रक्षाबंधन पर भाइयों के राखी बांधने की सबसे शुभ घड़ी

रक्षाबंधन 2017 : भाई-बहन के असीम स्नेह का पर्व रक्षाबंधन 7 अगस्त सोमवार को है लेकिन इस बार का रक्षाबंधन कुछ अलग होगा | इस त्योहार पर भद्रा के साथ ही चंद्रग्रहण का साया भी रहेगा। यह संयोग करीब 12 साल बाद बना है जब राखी के दिन ग्रहण लग रहा है। इसलिए इस बार राखी के दिन सूतक भी लगेगा। इस लिए रक्षाबंधन पर चंद्र ग्रहण की वजह से इन राशियों में संकट में आएगा |

रक्षाबंधन का शुभ मुहर्त और समय

राखी के लिए शुभ मुहुर्त चंद्रग्रहण रात 10.53 बजे से शुरू होगा। अथार्थ चंद्रग्रहण से 9 घंटे पहले यानी दोपहर 1.53 बजे से सूतक लग जाएगा। सुबह 11.04 बजे तक भद्रा काल का असर रहेगा। चूंकि सूतक और भद्रा दोनों में ही शुभ कार्य वर्जित हैं, इसलिए इन दोनों के बीच का समय राखी बांधने के लिए शुभ है। सुबह 11.05 बजे से लेकर 1.52 मिनट तक आप रक्षा बंधन का त्योहार मना सकते हैं। आखिर भद्रा में क्यों नहीं बांधी जाती राखी? ऐसा कहा जाता है कि सूपनखा मे अपने भाई रावण को भद्रा में राखी बांधी थी, जिसके कारण रावण का विनाश हो गया, यानी कि रावण का अहित हुआ। इस कारण लोग मना करते हैं भद्रा में राखी बांधने को।

You Must Read

13 साल की रेप पीडि़ता लड़की बनी मां... राजगढ़ : सेमलिया के मजरा रामपुरा मे...

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.