गाय के शुभ अशुभ लक्षण : गौ माता / गाय के शुभ अशुभ संकेत शगुन अपशगुन Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun

गाय के शुभ लक्षण गाय के अशुभ लक्षण Gay Ke Shubh Ashubh Lakshan Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun गौ माता / गाय के शुभ अशुभ संकेत शगुन अपशगुन Gay Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun : अगर आप अपना भविष्य जानने के जिज्ञासा रखते है अर्थात भविष्य में होने वाली शुभ अशुभ घटनाओ अच्छे – बुरे कार्यो के संकेतो के बारे में जानना चाहते है तो हम आपको यहाँ गाय अर्थात गौ माता से मिलने वाले शुभ अशुभ संकेत गाय के शुभ अशुभ लक्षण के बारे में बताने जा रहे है |

इस पेज अंत तक आप गौ माता / गाय के शुभ अशुभ संकेत लक्षण शगुन अपशगुन Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है |

Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Lakshan Shagun Apshagun

गाय के शुभ अशुभ लक्षण शुभ अशुभ संकेत शगुन अपशगुन Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Lakshan Shagun Apshagun

हिंदू धर्म में गाय को देवी मां का स्वरूप माना जाता है | मान्यता है कि गाय में 33 करोड़ देवी-देवताओं का निवास है | इसलिए कहा जाता है जहां गाय का वास होता है वहां सुख-समर्द्धि और माँ लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है | लेकिन क्या आप जानते है की गाय से हमे हमारे जीवन में होने वाली शुभ-अशुभ घटनाओ के बारे संकेत देती है | आइये जानते है गाय के शुभ लक्षण गाय के अशुभ लक्षण Gay Ke Shubh Ashubh Lakshan Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun गौ माता / गाय के शुभ अशुभ संकेत शगुन अपशगुन Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket Shagun Apshagun.

रास्ते में गौ माता का दर्शन होना शुभ है या अशुभ

यदि आप घर से किसी शुभ कार्य के लिए निकल रहे हैं और रास्ते में आपको गौ माता के दर्शन हो जाते हैं, तो आप अपने कार्य में अवश्य सफल होंगे | उस समय यदि गाय की आवाज भी सुनाई दे जाए तो इससे सफलता मिलने की संभावना बढ़ जाती है |

गाय का दरवाजे पर आकर खड़ा होना शुभ होता है या अशुभ

घर पर गाय का आना शुभ अशुभ लक्षण संकेत : गाय का दरवाजे पर आकर बोलना शुभ संकेत माना जाता है | शास्त्रों में वर्णित कथा के अनुसार यह दर्शाता है कि भगवान साक्षात आपकी सभी गलतियों को क्षमा करने के लिए द्वार पर खड़े हैं | इस दौरान गाय को रोटी खिलाने से पुण्य की प्राप्ति होती है |

गाय का रंगोली में पैर रखना शुभ है या अशुभ

शास्त्रों के अनुसार आंगन या घर के बाहर बनी रंगोली में गाय का पैर रखना या वहां खड़े हो जाना बहुत ही शुभ सूचक माना जाता है | यह सर्वकामना सिद्धिदायक होता है |

गाय को लांघना शुभ होता है या अशुभ

पद्मपुराण और कर्मपुराण के अनुसार गाय को कभी लांघकर नहीं जाना चाहिए | इससे बनता काम भी बिगड़ जाता है | शास्त्रों के अनुसार गाय को लांघना या लात मारना मौत को दावत देना है, इससे जीवन में अकाल मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है |

गाय के पीठ पर हाथ फेरने के फायदे शुभ अशुभ संकेत

गौ माता की पीठ पर कूबड़ होता है, शास्त्रों के अनुसार कूबड़ में सूर्य केतु नाड़ी होती है | प्रतिदिन पीठ पर हांथ फेरने से समस्त रोगों का नाश होता है और व्यक्ति स्वस्थ रहता है |

जीवन में मिलने वाले शुभ – अशुभ कार्यो व घटनाओ के बारे में यहाँ से जाने

नवग्रहों की शांति के लिए गाय के शुभ लक्षण

गाय को नियमित तौर पर भोजन कराने से नवग्रहों की शांति होती है | ऐसे में नियमित तौर पर खुद भोजन करने से पहले गाय को भोजन कराएं | ऐसा करने से जीवन में सुख समृद्धि का वास होता है |

