शिक्षक दिवस पर बेस्ट स्कूली कविता और गीत

शिक्षक दिवस पर बेस्ट स्कूली कविता और गीत : भारत के पहले उप राष्ट्रपति और दुसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म-दिवस के अवसर पर शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए भारत भर में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को प्रतेक वर्ष मनाया जाता है। गुरु को हम भगवान का दर्जा देते आये है | उसी के उपलक्ष्य में हम आपके लिए लेकर आये है | कुछ कविताये और गीत जो गुरू के स्थान को भारत में विशेष बनाती है|भारत में गुरु का स्थान सबसे पहले माना गया हैं इस लिये हम अपने पहले गुरु राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को आदर्श मनाकर मानते हैं 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के उपलक्ष पर स्कूल कॉलेज में बच्चे अपने गुरु के समान में गुरु के बारे दो लायन कविता शायरी या निबंध सुनाते हैं | एक दिन के लिये विधार्थी पुरे स्कूल को चलाते हैं |अपने गुरु के स्थान पर रहकर एक दिन बिताते हैं | जिससे पता चलता हैं एक शिक्षक का जीवन कैसा होता हैं | लेकिन आज के दोर में शिक्षक का मान घटता जा रहा हैं | भारत में गुरु और शिष्य का रिश्ता बहुत ही पवित्र माना गया हैं | लेकिन भारत में बढ़ रहे पश्च्यात संस्कृति के कारण आज गुरु और शिष्य का रिश्ता बदनाम हो रहा हैं | लोगो की सोच बदलनी होगी |

‘गुरु ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः।
गुरुः साक्षात परब्रह्म तस्मैः श्री गुरुवेः नमः।।’

भावार्थ : गुरू ही ब्रहमा है, गुरू ही विष्णु है और गुरु की महेश है। साक्षात प्रब्रहम स्वरूप ऐसे गुरू को सादर नमस्कार।

शिक्षक दिवस पर कविता Best Poem on Teacher’s Day

संस्कारो की एक मिसाल बनकर गुरु ही जीवन को सजाता है
कमल के फूल की तरह खिलकर गुरु ही महकता महकाता है |
नये नये आयाम लाकर हर पल गुरु ही डर बनाता है
ज्ञान रूपी धन हमें देकर गुरु भी खुशिया खूब मनाता है |
पाप रूपी लालच से डरने की गुरु ही सिख सिखाता है
देश के लिए मर मिटने का साहस गुरु ही दीखता है |
प्रकाश रूपी आधार बनकर गुरु ही कर्तव्य अपना निभाता है
प्रेम रूपी सरिता की धारा बनकर गुरु ही नैया पार लगाता है |

शिक्षक दिवस की सुभकामनाये

शिक्षक दिवस पर कविता Latest Poem on Teacher’s Day

बच्चों के उज्वल भविष्य को गुरु बनता है
ज्ञान रूपी प्रकाश को गुरु जलाता है |
सही गलत के फर्क को गुरु ही बताता है
अपने विद्यर्थियो को सही ज्ञान गुरु ही देता है |
आसमान की ऊची चोटी पर शिष्य को गुरु ही बिठाता है
बच्चों के भविष्य में निखार गुरु ही लाता है
शिष्य को कभी गुरु नहीं ढाल बनाता है |
असफलता होती है जब किसी कार्य में तो अफ़सोस गुरु ही जताता है
गुरु ही अपने समाज का श्रेष्ट ज्ञाता है

happy Sikshak Diwas

शिक्षक दिवस का गीत Best Geet on Sikshak Diwas

चलो फिर से आज वो नजारा याद कर ले |
गुरुओ के दिल में था वो गीत याद कर ले |
जिसमे बहकर जिसमे बहकर पहुचे थे किनारे पे |
गुरुओ के मेहनत की वो धारा याद कर ले

शिक्षक दिवस हार्दिक बधाई

शिक्षक दिवस गीत Geet on Teacher’s Day

गुरुओ का कद सबसे ऊँचा सारे जहा में
चारों दिशाएँ बोल रही हैं मंत्र ये सबके कान में |

लक्ष्य हो कितना भी कठिन उसे आसान कर देते है गुरु
हम सबकी रहो में आशा के दीप जलाते है गुरु |

शिक्षक दिवस 05 सितंबर का महत्व भाषण और निबंध

गुरु जो सदा उबारे पग पग अन्धकार के भय से
बिना शिक्षा के हम है ऐसे बिना सुगंध सुमन हो जैसे
यही सार प्रमाणित होता है सभी धर्मो के ज्ञान में |

माँ बाप ने सिखाया उंगलिया पकड़ कर चलना
गुरु ने सिखाया कैसे गिरने के बाद है संभालना
गुरु की वजह से आज हम पहुचे है इस मंजिल पर
आज शिक्षक दिवस के दिन करते है सलाम आपको
यही आपने हमको सिखया है |

जय भारत

शिक्षक दिवस के बारे अधिक जानकारी  के लिए यहाँ क्लिक करे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.