World Sports Journalists Day 2 जुलाई विश्व खेल पत्रकारिता दिवस 2020

World Sports Journalists Day अन्तरराष्ट्रीय खेल पत्रकार दिवस Day sports journalist celebrating in 2020 at 2 July. Every year, July 2 is celebrated as World Sports Journalism Day. This day is the day to honor the best works of media giving news of sports. Sports journalism is a specific type of work related to sports which gives money, name, reach and influence. Almost all media groups have a separate division of sports journalism. In today’s era, it is very important to capture every opportunity that can be used to promote peace and brotherhood in the world of sports. India’s most successful captain Sourav Ganguly stepped into sports journalism to start a new innings in his career. Ganguly has been made the chairman of the editorial board of Wisden India. International Sports Press Association इंटरनेशनल स्पोर्ट्स एंड प्रेस एसोसिएशन (एआईपीएस) 1924 में स्थापित हुई थी, इसमें महाद्वीपीय उप-संघों और राष्ट्रीय संघ शामिल हैं इसके सहयोगियों में कई बड़े खेल महासंघ हैं, जैसे अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति, फीफा, आईएएएफ ।जबकि ओलंपिक खेलों को पेरिस में आयोजित किया गया था और पूरे विश्व में खेल पत्रकारों के बीच सहयोग, संबंध और पसंद और नापसंद करने पर जोर दिया गया था।

अन्तरराष्ट्रीय खेल पत्रकार दिवस Day sports journalist celebrating in 2020 at 2 July.

विश्व खेल पत्रकारिता दिवस 2 जुलाई को मनाया जाता हैं | इस दिन अच्छे पत्रकार हैं जिन्होंने पुरे साल में अच्छी खबरे कव्रेज की हैं और खेल जगत में सूचना देने में अहम रोल निभाया हैं | उन को 2 जुलाई को विश्व खेल पत्रकारिता दिवस समानित किया जाता हैं | खेल पत्रकारिता का अर्थ है खेल से संबधित जानकारियों और ख़बरों को लिखना और किसी भी पत्रकारिकता संस्थान का सबसे बड़ा और सफल यंत्र है। देखा जाए तो खेल पत्रकारिता पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रेस संघ द्वारा एकत्रित की जाती है। इसकी स्थापना 2 जुलाई 1924 को पेरिस में चल रहे समर ओलंपिक के दौरान हुई थी। साल 1994 में विश्व खेल पत्रकारिता दिवस को बनाने की असल वजह थी स्पोर्टिंग मीडिया में सभी मेम्बर्स की सफलता का जश्न मनाना। खेल पत्रकारिता के दायरे:- आज यह एक पुरस्कृत व्यवसाय है जो प्रतिभाशाली और कुशल खेल मीडिया पेशेवरों की आवश्यकता है. एक खेल पत्रकार आप अपने विषय के अंदर बाहर पता है और इस व्यवसाय में एक चिह्न बनाने के लिए एक जुनून है की जरूरत हो. यह भी कड़ी मेहनत और जिम्मेदारी की बहुत मांग है. Those who have a tight grip on power, hand in hand with the great social media gurus, want to convince the public that journalists can be replaced by anyone. That the profession does not exist any longer, because everyone can be a journalist. They want us to become timid and resigned peons of information.

Journalists Day

Meaning of sports journalism

“खेल पत्रकारिता” शब्द का अर्थ है कि खेल के विषय पर रिपोर्ट लिखने का एक रूप यह किसी भी समाचार या मीडिया संगठन का एक अनिवार्य तत्व है। खेल पत्रकारिता के उच्च मानकों को बनाए रखने के उद्देश्य से खेल पत्रकारों के बहुत से राष्ट्रीय और स्थानीय संगठन हैं। पूरे विश्व के खेल पत्रकार अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रेस एसोसिएशन (एसोसिएशन इंटरनेशनेल डे ला प्रेसे स्पोर्टिव, एआईपीएस) द्वारा एकजुट हैं।

विश्व खेल पत्रकारिता दिवस पर मीडिया के सभी सदस्यों से आपके पेशेवर काम में श्रेष्ठता का प्रयास करने के लिए आग्रह करता हूं, ताकि विश्व शांति के लिए खेल के रूप में खेल का इस्तेमाल करने के लिए हर अवसर को कैद कर सकें बिना किसी दबाब और निष्पक्ष के बिना।

sports journalism Day

विश्व में खेल के प्रचार के लिए खेल पत्रकारों की सेवाओं को चिह्नित करने के लिए विश्व स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट्स डे 2 जुलाई को आयोजित किया जाता है। यह 1994 में इंटरनेशनल स्पोर्ट्स प्रेस एसोसिएशन (एआईपीएस) द्वारा इसकी स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ के पर स्थापित किया गया था। पेरिस में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक के दौरान 2 जुलाई, 1924 को (एआईपीएस) अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्ट्स प्रेस एसोसिएशन की स्थापना के साथ इस की उत्पति हुई थी। जिसे खेल पत्रकारिता प्रत्येक मीडिया समूह के लिए एक अभिन्न मामले है। खेल पत्रकारिता में संगठनों को केवल अलग-अलग खेलों को दैनिक समाचार पत्रों को समर्पित किया जाता है |

विश्व के खेल पत्रकारों का दिवस खेल मीडिया के सदस्यों से उनके इस पत्रकारिता काम में उत्कृष्टता के लिए मनाया जाता है। पर विश्व शांति के लिए एक खेल के रूप में खेल का उपयोग करने के लिए हर अवसर को केच होना चाहिए, और निष्पक्ष लक्ष्य होना चाहिए। क्योंकि पत्रकारों ने दुनिया के लिए एक महत्वपूर्ण उदाहरण स्थापित किया है। एक पत्रकार खेल की दुनिया के लिए न केवल मूल्य जोड़ सकता है, बल्कि दुनिया को बड़े पैमाने पर – संस्कृति, शांति और अच्छे मूल्यों के लिए जोड़ सकता है।

खेल पत्रकारिता किसे कहते है?

खेल केवल मनोरंजन का साधन नहीं बल्कि वह अच्छे स्वास्थ्य, शारीरिक दमखम और बौद्धिक क्षमता का भी प्रतीक है। यही कारण है किं पूरी दुनिया में आति प्राचीनकाल से खेलों का प्रचलन रहा है। मल्ल-युद्ध, तीरंदाजी, घुड़सवारी, तैराकी, गुल्ली डंडा, पोलो रस्साकशी, मलखंभ, वॉल गेम्स, जैसे आउटडोर या मैदानी खेलों के अलावा चौपड़, चौसर या शतरंज जैसे इन्डोर खेल प्राचीनकाल से ही लोकप्रिय रहे हैं। आधुनिक काल में इन पुराने खेलों के अलावा इनसे मिलते जुलते खेलों तथा अन्य आधुनिक स्पर्धात्मक खेलों ने पूरी दुनिया में अपना वर्चस्व कायम कर रखा है। खेल आधुनिक हों या प्राचीन, खेलों में होनेवाले अद्भुत कारनामों को जगजाहिर करने तथा उसका व्यापक प्रचार-प्रसार करने में खेल पत्रकारिता का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है। आज पूरी दुनिया में खेल यदि लोकप्रियता के शिखर पर हैं तो उसका काफी कुछ श्रेय खेल पत्रकारिता को भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.