गाय के शुभ लक्षण Gay Ke Shubh Lakshan

गौ माता अर्थात गाय के गोबर से बने उपलों से प्रतिदिन घर, मंदिर व दुकान, परिसर में घूप करने से वातावरण शुद्ध होता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है |

यहाँ से पढ़े –  घर में छिपकली का आना शुभ/अशुभ व शरीर पर गिरने के संकेत

गाय के शुभ अशुभ संकेत Gay Ke Shubh Ashubh Sanket

यदि लगातार मेहनत और संघर्ष के बाद भी आपको सफलता की प्राप्ति नहीं हो रही है यानि आपके हांथ की रेखा सोई हुई है तो हथेली पर गुड़ और चना रखकर गाय को खिलाएं | इससे सोए हुए भाग्य की रेखा खुल जाती है और सफलता की प्राप्ति होती है |

गाय को रोटी खिलाना शुभ होता है या अशुभ

जो भी मनुष्य प्रतिदिन गाय की सेवा करता है और गाय को चारा देने के बाद रोटी खिलाता है, उसके कार्य में आने वाली सभी विघ्न बाधाएं अपने आप खत्म हो जाती हैं |

यहाँ से पढ़ें – घर में चींटी आने के क्या संकेत है

गाय का रंभाना / बोलना शुभ होता है या अशुभ

गौ माता का रंभाना जाते समय गाय के लगातार रंभाने की आवाज सुनाई दे तो समझना चाहिए कि यात्रा क्लेशकारी हो सकती है | कोशिश करें कि आप यात्रा पर न जाएं | यदि यात्रा अधिक जरुरी है तो गाय को ग्रास खिलाकर और भगवान गिरधर गोपाल का स्मरण करके निकलें | इससे दुर्योग टल जाएगा |

गाय के पैरों में लगी मिट्टी का तिलक करना शुभ होता है अशुभ

ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार गौ माता के पैरों में समस्त तीर्थ स्थल का वास माना गया है, जो व्यक्ति गाय के पैरों में लगी मिट्टी का नित्य तिलक लगाता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और विशेष फल की प्राप्ति होती है |

अच्छा समय आने, भाग्य बदलने व किस्मत खुलने के संकेत

सुबह जागने के बाद सबसे पहले गौ माता के दर्शन करना शुभ होता है अशुभ

गौ माता में 36 करोड़ देवी-देवताओ का वास माना जाता है | महाभारत काल के अनुसार जो व्यक्ति सुबह जागने के बाद सबसे पहले गौ माता के दर्शन करता है उसे कभी अकाल मत्यु नहीं हो सकती |

गौ माता के शुभ अशुभ लक्षण शुभ अशुभ संकेत शगुन अपशगुन Gay Ke Shubh Ashubh Sanket Lakshan Shagun Apshagun

यहाँ आप देख रहे है गाय के शुभ अशुभ लक्षण Gay Ke Shubh Ashubh Lakshan गाय के शुभ लक्षण Gay Ke Shubh Lakshan गाय के अशुभ लक्षण Gay Ke Ashubh Lakshan गौ माता के शुभ संकेत Gau Mata Ke Shubh Sanket गौ माता के अशुभ संकेत Gau Mata Ke Ashubh Sanket गौ माता के शुभ अशुभ संकेत Gau Mata Ke Shubh Ashubh Sanket गाय के शुभ अशुभ संकेत Gay Ke Shubh Ashubh Sanket गाय के अशुभ संकेत Gay Ke Ashubh Sanket गाय के शुभ संकेत Gay Ke Shubh Sanket.

यहाँ देखे घर में बिल्ली को पालना, बिल्ली का रोना,लड़ना, रस्ता काटना क्या संकेत देता है

गाय के शुभ लक्षण गाय के शुभ संकेत शगुन Gay Ke Shubh Lakshan Shubh Sanket Shagun
  • ज्योतिष में गोधू‍लि का समय विवाह के लिए सर्वोत्तम माना गया है |
  • यदि यात्रा के प्रारंभ में गाय सामने पड़ जाए अथवा अपने बछड़े को दूध पिलाती हुई सामने आ जाए तो यात्रा सफल होती है |
  • जिस घर में गाय होती है, उसमें वास्तुदोष स्वत: ही समाप्त हो जाता है |
  • जन्मपत्री में यदि शुक्र अपनी नीच राशि कन्या पर हो, शुक्र की दशा चल रही हो या शुक्र अशुभ भाव (6, 8, 12)- में स्‍थित हो तो प्रात:काल के भोजन में से एक रोटी सफेद रंग की गाय को खिलाने से शुक्र का नीचत्व एवं शुक्र संबंधी कुदोष स्वत: समाप्त हो जाता है |
  • सूर्य-केतु नाड़ी में होने के फलस्वरूप गाय की पूजा करनी चाहिए, दोष समाप्त होंगे |
  • रात के समय अगर गाय हुंकार भरती या पुकारती है, तो यह ही शुभ शकुन माना जाता है |
  • यदि बुरे स्वप्न दिखाई दें तो मनुष्य गोमाता का नाम ले, बुरे स्वप्न दिखने बंद हो जाएंगे |

