Basant Panchami 2021 Date Time Puja Shubh Muhurat Puja Vidhi बसंत पंचमी 2021 में कब है? तिथि डेट शुभ मुहूर्त पूजा विधि

Basant Panchami Date Time 2021 Vasant Panchami Tithi Vasant Panchami Saraswati Puja Shubh Muhurat Vasant Panchami ki Jankari in Hindi. बसंत पंचमी 2021 समय तारीख सरस्वती माता पूजा का शुभ मुहूर्त शुभ समय व पूजा विधि : वसंत पंचमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू त्योहार है | इस दिन विद्या की देवी माँ सरस्वती की पूजा की जाती है | बसंत पंचमी पूर्वी भारत, पश्चिमोत्तर बांग्लादेश, नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है | इस दिन स्त्रियाँ पीले वस्त्र धारण करती हैं | इस साल यानी 2021 में मनाई जाने वाली बसंत पंचमी को लेकर लोगो के मन में काफी सवाल है की

Vasant Panchami Time And Date, Basant Panchami Kab Hai, Basant Panchami 2021 Date, Basant Panchami Kab Ki Hai, Basant Panchami Kab Hai 2021 Mein, Basant Panchami Konsi Tarikh Ki Hai, Basant Panchami Tithi, Basant Panchami Timing 2021, Basant Panchami 2021 Mein Kab Hai इत्यादि | यहाँ Basant Panchami information Vasant Panchami Ki Jankari in Hindi में दी गई है | Basant Panchami 2021 Date And Time Vasant Panchami Tithi Basant Panchami Saraswati Puja Shubh Muhurat Puja Vidhi इस पेज को स्क्रॉल कर देख सकते है |

Basant-Panchami-Date-Time-Saraswati-Puja-Shubh-Muhurat

Basant Panchami Date 2021 बसंत पंचमी 2021 में कब है?

Basant Panchami 2021 Date Vasant Panchami Date Time : पुरे भारत वर्ष में बसंत पंचमी का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | बसंत पंचमी दिनांक / डेट को लेकर लोग लोगो के मन में सवाल है की Basant Panchami Kab Hai Basant Panchami Kab Aati Hai Basant Panchami Kab Ki Hai Basant Panchami Konsi Tarikh Ki Hai Basant Panchami 2021 Mein Kab Hai Basant Panchami Kab Hai 2021 Mein. आपको बता दे की 2021 में बसंत पंचमी 16 फरवरी, मंगलवार Basant Panchami 16 February (Basant Panchami Date 2021) को मनाई जावेगी | हिन्दू कैलेंडर में यह पर्व हर वर्ष माघ शुक्ल की पंचमी को मनाई जाती है |

Basant Panchami Tithi Date Time Puja Muhurat 2021 बसंत पंचमी 2021 डेट और शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी 2021

बसंत पंचमी – 16 फरवरी 2021

सरस्वती पूजा शुभ मुहूर्त – 06:58 AM to 12:35 PM

माघ शुक्ल पंचमी तिथि आरम्भ – 03:36 AM on Feb 16, 2021

माघ शुक्ल पंचमी तिथि समाप्त – 05:46 AM on Feb 17, 2021

Vasant Panchami Tithi 2021 बसंत पंचमी तिथि

Basant Panchami 2021 Tithi : बसंत पंचमी हिन्दू धर्म में मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है | इस दिन सभी लोग माँ सरस्वती की पूजा कर ज्ञानवान होने की प्रार्थना करते हैं | माँ सरस्वती की पूजा करने से अज्ञान भी ज्ञान की दीप जाते हैं | हिन्दू कलेंडर के अनुसार बसंत पंचमी का पर्व हर वर्ष माघ शुक्ल पंचमी को मनाया जाता है | अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह दिन जनवरी / फरवरी महीने में आता है |

Vasant Panchami Timing 2021 Saraswati Puja Shubh Muhurat

Basant Panchami Saraswati Puja Time बंसत पंचमी 2021 शुभ मुहूर्त सरस्वती माँ की पूजा करने का शुभ मुहूर्त / समय : वसन्त पञ्चमी का दिन माँ सरस्वती को समर्पित है इस दिन माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना की जाती है | साल 2021 में बसंत पंचमी 16 फरवरी मंगलवार को मनाई जावेगी | विद्वान ज्योतिषों व पंचांग के अनुसार माघ शुक्ल पंचमी तिथि 16 फरवरी को सुबह 03:36 AM से प्रारम्भ होगी और 17 फरवरी 2021 को 05:46 AM पर समाप्त होगी |

