रक्षाबंधन क्यों और कैसे मनाया जाता हैं जाने रक्षाबंधन के बारे में धार्मिक और पौराणिक कथाएँ

रक्षाबंधन को हिन्दू धर्म में भाई बहन का त्यौहार माना जाता हैं | रक्षा का मतलब होता हैं सुरक्षा करना और बंधन का मतलब होता हैं बांधना अथार्थ रक्षा सूत्र मैं बंधना | रक्षाबंधन के त्यौहार पर बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं और अपने भाई की लम्बी उम्र की कामना करती हैं और वो भाई अपनी बहन को अपना प्यार और उसकी सुरक्षा का जिम्मा लेता हैं | इस तरह रक्षाबंधन भाई बहन के प्यार का त्यौहार  हैं | मध्यकालीन युग में राजपूत और मुस्लिमों के बीच संघर्ष चल रहा था, तब चित्तौड़ के राजा की विधवा रानी कर्णावती ने गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह से अपनी और अपनी प्रजा की सुरक्षा का कोई रास्ता न निकलता देख हुमायूं को राखी भेजी थी। तब हुमायू ने उनकी रक्षा कर उन्हें बहन का दर्जा दिया था। तभी से रक्षा बंधन का त्यौहार मनाया जता हैं |

रक्षा बंधन क्यों मनाया जाता हैं ? इसके बारे मैं प्रचलित कथा –

इतिहास का एक दूसरा उदाहरण कृष्ण और द्रोपदी को माना जाता है। कृष्ण भगवान ने राजा शिशुपाल को मारा था। युद्ध के दौरान कृष्ण के बाएं हाथ की उंगली से खून बह रहा था, इसे देखकर द्रोपदी बेहद दुखी हुईं और उन्होंने अपनी साड़ी का टुकड़ा चीरकर कृष्ण की उंगली में बांध दी, जिससे उनका खून बहना बंद हो गया। कहा जाता है तभी से कृष्ण ने द्रोपदी को अपनी बहन स्वीकार कर लिया था। सालों के बाद जब पांडव द्रोपदी को जुए में हार गए थे और भरी सभा में उनका चीरहरण हो रहा था, तब कृष्ण ने द्रोपदी की लाज बचाई थी।

रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता हैं ?

रक्षाबंधन पर्व पर प्रात : स्नानादि करके लड़कियाँ और महिलाएँ पूजा की थाली सजाती हैं। थाली में राखी के साथ रोली या हल्दी, चावल, दीपक, मिठाई और कुछ पैसे भी होते हैं। लड़के और पुरुष तैयार होकर टीका करवाने के लिये पूजा या किसी उपयुक्त स्थान पर बैठते हैं। पहले अपने देवता की पूजा की जाती है, इसके बाद बहन रोली या हल्दी से भाई का टीका करके चावल को टीके पर लगाया जाता है और सिर पर छिड़का जाता है, उसकी आरती उतारी जाती है, दाहिनी कलाई पर राखी बाँधी जाती है और भाई के मुंह में मिठाई दी जाती हैं और भाई ख़ुशी ख़ुशी अपनी बहन की झोली पैसों और उपहारों से भर देता हैं | इस प्रकार रक्षाबंधन के अनुष्ठान को पूरा करने के बाद ही भोजन किया जाता है। प्रत्येक पर्व की तरह उपहारों और खाने-पीने के विशेष पकवानों का महत्त्व रक्षाबन्धन में भी होता है। आमतौर पर दोपहर का भोजन महत्त्वपूर्ण होता है और रक्षाबन्धन का अनुष्ठान पूरा होने तक बहनों द्वारा व्रत रखने की भी परम्परा है। पुरोहित तथा आचार्य सुबह-सुबह यजमानों के घर पहुँचकर उन्हें राखी बाँधते हैं और बदले में धन, वस्त्र और भोजन आदि प्राप्त करते हैं। यह पर्व भारतीय समाज में इतनी व्यापकता और गहराई से समाया हुआ है कि इसका सामाजिक महत्त्व तो है ही, धर्म, पुराण, इतिहास, साहित्य और फ़िल्में भी इससे अछूते नहीं हैं।

रक्षाबंधन की धार्मिक परम्परा

राजस्थान रक्षाबंधन :