सपने में सांप का दिखना क्या संकेत देता है – यंहा पढ़ें

गौ माता के शुभ लक्षण गाय के शुभ संकेत शगुन Gau Mata Ke Shubh Lakshan Shubh Sanket Shagun
  • पितृदोष से मुक्ति- सूर्य, चंद्र, मंगल या शुक्र की युति राहु से हो तो पितृदोष होता है | यह भी मान्यता है कि सूर्य का संबंध पिता से एवं मंगल का संबंध रक्त से होने के कारण सूर्य यदि शनि, राहु या केतु के साथ स्थित हो या दृष्टि संबंध हो तथा मंगल की यु‍ति राहु या केतु से हो तो पितृदोष होता है | इस दोष से जीवन संघर्षमय बन जाता है | यदि पितृदोष हो तो गाय को प्रतिदिन या अमावस्या को रोटी, गुड़, चारा आदि खिलाने से पितृदोष समाप्त हो जाता है |
  • किसी की जन्मपत्री में सूर्य नीच राशि तुला पर हो या अशुभ स्‍थिति में हो अथवा केतु के द्वारा परेशानियां आ रही हों तो गाय में
  • गाय के घी का एक नाम आयु भी है- ‘आयुर्वै घृतम्’ | अत: गाय के दूध-घी से व्यक्ति दीर्घायु होता है | हस्तरेखा में आयुरेखा टूटी हुई हो तो गाय का घी काम में लें तथा गाय की पूजा करें |
  • जब गाय के ऊपर बहुत सारी मक्खियां बैठी हुई दिखाई दें, तो अच्छी वर्षा होने की संभावना मानी जाती है |
  • गोमाता के नेत्रों में प्रकाश स्वरूप भगवान सूर्य तथा ज्योत्स्ना के अधिष्ठाता चन्द्रदेव का निवास होता है | जन्मपत्री में सूर्य-चन्द्र कमजोर हो तो गोनेत्र के दर्शन करें, लाभ होगा |

यहाँ से जाने – नींद में सपने देखने के शुभ और अशुभ संकेत 

गाय के अशुभ लक्षण गाय के अशुभ संकेत अपशगुन Gay Ke Ashubh Lakshan Ashubh Sanket Apshagun
  • यात्रा पर जा रहे व्यक्ति को गाय अपने खुरों से जमीन खुरचती दिखाई दे तो आने वाले समय में उसे बीमारी का सामना करना पड़ सकता है |
  • अगर किसी को गाय आधी रात में रंभाती या रोती हुई दिखाई दे, तो सफर में डराने वाली परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है |
  • गौ का घर की छत पर आ जाना, उनके स्तनों से रुधिर का टपकना, अद्भुत घटनाएं कही जाती है | गौ द्वारा यज्ञ स्थान का अतिक्रमण करना अशुभ माना गया है |
  • एक गौ का दूसरी गौ का दूध पीना आदि गुह्य सूत्रों में गौ से संबंधित अपशकुन कहे गए हैं, जिनके प्रायश्चित करने के निर्देश किए गए हैं |
  • बृहस्पति अगर मकर राशि में बैठा हो या आपको बृहस्पति से संबंधित अशुभ प्रभाव मिल रहे हों तो आपको इसकी शांति के लिए गाय को गुड़-चने के साथ रोटी खिलानी चाहिए |

विशेष सूचना : ये सभी जानकारी विभिन्न स्रोतों से उपलब्ध करवाई गई हैं जो की धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है | Rkalert.in इस बात की पुष्टि नहीं करता है |

Follow On FacebookClick Here
Join Facebook GroupClick Here
Follow On TwitterClick Here
Subscribe On YouTubeClick Here
Follow On InstagramClick Here
Join On TelegramClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.