अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला ड्राइवर सलीम ने अपनी सूझ बुझ से यात्रियों को बचाया

अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों से भरी बस पर आतंकियों ने की फायरिंग | फायरिंग करने वाले 25 आतंकवादी बताये जा रहे है | रिपोर्ट के अनुसार इस बस को ड्राइवर सलीम चला रहा था| उन्होंने बताया की आतंकीयो ने बस में घुसने की कोसिस भी की लेकिन उसके कंडक्टर ने धक्का देकर बहार धकेल दिया और दरवाजे को बंद कर दिया | रिपोर्ट के अनुसर बस में कुल 54 यात्री सफ़र कर रहे थे जिनमे 7 यात्रियों की जान चली गई और 15 यात्री घायल हो गए | यह घटना सोमवार 10/07/2017 की रात 8.20 मिनट की बताई जा रही है | कश्मीर के आईजी मुनीर खान ने कहा की इस के पीछे लश्कर-ए-तैयबा का हाथा है | इसका मास्टर माइंड आतंकी इस्माइल है |

कब कैसे हुआ आतंकी हमला

बस में बेठे यात्री हर्ष देसाई ने बताया की हम श्रीनगर से 65 किलोमीटर आगे तक आ गए थे। और वहा पर एक मोड़ आया मोड़ में जैसे ही गाडी मुड़ने लगी चारो तरफ गोलियों की आवाज़ आने लगी | करीब 25 आतंकियों ने बस को घेर रखा था | वो लगातार गोलियां चला रहे थे। मैंने बस को वहां से निकालने की कोशिश की। आतंकवादी बस में घुस ने की कोशिश कर रहे थे | लेकिन कंडेक्टर ने चलती बस में आतंकवादी के धक्का देकर बाहर ढकेल दिया और बस का दरवाजा बंद कर लिया। फायरिंग के बीच हमने बस तेज रफ्तार से दौड़ा दी 5 किलोमीटर दूर जाने के बाद आर्मी के जवान दिखाई दिए | उनको उन्होंने पूरी कहानी बताई | वे तुरंत घटनास्थल पर आए लेकिन तबतक हमला करने वाले आतंकवादी वहा से भाग निकले ।

कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा ने जताया अफसोस

कश्मीर की मुख्यमंत्री मेहबूबा ने अस्पताल में जाकर घायलों से मुलाकात की और कहा आप लोग गुजरात से आए हैं हमारे यहां यात्रा करने के लिए और हमरे लोगों ने क्या किया आपके साथ इसके लिए हमें खेद है मेहबूबा ने बाद में मीडिया से कहा सभी कश्मीरियों के सिर शर्म से झुक गए। ये लोग इतने मुश्किलात के बावजूद इतनी दूर से यहां यात्रा करने आते हैं। मेरे पास अल्फाज नहीं हैं इस हमले की निंदा करने के लिए। परन्तु हमला करने वालो को बक्शा नहीं जायेगा |

कहा से आये थे यात्री

अमरनाथ की यात्रा के लिए सभी यात्री गुजरात से  थे | उस बस में  कुल 54  यात्री थे | जिनमे  7 यात्रियों की जान चली गई और 15 यात्री घायल हो गए | बाकि सभी सुरक्षित है |

More Topic To Read According You...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.