राजस्थान में रामराखी और चूड़ाराखी या लूंबा बाँधने का रिवाज़ है। रामराखी सामान्य राखी से भिन्न होती है। इसमें लाल डोरे पर एक पीले छींटों वाला फुँदना लगा होता है। यह केवल भगवान को ही बाँधी जाती है। चूड़ा राखी भाभियों की चूड़ियों में बाँधी जाती है। जोधपुर में राखी के दिन केवल राखी ही नहीं बाँधी जाती, बल्कि दोपहर में पद्मसर और मिनकानाडी पर गोबर, मिट्टी और भस्मी से स्नान कर शरीर को शुद्ध किया जाता है। इसके बाद पूजा की जाती हैं।धार्मिक अनुष्ठान करने के बाद घर आकर हवन किया जाता है, वहीं रेशमी डोरे से राखी बनायी जाती है। राखी को कच्चे दूध से अभिमन्त्रित करते हैं और इसके बाद ही भोजन करने का प्रावधान है।

नेपाली रक्षाबंधन :

नेपाल के पहाड़ी इलाकों में ब्राह्मण एवं क्षेत्रीय समुदाय में रक्षा बन्धन गुरू और भागिनेय के हाथ से बाँधा जाता है। लेकिन दक्षिण सीमा में रहने वाले भारतीय मूल के नेपाली भारतीयों की तरह बहन से राखी बँधवाते हैं।इस दिन बहनें अपने भाई के दायें हाथ पर राखी बाँधकर उसके माथे पर तिलक करती हैं और उसकी दीर्घ आयु की कामना करती हैं। बदले में भाई उनकी रक्षा का वचन देता है। ऐसा माना जाता है कि राखी के रंगबिरंगे धागे भाई-बहन के प्यार के बन्धन को मज़बूत करते है। भाई बहन एक दूसरे को मिठाई खिलाते हैं और सुख-दुख में साथ रहने का विश्वास दिलाते हैं। यह एक ऐसा पावन पर्व है जो भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को पूरा आदर और सम्मान देता है।

उत्तरांचल की रक्षाबंधन :

उत्तरांचल में इसे श्रावणी कहते हैं। इस दिन यजुर्वेदी द्विजों का उपकर्म होता है। उत्सर्जन, स्नान-विधि, ॠषि-तर्पणादि करके नवीन यज्ञोपवीत धारण किया जाता है। ब्राह्मणों का यह सर्वोपरि त्यौहार माना जाता है। वृत्तिवान् ब्राह्मण अपने यजमानों को यज्ञोपवीत तथा राखी देकर दक्षिणा लेते हैं।

अमरनाथ की यात्रा

अमरनाथ की अतिविख्यात धार्मिक यात्रा गुरु पूर्णिमा से प्रारम्भ होकर रक्षाबंधन के दिन सम्पूर्ण होती है। कहते हैं इसी दिन यहाँ का हिमानी शिवलिंग भी अपने पूर्ण आकार को प्राप्त होता है। इस उपलक्ष्य में इस दिन अमरनाथ गुफा में प्रत्येक वर्ष मेले का आयोजन भी होता है।

महाराष्ट्र की रक्षाबंधन
महाराष्ट्र राज्य में यह त्यौहार नारियल पूर्णिमा या श्रावणी के नाम से विख्यात है। इस दिन लोग नदी या समुद्र के तट पर जाकर अपने जनेऊ बदलते हैं और समुद्र की पूजा करते हैं। इस अवसर पर समुद्र के स्वामी वरुण देवता को प्रसन्न करने के लिये नारियल अर्पित करने की परम्परा भी है। यही कारण है कि इस एक दिन के लिये मुंबई के समुद्र तट नारियल के फलों से भर जाते हैं।

 

 

You Must Read

Sarguja University BSC 1st 2nd 3rd Year Result 2018 Download... Sarguja University BSC 1st 2nd 3rd year Result 201...
दीपावली बधाई शायरी शुभकामनाएँ संदेश और चुटकले... दिवाली बधाई शायरी 2017 : दीपावली के त्योंहार पर सभ...
Jammu Kashmir अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला... अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला 4 जवान शहीद जम्मू-...
Devendra Jhajharia Biography World Record Career Family Pers... Devendra Jhajharia Biography : Hello Friends Greet...
RSMSSB Lab Assistant Results 2017 Check Document Verificati... RSMSSB Results 2018  Lab Assistant Document Verifi...
Krishna Janmashtami 2017 Date and Time Puja Muhurat Vrat Puj... Krishna Janmashtami 2017 is the birth day of Lord ...
Romantic Rose Day Status for Whatsapp Facebook Romantic Rose Day Status : Rose Day is celebrated ...
पितृ पक्ष 2017 श्राद्ध का महत्व, तिथि समय, पूजा विधी,पितृ तर... श्राद्ध कब हैं ? और श्राद्ध क्यों मनाया जाता हैं ?...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *