Sankashti Chaturthi Katha Puja Vidhi, Niyam/Upay, Fast Benefits संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा, पूजा विधि, व्रत के नियम उपाय, लाभ, क्या करना चाहिए क्या नहीं देखे पूरी जानकारी

Sankashti Chaturthi Katha Sankashti Chaturthi Puja Vidhi Pooja Vidhanam Sankashti Chaturthi Ka Vrat Kaise Kare Sankashti Chaturthi Vrat Ke Niyam Upay Labh Fast Benefits संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा, पूजा विधि, व्रत के नियम उपाय, लाभ, क्या करना चाहिए क्या नहीं : हिन्दू पंचांग के अनुसार 2021 में संकष्ठी चतुर्थी 24 सितंबर को है | संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश का व्रत रखने और पूजन करने से जीवन के दुख और संकटों का नाश होता है और सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है |

आईए जानते हैं इस दिन भगवान गणेश को प्रसन्न करने के Sankashti Chaturthi Ka Vrat Kaise Kare Chaturthi Vrat Ke Niyam Upay Labh Fast Benefits Sankashti Chaturthi Katha Sankashti Chaturthi Puja Vidhi Pooja Vidhanam संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा, पूजा विधि, व्रत के नियम उपाय, लाभ, क्या करना चाहिए क्या नहीं |

SANKASHTI CHATURTHI KATHA PUJA VIDHI, NIYAMUPAY, FAST BENEFITS

Sankashti Chaturthi Vrat Katha Puja Vidhi, Niyam / Upay, Fast Benefits

भगवान गणेश विघ्नहर्ता और मंगलकर्ता है | हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य या पूजन में सबसे पहले भगवान गणेश का पूजन किया जाता है | ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान श्रीगणेश की विधि-विधान से पूजा करने के साथ संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा पढने व सुनने, संकष्ठी चतुर्थी पूजा विधि नियमानुसार करने से भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त होता है और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं | जानिए संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा, पूजा विधि, व्रत के नियम उपाय, लाभ, क्या करना चाहिए क्या |

Sankashti Chaturthi Katha संकष्ठी चतुर्थी व्रत की कथा Sankashti Chaturthi Vrat Katha

एक बार मां पार्वती स्नान के लिए गईं तो उन्होंने द्वार पर भगवान गणेश को खड़ा कर दिया और कहा कोई अंदर न आ पाए | लेकिन तभी कुछ देर बाद भगवान शिव वहां पहुंच गए तो गणेश जी ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया | भगवान शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने अपने त्रिशूल से गणेश का सिर धड़ से अलग कर दिया | पुत्र गणेश का यह हाल देखकर मां पार्वती बहुत दु,खी हुईं और शिव जी से अपने पुत्र को जीवित करने का हठ करने लगीं |

जब मां पार्वती ने शिव से बहुत अनुरोध किया तो भगवान गणेश को हाथी का सिर लगाकर दूसरा जीवन दिया गया | तब से उनका नाम गजमुख , गजानन हुआ | इसी दिन से भगवान गणपति को प्रथम पूज्य होने का गौरव भी हासिल हुआ और उन्हें वरदान मिला कि जो भी भक्त या देवता आपकी पूजा व व्रत करेगा उनके सारे संकटों का हरण होगा और मनोकामना पूरी होगी |

Sankashti Chaturthi Shayari Status Wishes images Photo

संकष्टी चतुर्थी पूजा विधि Sankashti Chaturthi Puja Vidhi Sankashti Chaturthi Pooja Vidhanam संकष्टी चतुर्थी का व्रत कैसे करें

  • संकष्टी चतुर्थी को प्रातःकाल उठकर स्नानादि करने के पश्चात स्वच्छ वस्त्र धारण करें |
  • भगवान गणेश का ध्यान करते हुए व्रत का संकल्प लें |
  • इसके बाद भगवान गणेश के समक्ष धूप-दीप प्रज्वलित करें |
  • गणेश जी को पुष्प, अक्षत, पंचामृत और दूर्वा अर्पित करें |
  • गणेश जी को बूंदी के लड्डू या मोदक का भोग लगाएं |
  • इसके बाद गणेश जी की आरती करें और संकष्टी चतुर्थी व्रत के महातम्य की कथा पढ़े या सुने करें |
  • पूरे दिन व्रत करने के पश्चात रात्रि में चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद व्रत का पारण करें |
Sankashti Chaturthi Ka Vrat Kaise Kare Sankashti Chaturthi Niyam / Upay
  • संकष्टी चतुर्थी के दिन भूमि के अंदर होने वाले कंद मूल जैसे मूली, प्याज, गाजर, चुकंदर का सेवन नहीं करना चाहिए |
  • इस दिन सूर्योदय से पहले स्नान करके उत्तर दिशा की ओर मुंह करके भगवान गणेश की पूजा करना चाहिए और जल अर्पित करना चाहिए |
  • इस व्रत में तिल का खास महत्व है इसलिए जल में तिल मिलाकर जल से अर्घ्य देने का विधान है |
  • सूर्यास्त के बाद चांद को तिल,गुड़ आदि से अर्घ्य देना चाहिए | इस अर्घ्य के बाद ही व्रती को अपना व्रत खोलना चाहिए |
  • गणेशजी की पूजा के बाद तिल का प्रसाद खाना चाहिए | जो लोग व्रत नहीं रखते हैं उन्हें भी गणेशजी की पूजा अर्चना करके संध्या के समय तिल से बनी चीजें खानी चाहिए |
  • गणेश जी को इस दिन दुर्वा चढ़ाना चाहिए | दुर्वा में अमृत का वास माना जाता है | गणेशजी को दुर्वा अर्पित करने से स्वास्थ का लाभ मिलता है | मान-प्रतिष्ठा और धन सम्मान में भी वृद्धि होती है |
  • पूजा में तुलसी का पत्ता भूलकर भी ना चढ़ाएं, इससे गणेशजी नाराज हो जाते हैं | क्योंकि तुलसी ने गणेश जी को शाप दिया था |
  • इस दिन दूर्वा के अलावा शमी का पत्ता, बेलपत्र, गुड़ और तिल से बने लड्डू भी भगवान गणेश को चढ़ाया जा सकता है | इन सब चीजों के अर्पण से गणेशजी बहुत प्रसन्न होते हैं और पूजा करने वाले को मनोवांक्षित फल प्रदान करते हैं |

संकष्टी चतुर्थी की शायरी बधाई सन्देश शुभकामनाएं फोटों

Sankashti Chaturthi Benefits Sankashti Chaturthi Fast Benefits
  • इस दिन भगवान गणेश की उपासना से हर तरह के संकट का नाश होता है |
  • संतान प्राप्ति और संतान सम्बन्धी समस्याओं का निवारण होता है |
  • अपयश और बदनामी के योग कट जाते हैं |
  • हर तरह के कार्यों की बाधा दूर होती है |
  • धन तथा कर्ज सम्बन्धी समस्याओं में सुधार होता है |
Sankashti Chaturthi Fasting Food

जलधार या फलाहार ग्रहण करें

नोट : यहाँ दी गई जानकारी धार्मिक आस्थाओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है |

Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.