Karwa Chauth Puja Vidhi And Samagri करवा चौथ व्रत की सही पूजा विधि व सम्पूर्ण पूजन सामग्री यहाँ देखे

Karwa Chauth Puja Vidhi How To Do Karva Chauth Puja at Home in Hindi Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi Karwa Chauth Puja Vidhi And Samagri : पति की लम्बी उम्र के लिए सुहागिन या पतिव्रता स्त्रिया करवाचौथ का व्रत करती है | यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी को किया जाता है | यह व्रत अलग-अलग क्षेत्रों में वहां की प्रचलित मान्यताओं के अनुरूप रखा जाता है | अगर आप Karwa Chauth Ki Puja Kaise Kare Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi के बारे में जानना चाहती है तो इस पेज को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़े |

विद्वान ज्योतिषों व पंडिताचार्य के अनुसार किसी भी व्रत में पूजन विधि का बहुत महत्व होता है | अगर सही विधि पूर्वक पूजा नहीं की जाती है तो व्रत फल प्राप्त नहीं होता | यहाँ से आप देख सकते है की करवा चौथ की पूजा कैसे करे करवा चौथ की सही पूजा विधि Karwa Chauth Puja Vidhi And Samagri |

Karwa Chauth Puja Vidhi Pujan Samagri Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi in Hindi

इस साल 2021 में करवा चौथ का व्रत 24 अक्टूबर को है | करवा चौथ सुहागिन महिलाओ के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार होता है | क्योकि यह व्रत स्त्रिया अपने जीवन साथी यानि अपने पति की दीर्घायु (लम्बी उम्र) के लिए रखती है | लेकिन अगर यह व्रत पूरी विधि – विधान से नहीं किया जाता तो इस व्रत का फल नहीं मिलता | इसलिए आज हम यहाँ करवा चौथ पूजा में काम आने वाली सामग्री अर्थात पूजन सामग्री Karwa Chauth Vrat Pujan Samagri और करवा चौथ व्रत पूजा विधि Karwa Chauth Puja Vidhi के बारे में बताने जा रहे है | इस पेज का ध्यानपूर्वक अंत तक अध्ययन कर करवा चौथ के व्रत की सही पूजा विधि Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi के बारे में जान सकते है |

Karwa Chauth Puja Samagri करवा चौथ व्रत पूजन सामग्री

करवा चौथ व्रत पूजा में जो सामग्री काम में ली जाती है उनमे से लगभग बहुत से सामग्री ऐसी है जो हम रोज काम में लेते है | यहाँ हमने करवा चौथ पूजन में काम आने वाली सभी सामग्रियों की लिस्ट दे दी है | समय रहते व्रत के दिन या एक-दो दिन पहले इन सामग्रियों को एकत्रित कर ले |

कुंकुम, शहद, अगरबत्ती, पुष्प, कच्चा दूध, शक्कर, शुद्ध घी, दही, मेंहदी, मिठाई, गंगाजल, चंदन, चावल, सिन्दूर, महावर, कंघा, बिंदी, चुनरी, चूड़ी, बिछुआ, मिट्टी का टोंटीदार करवा व ढक्कन, दीपक, रुई, कपूर, गेहूँ, शक्कर का बूरा, हल्दी, पानी का लोटा, गौरी बनाने के लिए पीली मिट्टी, लकड़ी का आसन, छलनी, आठ पूरियों की अठावरी, हलुआ, दक्षिणा के लिए पैसे |

Karwa Chauth Ki Puja Kaise Kare | Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi

हिंदू सनातन पद्धति में किसी शुभ कार्य, व्रत व त्यौहार पर महिलाएं हाथों में मेहंदी लगाती है | इस पर्व पर हाथों में मेहंदी रचाकर व करवा चौथ व्रत वाले दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान कर स्वच्छ कपड़े पहन लें व सोलह श्रृंगार कर अपने पति की पूजा कर व्रत का पारायण करे | और करवा चौथ व्रत की कथा, कहानी व आरती कर व्रत का आरंभ करें |

Karva Chauth Mehandi Design 2021 For Hands & Foot करवा चौथ मेहंदी की डिजाइन

Happy Karwa Chauth Wishes Shayari Message SMS करवा चौथ की हार्दिक शुभकामना व बधाई सन्देश

Karwa Chauth Shayari 2021 करवा चौथ पर पति पत्नी गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड के लिए प्यार भरी शायरी

Karva Chauth images Beautiful Photo Pics करवा चौथ की फोटो वॉलपेपर

Karwa Chauth Puja Vidhi in Hindi करवा चौथ की पूजा विधि
  • करवा चौथ व्रत के दिन प्रात: काल ब्रह्म मुहूर्त में उठकर नित्यकर्म से निवृ्त होकर स्नानादि करें |
  • साफ-सुथरे कपडे पहने व सोलह श्रृंगार कर अपने पति की पूजा कर व्रत का पारायण करे |
  • करवा चौथ पूजा के समय यह मंत्र अवश्य दौहराए – ‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये’ आठ पूरियों की अठावरी, हलुआ, पक्के पकवान बनाएं |
  • अब दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित करें | इसे वर कहते हैं | चित्रित करने की कला को करवा धरना कहा जाता है |
  • चौक बनाकर लकड़ी के आसन को उस पर रखें |
  • पीली मिट्टी से गौरी बनाएं और उनकी गोद में गणेशजी बनाकर बिठाएं |
  • अब मां पार्वती को लकड़ी के आसन पर बिठाएं उन्हें चुनरी ओढ़ाएं और सुहाग सामग्री से गौरी का श्रृंगार करें |
  • जल से भरा हुआ लोटा रखें |
  • वायना (भेंट) देने के लिए मिट्टी का टोंटीदार करवा लें | करवा में गेहूं और ढक्कन में शक्कर का बूरा भर दें और उसके ऊपर दक्षिणा रखें |
  • रोली से करवा पर स्वस्तिक बनाएं |
  • गौरी-गणेश और चित्रित करवा की परंपरानुसार पूजा करें और पति की दीर्घायु की कामना करें |
  • करवा पर 13 बिंदी रखें और गेहूं या चावल के 13 दाने हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा कहें या सुनें |
  • कथा सुनने के बाद करवा पर हाथ घुमाकर अपनी सासुजी के पैर छूकर आशीर्वाद लें और करवा उन्हें दे दें |
  • तेरह दाने गेहूं के और पानी का लोटा या टोंटीदार करवा अलग रख लें |
  • रात्रि में चन्द्रमा निकलने के बाद छलनी की ओट से उसे देखें और चन्द्रमा को अर्घ्य दें |
  • इसके बाद पति से आशीर्वाद लें, उन्हें भोजन कराएं और स्वयं भी भोजन कर व्रत को समाप्त करें |
Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.