भक्त लोग, ज्ञान प्राप्ति और सुस्ती, आलस्य एवं अज्ञानता से छुटकारा पाने के लिये, बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती की उपासना करते हैं | इस बिच सरस्वती माँ की पूजा करने का शुभ समय / शुभ मुहूर्त सुबह 06:58 AM to 12:35 PM Basant Panchami Timing 2021 Saraswati Puja Shubh Muhurat 06:58 AM to 12:35 PM तक है |

 Basant Panchami Wishes Photo images Pic FB Whatsapp Status

 बसंत पंचमी के बधाई सन्देश शायरी मेसेज

Vasant Panchami in Hindi बसंत पंचमी का महत्व

Basant Panchami Kyu Manaya Jata Hai बसंत पंचमी क्यों मनाते है : प्राचीन भारत और नेपाल में पूरे साल को जिन छह मौसमों में बाँटा जाता था, उनमें वसंत लोगों का सबसे मनचाहा मौसम था | जब फूलों पर बहार आ जाती, खेतों में सरसों का सोना चमकने लगता, जौ और गेहूँ की बालियाँ खिलने लगतीं, आमों के पेड़ों पर बौर आ जाता और हर तरफ़ रंग-बिरंगी तितलियाँ मँडराने लगतीं। भर भर भंवरे भंवराने लगते | वसंत पंचमी का पर्व भारतीय जनजीवन को अनेक तरह से प्रभावित करता है |

प्राचीनकाल से बसंत पंचमी को ज्ञान और कला की देवी माँ सरस्वती के जन्मदिवस के रूप में मनाया जा रहा है | जो शिक्षाविद भारत और भारतीयता से प्रेम करते हैं, वे बसंत पंचमी के दिन माँ शारदे / माँ सरस्वती की पूजा कर उनसे और अधिक ज्ञानवान होने की प्रार्थना करते हैं | कलाकारों का कहना है की जो महत्व सैनिकों के लिए अपने शस्त्रों और विजयादशमी का है, जो विद्वानों के लिए अपनी पुस्तकों और व्यास पूर्णिमा का है, जो व्यापारियों के लिए अपने तराजू, बाट, बहीखातों और दीपावली का है, वही महत्व कलाकारों के लिए वसंत पंचमी का है | चाहे वे कवि हों लेखक हों गायक हों वादक हों नाटककार हों या नृत्यकार हों, सब दिन का प्रारम्भ अपने उपकरणों की पूजा और मां सरस्वती की वंदना से करते हैं | यों तो माघ का यह पूरा मास ही उत्साह देने वाला होता है |

लेकिन वसंत ऋतु आते ही प्रकृति का कण-कण खिल उठता है | मानव तो क्या पशु-पक्षी तक उल्लास से भर जाते हैं | वसंत ऋतु का स्वागत करने के लिए माघ महीने के पाँचवे दिन वसंत पंचमी का एक बड़ा जश्न मनाया जाता है | शास्त्रों में बसंत पंचमी को ऋषि पंचमी से उल्लेखित किया गया है | वसंत पंचमी को अन्य नामो जैसे श्रीपंचमी, ऋषि पंचमी व सरस्वती पूजा के नाम से जाना जाता है |

Vasant Panchami Puja Vidhi सरस्वती पूजा विधि
  • बसंत पंचमी के दिन सुबह जल्दी उठाकर स्नान करने के बाद पीले या सफेद रंग के वस्त्र धारण करें |
  • इसके बाद एक साफ चौकी लेकर उस गंगाजल छिड़क कर सफेद रंग का वस्त्र बिछाकर उस पर मां सरस्वती की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें |
  • मां सरस्वती को सफेद या फिर पीले फूल और सफेद चंदन अर्पित करें और इसके बाद मां सरस्वती का श्रृंगार करें |
  • मां का श्रृंगार करने के बाद ॐ ह्रीं ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नमः मंत्र का जाप करें |
  • इसके बाद मां सरस्वती के चरणों में गुलाल अर्पित करें |
  • गुलाल अर्पित करने के बाद मां सरस्वती की विधिवत पूजा करें |
  • मां सरस्वती का पूजन करने के बाद पुस्तकों और वाद्य यंत्रों की भी अवश्य पूजा करें |
  • इसके बाद वसंत पंचमी की कथा सुने या पढ़ें |
  • कथा सुनने के बाद मां सरस्वती की आरती उतारें और उन्हें दही, हलवा, केसर मिली हुई मिश्री के प्रसाद का भोग लगाएं |
  • अंत में मां सस्वती की धूप व दीप से आरती उतारें और पूजा में हुई किसी भी भूल के लिए क्षमा मांगे |

कुछ जगहों पर वसंत पंचमी के दिन मां की मूर्ति विर्सजन करने की भी परंपरा है। यदि आप भी ऐसा करते हैं तो मां सरस्वती की मूर्ति के साथ उनका सारा समान भी प्रवाहित करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.