kya Nahi Karna Chahiye कालाष्टमी व्रत में भूलकर भी न करें ये काम
  • काल भैरव की जयंती, कालाष्टमी के दिन भक्त को झूठ नहीं बोलना चाहिए| इससे भक्त को नुक्सान हो सकता है |
  • कालाष्टमी व्रत के दिन अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए| इस दिन केवल फलाहार ही करना चाहिए |
  • कालाष्टमी व्रत को नमक भी नहीं खाना चाहिए| शरीर में नमक की कमी महसूस हो तो काला नमक का सेवन करना चाहिए |
  • काल भैरव की पूजा किसी के नाश के लिए नहीं किया जाना चाहिए |
  • गृहस्थ जीवन में भगवान भैरव की तामसिक पूजा नहीं करनी चाहिए | बल्कि बटुक भैरव की पूजा करनी चाहिए| इनकी पूजा सौम्य मानी जाती है |
  • भैरव बाबा की पूजा करते समय मन में क‍िसी भी तरह की छल-कपट नहीं होना चाह‍िए |
Kalashtami Ke Upay कालाष्टमी व्रत के दिन क्या करे Kalashtami Ke Din Kya Karna Chahiye
  • कालाष्टमी के दिन भगवान शिव की उपासना की जाती है | इस खास दिन को 21 बेलपत्र पर चंदन से ऊं नम: शिवाय लिखकर भगवान शिव को अर्पित करें | ऐसा करने से भगवान शिव की कृपा से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है |
  • अगर आपको आपके व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है तो आप कालाष्टमी के दिन काल भैरव के मंदिर के आगे किसी कोढ़ी या भिखारी को दान अवश्य दें |
  • धार्मिक मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन काले कुत्ते को रोटी खिलाने से कालभैरव के साथ शनिदेव भी प्रसन्न होते हैं | इस उपाय को करने के उपासक की मनोकामना पूरी होगी |
  • आपके घर में किसी भी तरह की समस्या मौजूद है तो कालाष्टमी के दिन काल भैरव के सम्मुख खुशबूदार 33 अगरबत्ती जलाएं | धार्मिक मान्यता है कि ऐसा करने से आपकी सभी परेशानियां दूर हो जायेंगी |
  • कालाष्टमी के दिन भगवान भैरव की प्रतिमा के आगे सरसों के तेल का दीपक जलाएं और श्रीकालभैरवाष्टकम् का पाठ करें | मनोकामना पूर्ण होने तक प्रतिदिन इस उपाय को भक्ति भाव के साथ करें |
  • यदि आपकी कोई इच्छा काफी समय से अधूरी है तो आप कालाष्टमी के दिन भगवान काल भैरव को नींबूओं की माला अर्पित करें | ऐसा करने से आपकी वह इच्छा जल्द ही पूरी हो जाएगी |
  • कालाष्टमी के दिन भैरव देव की कृपा पाने के लिए रेलवे स्टेशन पर जाकर किसी कोढ़ी, भिखारी को वस्त्र दान करें | यह उपाय करने से आपको कार्यक्षेत्र में तरक्की में मिलेगी |
  • अगर आप बहुत मेहनत करते हैं और आपको फिर भी धनलाभ नही होता तो आप कालाष्टमी के दिन सवा सौ ग्राम काले तिल, सवा 11 रुपए, सवा सौ ग्राम काले उड़द, सवा मीटर काले कपड़े में एक पोटली मंदिर में दान कर दें |

Kaal Bhairav Ashtami Wishes Message Shayari Status Images

Kalbhairav Jayanti Shayari Status images काल भैरव जयंती की हार्दिक शुभकामना बधाई सन्देश

काल भैरव अष्टमी के 3 चमत्कारी उपाय Kaal Bhairav Asthmi Ke Upay

Kalashtami Vrat Ke Upay कालाष्टमी के दिन क्या करे Kalashtami Ke Din Kya Kare Kya Nahi
  • कालाष्टमी के दिन से लेकर 40 दिनों तक लगातार काल भैरव का दर्शन करें | इस उपाय को करने से भगवान भैरव प्रसन्न होंगे और आपकी मनोकामना को पूर्ण करेंगे | भैरव की पूजा के इस नियम को चालीसा कहते हैं |
  • यदि आप किसी असाध्य रोग से ग्रसित हैं तो आप काल भैरव की पूजा करने के बाद काल भैरव चालिसा का पाठ जरूर करें | चालिसा पढ़ने के बाद बाबा के समक्ष अपने रोग मुक्ति के लिए प्रार्थना करें |
  • कालाष्टमी के दिन काल भैरव बाबा का कथा सुनने भर से मनुष्य के हर दोष दूर होते हैं | यदि आपके घर में नकारात्मकता का वास है तो घर में इस कथा का वाचन जरूर करें | साथ ही इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की कथा का श्रवण भी करना चाहिए |
  • बाबा को प्रसन्न करने के लिए कालाष्टमी के दिन चना-चिरौंजी, पेड़ा, काली उड़द और उड़द की दाल से बने व्यंजन का भोग लगाना चाहिए | इमरती, दही, दूध और मेवा का भोग लगा कर आप अपना मनचाहा वरदान पा सकते हैं |
  • अगर आपके घर में सुख और समृद्धि नही रहती और हमेशा कलेश रहता है तो आप कालाष्टमी के दिन 5 से 7 साल तक के लड़कों को चने-चिरौंजी, तेल, नारियल जलेबी का प्रसाद बांटे |
  • आप यदि अपने दुश्मनों से अत्याधिक परेशान रहते हैं तो आप कालाष्टमी के दिन कोई सुनसान भैरव मंदिर ढूंढे उसेक बाद सिंदूर, तेल, नारियल, पुए और जलेबी के साथ काल भैरव की पूजा करें |
  • यदि आप काफी समय से रोगग्रस्त हैं तो आप कालाष्टमी के दिन सवा किलो जलेबी का प्रसाद बाटें और इसे काले कुत्ते को अवश्य खिलाएं |
  • अगर आपको आपके कामों में सफलता प्राप्त नहीं हो रही है तो आप कालाष्टमी के दिन किसी काल भैरव मंदिर में पीले रंग की ध्वजा चढ़ाएं | आपको ऐसा करने से आपके कामों में जरूर सफलता प्राप्त होगी |

Kalashtmi Ke Din Kya Kare Kya Nahi कालाष्टमी के दिन धन लाभ के लिए करें ये 5 उयाय

Follow the page of Rkalert.in to download all National And International Events & Festival’s congratulatory messages, Shayari, Quotes, Photo, images, HD Wallpaper, FB Whatsapp Status

Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.